Saturday, October 23, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'तुम सभी मारे जाओगे.. अल्लाहु अकबर': फ्रांस के जिस स्कूल में पढ़ाते थे सैमुअल...

‘तुम सभी मारे जाओगे.. अल्लाहु अकबर’: फ्रांस के जिस स्कूल में पढ़ाते थे सैमुअल पैटी, उसे धमकी

हाल ही में फ्रांस में अभिव्यक्ति की आज़ादी से जुड़े एक कोर्स की पढ़ाई के दौरान एक छात्र भड़क गया और उसने शिक्षक को धमकी दे डाली। सैमुअल की एक छात्र ने सिर्फ इसीलिए हत्या कर दी थी, क्योंकि उन्होंने कक्षा में पैगम्बर मुहम्मद का कार्टून दिखाया था, जो फ्रेंच पत्रिका ‘शार्ली हेब्दो’ में प्रकाशित हुआ था।

फ्रांस में शिक्षक सैमुअल पैटी की हत्या को लगभग एक महीने हो चुके हैं और वहाँ हुए विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला भी पूरी तरह बंद नहीं हुआ है। इसी बीच उस स्कूल को फिर से धमकी मिली है, जहाँ सैमुअल पैटी पढ़ाया करते थे। ‘Sainte-Anne’ स्कूल के शिक्षकों को को फिर से धमकी दी गई है। इस्लामी कट्टरवादियों ने फिर से धमकाया है और उन सभी को जान से मार डालने की धमकी दी है।

फ्रांस के बौर्डिओक्स के पास बॉस्केट में स्थित इस स्कूल में एक बार फिर से भय का वातावरण व्याप्त हो गया है। रविवार (नवंबर 15, 2020) को स्कूल में लिखा हुआ मिला, “तुम सभी मारे जाओगे। स.. सैमुअल पैटी.. अल्लाहु अकबर”। इतना ही नहीं, दो अन्य स्कूलों में भी दीवारों पर इस तरह की धमकियाँ दी गई हैं। इस मामले में अभी किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है, लेकिन पुलिस जाँच में आतंक समर्थकों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है।

हाल ही में फ्रांस के ‘Savigny-le-Temple (Seine-et-Marne)’ क्षेत्र में अभिव्यक्ति की आज़ादी से जुड़े एक कोर्स की पढ़ाई के दौरान एक छात्र भड़क गया और उसने शिक्षक को धमकी दे डाली कि वो उसका वही हाल कर देगा, जो सैमुअल पैटी का हुआ था। सैमुअल की एक छात्र ने सिर्फ इसीलिए हत्या कर दी थी, क्योंकि उन्होंने कक्षा में पैगम्बर मुहम्मद का कार्टून दिखाया था, जो फ्रेंच पत्रिका ‘शार्ली हेब्दो’ में प्रकाशित हुआ था।

फ्रांस में शिक्षक पैटी की हत्या के बाद से ही सरकार इस्लामी कट्टरवाद के खिलाफ एक्शन में है। राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने भी कहा था कि आज इस्लाम के नाम पर हिंसा और हत्याओं को बढ़ावा दिया जा रहा है और ऐसे लोग हैं, जो इस्लाम के नाम पर हिंसक अभियान चलाते हुए हत्याओं और नरसंहार को जायज ठहरा रहे हैं। उन्होंने कहा था कि आतंकवाद इस्लाम की भी समस्या है, क्योंकि इसके 80% पीड़ित मुस्लिम ही हैं और वो इसके पहले पीड़ित हैं। उन्होंने विश्वास दिलाया था कि इस्लामी कट्टरवाद के खिलाफ जंग जारी रहेगी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जेल में रामायण की कहानी पढ़ कर समय व्यतीत कर रहे हैं आर्यन खान, लाइब्रेरी से मँगाई किताबें: सामान्य कैदी की तरह ही रखा...

जेल में आर्यन खान 'गोल्डन लायन' और रामायण की कहानी से जुड़ी एक पुस्तक पढ़ रहे हैं। पहले क्वारंटाइन में रखा गया था, लेकिन अब सामान्य वार्ड में हैं।

मिलाद-उल-नबी का जुलूस, Pak में महिला को ‘हूर’ बना कर लगाई प्रदर्शनी: वायरल वीडियो को मौलाना ने बताया रसूल अल्लाह का अपमान

पाकिस्तान के मुल्तान शहर का ये वीडियो मिलाद-उल-नबी त्योहार के दिन का है। वीडियो में प्रदर्शनी में एक महिला को सजा-धजा कर बैठे दिखाया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
131,165FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe