Thursday, September 23, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयफुटबॉल मैच-खचाखच भरे स्टेडियम, लग रहे ‘F*ck जो बायडेन’ के नारे: अमेरिकी राष्ट्रपति के...

फुटबॉल मैच-खचाखच भरे स्टेडियम, लग रहे ‘F*ck जो बायडेन’ के नारे: अमेरिकी राष्ट्रपति के गले की हड्डी बना तालिबान

अगस्त के आखिरी हफ्ते में बायडेन की अप्रूवल रेटिंग गिरकर 41 फीसदी पर आ गई थी, जो अब तक का सबसे निचला स्तर है।

अफगानिस्तान की सत्ता पर जिस तरह से तालिबान काबिज हुआ और जिन हालातों में अमेरिकी सेना ने वहाँ से पलायन किया उसकी वजह से जो बायडेन निशाने पर हैं। घर में ही अमेरिकी राष्ट्रपति का लगातार विरोध हो रहा है और उनकी लोकप्रियता दिनोंदिन गिरती जा रही है। सार्वजनिक तौर पर विरोधों के बाद अब ‘f*ck जो बायडेन’ के नारे भी सुनाई पड़ रहे हैं।

कई कॉलेज फुटबॉल मैच के दौरान स्टेडियम में इस तरह के नारे सुने गए हैं। इसके अलावा इसे कई अन्य जगहों पर भी इसी तरह के नारों को सुना गया।

सोशल मीडिया पर ऐसे वीडियो की बाढ़ आ गई है जिसमें लोग खुद या दूसरे इस तरह के नारे लगाते दिख रहे हैं। अपलोड किए गए वीडियो में से बहुत सारे कॉलेज फ़ुटबॉल मैचों के दौरान कैप्चर किए गए थे।

वीडियो में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है कि बहुत ही कम समय में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बायडेन की देश में लोकप्रियता में किस हद तक गिरावट आई है।

अफगानिस्तान से वापसी के बीच बायडेन की अप्रूवल रेटिंग में भारी गिरावट आई है। तालिबान के सत्ता में वापस आने से सैकड़ों अमेरिकी अफगानिस्तान में फँसे रह गए हैं। इसके अलावा अमेरिकी करदाताओं के पैसे से बने अरबों के हथियार और उपकरण भी अफगानिस्तान में छोड़ने पड़े हैं जो अब तालिबान के कब्जे में हैं।

इसी को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बायडेनन की कड़ी आलोचना की जा रही है। इतना ही नहीं उनके राजनीतिक विरोधियों ने तो उनका इस्तीफा माँगना भी शुरू कर दिया है। यूएसए टुडे के मुताबिक, अगस्त के आखिरी हफ्ते में बायडेन की अप्रूवल रेटिंग गिरकर 41 फीसदी पर आ गई थी, जो अब तक का सबसे निचला स्तर है। जबकि, पिछले सप्ताह तक अधिकतर सर्वे में राष्ट्रपति जो बायडेन की अप्रूवल रेटिंग को 50 फीसदी से ऊपर दिखाया गया था।

हालाँकि, सर्वेक्षण में यह भी बताया गया है कि 87 प्रतिशत डेमोक्रेट का अभी भी उन पर भरोसा कायम है। लेकिन तटस्थ लोगों में से केवल 32 प्रतिशत का मानना है कि बायडेन का काम संतोषजनक है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,782FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe