Thursday, May 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयएक और हिंदू मंदिर पर इस्लामी कट्टरपंथियों का हमला: मूर्तियाँ तोड़ी, कालिख पोती, ग्रंथों...

एक और हिंदू मंदिर पर इस्लामी कट्टरपंथियों का हमला: मूर्तियाँ तोड़ी, कालिख पोती, ग्रंथों को नुकसान पहुँचाया

थारपरकर के चाचरो में इस्लामी कट्टरपंथियों ने माता रानी भातियानी मंदिर में पवित्र मूर्ति और ग्रंथों को नुकसान पहुँचाया। कट्टरपंथियों ने मंदिर पर हमला किया, मूर्तियों को क्षतिग्रस्त किया और माता रानी भटियानी की मूर्ति भी तोड़ दी।

दुनिया भर में मानवाधिकारों की बात करने वाले पाकिस्तान में किस प्रकार अल्पसंख्यकों के साथ बर्बर व्‍यवहार किया जाता है, इसकी एक और ताजी तस्‍वीर वहाँ के सिंध प्रांत में देखने को मिली। सिंध प्रांत के थारपरकर के चाचरो इलाके में कट्टरपंथियों ने हिंदू में जमकर तोड़फोड़ की। कट्टरपंथियों ने मंदिर पर हमला किया, मूर्तियों को क्षतिग्रस्त किया और माता रानी भटियानी की मूर्ति भी तोड़ दी।

पाकिस्तान में हिंदू और अन्य धर्म स्थलों को नुकसान पहुँचाने का सिलसिला थम नहीं रहा। पाकिस्तान में ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हुए हमले के बाद अब उपद्रवियों ने हिंदू समुदाय के मंदिर को निशाना बनाया। प्रधानमंत्री इमरान खान आए दिन कश्मीर को लेकर भारत सरकार पर निशाना साधते रहते हैं जबकि खुद उनके देश में अल्पसंख्यकों के साथ उत्पीड़न की खबरें कम होती नहीं दिख रही हैं। 

पत्रकार नायला इनायत ने हिंदू मंदिर पर हुए हमले की तस्वीरें शेयर करते हुए ट्वीट किया, “सिंध में अब एक और हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ की गई। थारपरकर के चाचरो में भीड़ ने माता रानी भातियानी मंदिर में पवित्र मूर्ति और ग्रंथों को नुकसान पहुँचाया।” नायला ने अपने ट्विटर हैंडल पर घटनास्थल की चार तस्वीरें भी शेयर की हैं। इसमें देखा जा सकता है कि उपद्रवियों ने मातारानी कू मूर्ति पर काला रंग पोत दिया है और इसके अलावा तोड़फोड़ भी की गई है। साथ ही मंदिर को भी तोड़ने की कोशिश की गई है।

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हुई पत्थरबाजी की निंदा पूरे विश्व में हुई थी। इससे पहले सितंबर 2019 में भी सिंध में ही एक और हिंदू मंदिर में कट्टरपंथियों ने तोड़फोड़ की थी। इसी महीने पाकिस्तान में ननकाना साहिब पर पत्थरबाजी का एक वीडियो वायरल हुआ था। इस वीडियो में एक प्रदर्शनकारी ने पवित्र धर्मस्थल का नाम बदलकर गुलाम अली मुस्तफा करने की धमकी भी दी थी। 

कट्टरपंथी यहाँ सिख विरोधी नारे लगा रहे थे। शुक्रवार (3 जनवरी, 2020) को सिखों के पवित्र धर्मस्थल ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर मुस्लिम भीड़ ने पत्थरबाज़ी की, सिखों के साथ मारपीट की और उनके घरों में भी पत्थरबाज़ी की। बता दें कि इस घटना को अंजाम तब दिया गया था, जब मुस्लिम समुदाय के लोग जुमे की नमाज अता कर अपने घर लौट रहे थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोहिणी आचार्य के पहुँचने के बाद शुरू हुई हिंसा, पूर्व CM का बॉडीगार्ड लेकर घूम रही थीं: बिहार पुलिस ने दर्ज की 7 FIR,...

राबड़ी आवास पर उपस्थित बॉडीगार्ड और पुलिसकर्मियों से पूरे मामले में पूछताछ की इस दौरान विशेष अधिकारी मौजूद रहे।

मी लॉर्ड! भीड़ का चेहरा भी होता है, मजहब भी होता है… यदि यह सच नहीं तो ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारों के साथ ‘काफिरों’ पर...

राजस्थान हाईकोर्ट के जज फरजंद अली 18 मुस्लिमों को जमानत दे देते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि चारभुजा नाथ की यात्रा पर इस्लामी मजहबी स्थल के सामने हमला करने वालों का कोई मजहब नहीं था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -