Sunday, September 25, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअफगानिस्तान की 6 प्रांतीय राजधानियों पर तालिबानी कब्जा: भारत ने मजार-ए-शरीफ से अपने नागरिकों...

अफगानिस्तान की 6 प्रांतीय राजधानियों पर तालिबानी कब्जा: भारत ने मजार-ए-शरीफ से अपने नागरिकों को बुलाया वापस

मजार-ए-शरीफ अफगानिस्तान का चौथा बड़ा शहर है। यहाँ भारत का अंतिम भारतीय वाणिज्य दूतावास स्थित है। यह शहर अफगानिस्तान के बाल्ख प्रांत के अंतर्गत आता है। तालिबान ने अब तक 6 प्रांतीय राजधानियों पर कब्जा कर लिया है।

अफगानिस्तान में तालिबान औऱ वहाँ की सरकार के बीच जारी संघर्ष के बीच अफगानिस्तान में कॉन्सुलेट में कार्यरत भारतीय कर्मचारियों को भारत वापस लौटने को कहा है। वहाँ के मजार-ए-शरीफ शहर में स्थित कॉन्सुलेट में कुछ अधिकारी और अन्य भारतीय अभी मौजूद हैं। अब इन सभी को वहाँ से सुरक्षित निकालने की जिम्मेदारी भारतीय वायुसेना को दी गई है।

मजार-ए-शरीफ अफगानिस्तान का चौथा बड़ा शहर है। यहाँ भारत का अंतिम भारतीय वाणिज्य दूतावास स्थित है। यह शहर अफगानिस्तान के बाल्ख प्रांत के अंतर्गत आता है। तालिबान ने अब तक 6 प्रांतीय राजधानियों पर कब्जा कर लिया है।

मंगलवार (10 अगस्त 2021) को मजार-ए-शरीफ से एक स्पेशल फ्लाइट नई दिल्ली के लिए रवाना हो रही है। मजार-ए-शरीफ औऱ उसके आसपास रहने वाले शाम की फ्लाइट से नई दिल्ली के लिए रवाना हो जाए। मजार में भारतीय कान्सुलेट की ओर से कहा गया है कि जो भी भारतीय नई दिल्ली रवाना होना चाहते हैं, वह तुरंत अपना पूरा नाम, पासपोर्ट नंबर और अन्य जानकारी इन नंबरों पर 0785891303, 0785891301 व्हाट्सएप पर भेज सकते हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, इससे पहले पिछले महीने कंधार में भारतीय कॉन्सुलेट से 50 भारतीय राजनयिकों औऱ सुरक्षा अधिकारियों को वापस लाया गया था। सरकारी आँकड़ों के मुताबिक फिलहाल करीब 1500 भारतीय अफगानिस्तान में रह रहे हैं।

पिछले हफ्ते विदेश मंत्रालय ने लोकसभा में कहा था कि भारत सतर्क है और संघर्षग्रस्त देश में भारतीयों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक उपाय कर रहा है।

भारतीय फोटो पत्रकार दानिश सिद्दीकी की कंधार शहर के स्पिन बोल्डक जिले में तालिबान द्वारा की गई हत्या के बाद भी भारतीय दूतावास ने अफगानिस्तान में आने, रहने और काम करने वाले अपने नागरिकों को अपनी सुरक्षा के संबंध में अत्यधिक सावधानी बरतने और देश के विभिन्न हिस्सों में हिंसा की बढ़ती घटनाओं के मद्देनजर सभी प्रकार की गैर-जरूरी यात्रा से बचने के लिए कहा था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

’20 साल में दोगुनी हो गई मुस्लिमों की जनसंख्या, संसद में उठी थी शरिया की माँग’: नेपाल के सांसद ने बताया – यहाँ के...

सांसद अभिषेक प्रताप शाह ने बताया कि नेपाल की केंद्रीय और प्रादेशिक राजनीति में कई मुस्लिम सक्रिय है और मुस्लिमों के लिए बजट भी पास होता है, मदरसों को अनुदान मिलता है।

अब उत्तर प्रदेश के हर स्कूल में अनिवार्य होगी योग की शिक्षा, योगी सरकार ने तैयार किया ड्राफ्ट: खेल टूर्नामेंट्स के लिए बच्चों को...

योगी आदित्यनाथ की सरकार ने उत्तर प्रदेश के सभी स्कूलों में योग को अनिवार्य करेगी। इसका मसौदा तैयार कर लिया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,170FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe