Wednesday, September 22, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय600 की क्षमता वाले जेल में थे 2000 से ज्यादा कैदी, आग लगी तो...

600 की क्षमता वाले जेल में थे 2000 से ज्यादा कैदी, आग लगी तो जिंदा जले 41: इंडोनेशिया की घटना

जिस ब्लॉक में आग लगी थी उसमें 38 की जगह 122 कैदियों को ठूँस कर रखा गया था। आशंका जताई जा रही है कि शॉट सर्किट की वजह से आग लगी होगी।

इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता से सटे एक जेल में बुधवार (9 अगस्त 2021) को भीषण आग लग गई। हादसे में 41 कैदी जिंदा जलकर मर गए। 39 अन्य के झुलसने की खबर है। रिपोर्ट के अनुसार इस जेल में 600 कैदियों को रखने की क्षमता थी। लेकिन यहाँ 2000 से ज्यादा कैदी रखे गए थे।

मिली जानकारी के अनुसार आग जकार्ता के बाहरी इलाके में स्थित तांगेरांग जेल के ‘सी’ ब्लॉक में लगी। इस जेल में ड्रग्स की तस्करी से जुड़े अपराधियों को रखा जाता है। आग लगने की वजह का पता नहीं चल पाया है।

जिस ब्लॉक में आग लगी थी उसमें 38 की जगह 122 कैदियों को ठूँस कर रखा गया था। आशंका जताई जा रही है कि शॉट सर्किट की वजह से आग लगी होगी। इंडोनेशिया की ज्यादातर जेलों में क्षमता से अधिक कैदी हैं। यहाँ जेल तोड़ने और आग लगने की घटना सामान्य है। ज्यादातर कैदी ड्रग्स की तस्करी से जुड़े हैं। इन्हें ड्रग्स के खिलाफ चलाए गए अभियान के दौरान गिरफ्तार किया गया था। फंड की कमी की वजह से जेलों की हालत बदतर है।

न्याय मंत्रालय के सुधार विभाग के प्रवक्ता रिका अपरिआंती के अनुसार कई घंटों की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। घायल कैदियों का इलाज चल रहा है। हादसे के जो वीडियो सामने आए हैं उनमें एक इमारत के ऊपर से आग की लपटों की बुझाने की कोशिश कर रहे अग्निशामकों को देखा जा सकता है। अधिकारियों ने बताया कि घायलों में 8 की हालत काफी गंभीर है। पुलिस प्रवक्ता युसरी यूनुस ने मेट्रो टीवी को बताया कि शुरुआती संदेह इस बात का है कि यह आग बिजली के शॉर्ट सर्किट की वजह से लगी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

60 साल में भारत में 5 गुना हुए मुस्लिम, आज भी बच्चे पैदा करने की रफ्तार सबसे तेज: अमेरिकी थिंक टैंक ने भी किया...

अध्ययन के अनुसार 1951 से 2011 के बीच भारत की आबादी तिगुनी हुई। लेकिन इसी दौरान मुस्लिमों की आबादी 5 गुना हो गई।

मुर्गा काटने वाले औजार से हमला, ब्रजेंद्र दुबे की मेमरी लॉस, भाई विवेक का चल रहा इलाज: फिरोज, अफरोज समेत 5 आरोपित

मध्य प्रदेश में रीवा में मुस्लिम भीड़ के हमले में घायल ब्रजेंद्र का दिमागी संतुलन बिगड़ गया है। वो कभी-कभी लोगों को पहचान नहीं पाते हैं। उनके भाई विवेक को...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,707FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe