Thursday, May 30, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयचर्च के बाहर बम बाँध खुद को उड़ा लिया - 2 की मौत, 14...

चर्च के बाहर बम बाँध खुद को उड़ा लिया – 2 की मौत, 14 घायल: CCTV में कैद हुआ ब्लास्ट, दूर तक बिखरे क्षत-विक्षत टुकड़े

कैथोलिक चर्च के बाहर एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को बम विस्फोट करके उड़ा लिया। इस ब्लास्ट में 2 लोगों की मौत जबकि 14 के घायल होने की रिपोर्ट। आतंकी संगठन जमाह-अंशरुत-दौला (JAD) को...

विश्व के सबसे बड़े इस्लामिक देश इंडोनेशिया के मकस्सर शहर में रविवार को एक कैथोलिक चर्च के बाहर एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को बम विस्फोट करके उड़ा लिया। ‘ईस्टर होली वीक’ के पहले दिन हुए इस ब्लास्ट में 2 लोगों की मौत जबकि 14 के घायल होने की रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय मीडिया में अब तक आई है।

दक्षिण सुलावेसी पुलिस के प्रवक्ता ई जुल्पान के मुताबिक जिस वक्त ये ब्लास्ट हुआ, उस दौरान अधिकतर लोग चर्च के भीतर ही थे। धमाके के बाद घटना स्थल पर मानव शरीर के क्षत-विक्षत टुकड़े मिले हैं। रिपोर्ट लिखे जाने तक हालाँकि यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि वो केवल हमलावर के थे या किसी और के भी हैं।

चर्च के पादरी ने कहा- 10 लोग घायल हुए

जिस चर्च के बाहर यह ब्लास्ट हुआ, उसके पादरी फादर विल्हेमुस तुलक ने स्थानीय मेट्रो टीवी को बताया कि एक व्यक्ति आत्मघाती हमलावर को पकड़े हुए घायल हो गया था, जिसे मिला कर कुल 10 लोग इसमें घायल हुए हैं, जिनमें से कुछ की हालत गंभीर थी। ब्लास्ट इतना तेज था कि पास की पार्किंग में खड़ी कारें भी इससे क्षतिग्रस्त हो गईं। फिलहाल घटनास्थल के चारों तरफ से सील कर पुलिस ने जाँच शुरू कर दी है।

आतंकी संगठन JAD पर हमले का शक

इस हमले के पीछे किसका हाथ है, यह अभी तक पता नहीं चल सका है। अभी तक किसी आतंकी संगठन ने इसकी जिम्मेदारी भी नहीं ली है। लेकिन, पुलिस ने इस सुसाइ़ड अटैक के लिए इस्लामिक स्टेट से प्रेरित आतंकी संगठन जमाह-अंशरुत-दौला (JAD) को जिम्मेदार माना है। इसी आतंकी संगठन ने 2018 में इंडोनेशिया के चर्चों और सुरबाया शहर में एक पुलिस चौकी पर हमला किया था। उस घटना में 30 से अधिक लोग मारे गए थे।

2020 में इंडोनेशिया में सबसे घातक इस्लामी आतंकवादी हमला बाली के पर्यटक द्वीप पर हुआ था, जिसमें हमलावरों ने 202 लोगों का कत्लेआम किया था। मरने वाले ज्यादातर विदेशी टूरिस्ट थे। एक समय इंडोनेशिया ने उग्रवाद को कुचल दिया था, लेकिन हाल के वर्षों में वहाँ इस्लामी उग्रवाद रह-रहकर अपना फन उठाना शुरू कर दिया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -