Monday, July 15, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयईरान में लाशों की सफाई करने को मजबूर महिलाएँ: हिजाब न पहनने पर कुछ...

ईरान में लाशों की सफाई करने को मजबूर महिलाएँ: हिजाब न पहनने पर कुछ ऐसे दी जा रही सज़ा, पागलखाने में भी भेज रहे

उनकी उम्र को देखते हुए उन्हें पागल करार दे दिया गया और सजा के तौर पर 2 साल की जेल की जगह सप्ताह में एक दिन मेंटल डॉक्टर से मिलने को कहा गया है।

ईरान कभी एक खुला समाज हुआ करता था, लेकिन इस्लामी कानूनों के लागू होने के बाद हालात अब वहाँ पहले जैसे नहीं रहे। हिजाब न पहनने पर मोरलिटी वाली पुलिस महिसा अमीनी वाला हाल कर देती है, तो अदालतों पर कट्टरपन का ऐसा पागलपन चढ़ा है कि वो हिजाब पहनने का विरोध करने वालों को ही पागल करार दे रही है। यही नहीं, सजा के तौर पर वो महिलाओं को सप्ताह में एक दिन मेंटल डॉक्टर के पास जाने को मजबूर कर रही है, ताकि ‘ऐसी महिलाएँ पारिवारिक मूल्यों’ को याद कर सकें और हिजाब पहनकर सामाजिक जीवन जी सकें।

हिजाबी सनक के चलते दी जा रही अजब-गजब सजा

‘फ्रांस 24’ के हवाले से मीडिया में चल रही रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि तेहरान की कोर्ट ने एक महिला को पूरे एक माह तक मॉर्चुरी (शव गृह) में मुर्दों की साफ-सफाई की सजा दी है, क्योंकि वो बिना हिजाब के गाड़ी चलाती हुई पकड़ी गई थी। इसी मामले के बाद मशहूर ईरानी एक्ट्रेस Afsaneh Bayegan को सुनाई गई दो साल की सजा पर बहस शुरू हो गई। उन्होंने महिला अमीनी की हत्या के बाद विरोध में सोशल मीडिया पर अपनी कई तस्वीरें पोस्ट की थी, जिसमें उन्होंने हिजाब नहीं पहना था।

इस मामले में उनकी उम्र को देखते हुए उन्हें पागल करार दे दिया गया और सजा के तौर पर 2 साल की जेल की जगह सप्ताह में एक दिन मेंटल डॉक्टर से मिलने को कहा गया है।

एक अन्य अभिनेत्री को भी मेंटल डॉक्टर से मिलने की सजा

कुछ समय पहले ही ईरान में कोर्ट ने एक्ट्रेस अजादेह समादी की ‘एंटी सोशल पर्सनालिटी डिसॉर्डर’ का इलाज किया था। उन्होंने हिजाब का विरोध करते हुए हैट लगाकर किसी व्यक्ति को आखिरी विदाई देने कब्रिस्तान गईं थी। उन्हें ‘साइकोलॉजिकल सेंटर’ जाकर थेरेपी कराने का आदेश दिया गया था, ताकि वो सामाजिक रूप से खुद को ‘दुरुस्त’ कर सकें।

ये भी पढ़ें : ‘…क्या तुम्हारे ऊपर बलात्कारी को छोड़ दें’ : ईरान में हिजाब पहनवाने के लिए फिर से एक्टिव हुई ‘मोरैलिटी पुलिस’, महिलाओं को निर्देश- सिर ढको, ढीले कपड़े पहनो

महिसा अमीनी की हत्या के बाद उठा तूफान

ईरान में कट्टरपंथी शासल हिजाब को लेकर बेहद कड़ा रवैया अपनाता है। महिला अमीनी नाम की 22 साल की युवती की कथित तौर पर हिसारत में पीट-पीट कर हत्या कर दी गई थी, जिसके बाद ईरान की महिलाओं ने जोरदार प्रदर्शन किया था। कई खिलाड़ियों ने बगैर हिजाब के खेल प्रतिस्पर्धाओं में हिस्सा लिया और आम महिलाओं ने जुलूस निकाले। हालाँकि, ईरानी शासन ने कड़ाई से सभी विरोध-प्रदर्शनों का दमन कर दिया।

ये भी पढ़ें : स्कूल नहीं जा सकेंगी 10 साल से ज़्यादा उम्र की छात्राएँ, अफगानिस्तान में एक और तालिबानी फरमान: तीसरी कक्षा से आगे नहीं पढ़ सकेंगी लड़कियाँ

ईरान में फिर से उठी हिजाबी सनक

अब फिर से हिजाब को लेकर सनक दिखने लगी है। लोगों से बोला गया है कि वो अगर किसी महिला को बिना हिजाब के गाड़ी चलाते देखें, तो उसे रिपोर्ट करे। जो महिला बिना हिजाब के नौकरी करती दिखे, उसे तुरंत प्रभाव से नौकरी से निकालने का भी हुक्म दिया गया है। हिजाब न पहनने वाली महिलाओं का अस्पताल में इलाज नहीं किए जाने का भी फरमान जारी किया जा चुका है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शराब घोटाले में दिल्ली CM के खिलाफ जाँच पूरी, अब ₹1100 करोड़ की प्रॉपर्टी कुर्क करने की तैयारी: रिपोर्ट में ED अधिकारी के हवाले...

शराब घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने दावा किया है कि उनकी इस केस में पार्टी के साथ-साथ अरविंद केजरीवाल के खिलाफ जाँच पूरी हो गई है।

जो प्रधानमंत्री है खालिस्तानी आतंकियों का ‘हमदर्द’, उसने अब दिलजीत दोसांझ को दिया ‘सरप्राइज’: PM ट्रुडो से मिलकर बोले भारतीय सिंगर- विविधता कनाडा की...

कनाडा पीएम ट्रुडो जो हमेशा से खालिस्तानी आतंकियों के 'हमदर्द' बनकर रहे उन्होंने हाल में दिलजीत दोसांझ को कनाडा में 'सरप्राइज' दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -