Friday, October 7, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय45 मिनट की वह रूह कँपा देने वाली घटना: कोरोना संक्रमित का इलाज कर...

45 मिनट की वह रूह कँपा देने वाली घटना: कोरोना संक्रमित का इलाज कर निकली गर्भवती नर्स से घुसपैठिए ने किया रेप

गर्भवती नर्स से रेप इटली के नेपल्स शहर के मुख्य रेलवे स्टेशन के पीछे स्थित बस स्टॉप अर्नाल्डो लुसी मेट्रोपार्क में हुई। आरोपित की पहचान सेनेगल से आए अवैध प्रवासी के रूप में हुई है। उसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

इटली से एक रूह कॅंपा देने वाली घटना सामने आई है। गर्भवती नर्स के साथ बेरहमी से बलात्कार किया गया। वह कोरोना संक्रमित होने के कारण अवसादग्रस्त मरीजों का इलाज कर लौट रही थीं।

घटना नेपल्स शहर के मुख्य रेलवे स्टेशन के पीछे स्थित बस स्टॉप अर्नाल्डो लुसी मेट्रोपार्क पर घटी। आरोपित की पहचान सेनेगल से आए अवैध प्रवासी के रूप में हुई है। उसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मगर, पीड़िता के लिए वे 45 मिनट भुला पाना मुश्किल है।

पीड़िता नर्स कहती हैं, “मुझे नहीं मालूम कि मुझे शारीरिक पीड़ा अधिक प्रभावित कर रही है या फिर मानसिक पीड़ा।” वे अपने दर्द को समेटते हुए आगे के जीवन के बारे में सोचती हैं और कहती हैं कि अब वह इन सबसे उबरकर उन लोगों की मदद के लिए आगे बढ़ेंगी, जिन्होंने इस दुख को महसूस किया है।

खबरों के मुताबिक, रविवार को दोपहर में करीब 3 बजे 48 वर्षीय नर्स नेपल्स के अस्पताल से अपनी ड्यूटी पूरी करके निकली थीं और अर्नाल्डो लुसी मेट्रोपार्क बस स्टॉप पर खड़े होकर बस का इंतजार कर रही थीं।

चूँकि, कोरोना महामारी के कारण हर जगह यातायात बाधित है। इसलिए उस दिन उनके बस स्टैंड पर पहुँचने के बाद भी बस आने में एक घंटा बचा था और आसपास कोई नहीं था। अचानक बाड़ के ऊपर से आरोपित युवक ने छलांग लगा दी और उनकी तरफ दौड़ने लगा।

पहले महिला नर्स को लगा कि वह कोई चोर है, जो उनसे उनका पर्स चुराने आ रहा है। इसलिए खुद को अकेला पाकर वे उसे खुद ही अपना पर्स देने लगी। लेकिन, जब तक नर्स पूरा मामला समझ पातीं। युवक उन्हें खींचता हुआ ले गया।

नर्स बताती हैं “वह मेरे पूरे शरीर पर हाथ लगा रहा था और जब मैं उसका विरोध कर रही थी, खुद को बचाने की कोशिश कर रही थी, तो वो गुस्सा हो रहा था।”

उन दर्दनाक 45 मिनटों को याद करते हुए गर्भवती नर्स कहती हैं कि उन्होंने इस दौरान बार-बार व्यक्ति से खुद को छोड़ने की गुहार लगाई और खुद के गर्भवती होने की बात बता बताकर रहम की भीख माँगी। मगर, वो व्यक्ति बार-बार यही कहता रहा, “मैं जो कर रहा हूँ, वो करने दो वरना मैं तुम्हें मार डालूँगा। सिर्फ़ खड़ी रहो और चिल्लाओ मत।”

नर्स, इटली के अखबार को उस दिन की आपबीती बताती हैं और कहती है, “वो व्यक्ति मुझसे साइज में दोगुना था और अपने शरीर का सारा भार मेरे बैक पर डाल रहा था। मेरी जीन्स टाइट थी और जब वो उसे नहीं उतार पाया तो मुझ पर गुस्सा उतारने लगा।”

उनके मुताबिक, उन्होंने इस बीच उस व्यक्ति को कहा भी अगर कोई इस दौरान आ गया तो वो गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पर वो उनकी बातों को सुनने की बजाय उनकी जींस उतारने की कोशिश करता रहा। इसके कारण उसकी उनकी पीठ और गर्दन पर चोट आ गई।

इन 45 मिनट में एक समय ऐसा भी आया जब उस शख्स ने गर्भवती नर्स को गला दबाकर मारने की कोशिश की। लेकिन, नर्स की खुशकिस्मती ये थी कि इसी बीच सामने से आती बस के एक ड्राइवर की नजर महिला पर पड़ी और उसने चिल्लाकर सबको घटना के बारे में बताया। इसके थोड़ी देर बाद पुलिस भी मौके पर पहुँची और आरोपित युवक को गिरफ्तार कर लिया। महिला की स्थिति देखते हुए उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसके पति को पूरे वाकये के बारे में सूचना दी गई।

नर्स का कहना है कि वे अभी अपने काम पर वापस नहीं लौटी हैं, क्योंकि इस घटना ने उनके पूरे परिवार को झकझोर दिया है। उनका पति अब भी खुद को पूरी घटना के लिए दोषी मान रहा है। उसके जेहन में बस यही बात है कि वह अपनी पत्नी को बचाने में असमर्थ रहा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिन वीर सावरकर को ‘देशद्रोही’ बुलाते रहे राहुल गाँधी, उनके पोस्टर ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में फिर दिखे: कॉन्ग्रेस ने पल्ला झाड़ा, अज्ञात लोगों पर...

कर्नाटक के मांड्या जिले में कॉन्ग्रेस की 'भारत जोड़ो' यात्रा के पोस्टर में वीर सावरकर की फोटो लगाई गई है। इससे पहले ऐसे पोस्टर केरल में भी दिखे थे।

नहीं मानूँगा राम-कृष्ण को भगवान, न पिंडदान करूँगा… दिल्ली में 10 हजार हिन्दुओं का धर्मांतरण, केजरीवाल के मंत्री ने भी मंच पर चढ़कर ली...

जय भीम मिशन कार्यक्रम में 10 हजार लोगों को शपथ दिलाई गई कि वे हिन्दू देवी-देवताओं की पूजा नहीं करेंगे और न ही उन्हें भगवान मानेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
226,785FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe