Tuesday, June 18, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयजकार्ता में मस्जिद का विशाल गुंबद आग लगने के बाद गिरा, सोशल मीडिया पर...

जकार्ता में मस्जिद का विशाल गुंबद आग लगने के बाद गिरा, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

मस्जिद के अलावा इस्लामिक सेंटर परिसर में शैक्षिक, वाणिज्यिक और अनुसंधान की सुविधाएँ भी हैं। मस्जिद के गुंबद में आखिरी बार लगभग 20 साल पहले मरम्मत के दौरान आग लग गई थी। अक्टूबर 2002 में लगी इस आग को बुझाने में करीब पाँच घंटे लग गए थे।

इंडोनेशिया के जकार्ता (Jakarta, Indonesia) में इस्लामिक सेंटर मस्जिद का विशाल गुंबद (Jakarta Islamic Center mosque) भीषण आग लगने के बाद ढह गया। इस हादसे में किसी की जान नहीं गई है। अभी तक आग लगने के कारणों का पता नहीं चल सका है। सोशल मीडिया पर गुंबद के गिरने का वीडियो भी सामने आया है।

गल्फ टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, इस्लामिक सेंटर के जीर्णोद्धार का काम चल रहा था। उसी वक्त यह आग लगी। बुधवार (19 अक्टूबर 2022) को स्थानीय समयानुसार दोपहर 3 बजे के बाद दमकलकर्मियों को आग लगने की सूचना दी गई, जिसके बाद दस दमकल की गाड़ियों को घटनास्थल पर भेजा गया।

वीडियो में देख सकते हैं कि गुंबद के एक हिस्‍से में आग लगी हुई है। काफी लोग इस आग को बुझाने की कोशिश रहे हैं, लेकिन तेज हवा के कारण आग बढ़ती ही जा रही है। देखते ही देखते गुंबद ताश के पत्‍तों की तरह ढह गई। इसके बाद वहाँ धुआँ ही धुआँ नजर आने लगा।

स्थानीय मीडिया के मुताबिक, आग किस वजह से लगी है, पुलिस इसकी जाँच कर रही है। इस संबंध में पुलिसकर्मियों ने इस्लामिक सेंटर के जीर्णोद्धार का काम करने वाले ठेकेदारों से भी पूछताछ की है। पुलिस ने कहा, “हम आग लगने के कारणों की जाँच कर रहे हैं। मस्जिद की मरम्मत कर रहे कॉन्ट्रैक्टर और कंपनी के चार मजदूरों से भी पूछताछ की जाएगी।”

सोशल मीडिया पर मस्जिद का गुबंद गिरने के बाद कई यूजर्स ने कमेंट किया है। एक यूजर ने लिखा, “मंदिर निकलेगा चेक कर लेना।” एक अन्य ने तंज कसते हुए लिखा, “6 दिसंबर तो नहीं है आज।”

बता दें कि मस्जिद के अलावा इस्लामिक सेंटर परिसर में शैक्षिक, वाणिज्यिक और अनुसंधान की सुविधाएँ भी हैं। मस्जिद के गुंबद में आखिरी बार लगभग 20 साल पहले मरम्मत के दौरान आग लग गई थी। अक्टूबर 2002 में लगी इस आग को बुझाने में करीब पाँच घंटे लग गए थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस जगन्नाथ मंदिर में फेंका गया था गाय का सिर, वहाँ हजारों की भीड़ ने जुट कर की महा-आरती: पूछा – खुलेआम कैसे घूम...

रतलाम के जिस मंदिर में 4 मुस्लिमों ने गाय का सिर काट कर फेंका था वहाँ हजारों हिन्दुओं ने महाआरती कर के असल साजिशकर्ता को पकड़ने की माँग उठाई।

केरल की वायनाड सीट छोड़ेंगे राहुल गाँधी, पहली बार लोकसभा लड़ेंगी प्रियंका: रायबरेली रख कर यूपी की राजनीति पर कॉन्ग्रेस का सारा जोर

राहुल गाँधी ने फैसला लिया है कि वो वायनाड सीट छोड़ देंगे और रायबरेली अपने पास रखेंगे। वहीं वायनाड की रिक्त सीट पर प्रियंका गाँधी लड़ेंगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -