Saturday, May 21, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयट्विटर में नौकरी की चाहत रखने वालों में 263% का उछाल, एलन मस्क की...

ट्विटर में नौकरी की चाहत रखने वालों में 263% का उछाल, एलन मस्क की फैन फॉलोविंग का असर: जॉब के लिए ये विशेषताएँ होनी चाहिए

एलन मस्क ने कहा कि सॉफ्टवेयर के क्षेत्र में जो मैनेजर होते हैं उन्हें अच्छे सॉफ्टवेयर्स लिखने आने चाहिए, वरना ये ऐसा ही है जैसे घुड़सवारों के दल के मुखिया को घुड़सवारी नहीं आती हो।

जब से एलन मस्क ने ट्विटर का अधिग्रहण किया है, तभी से इस कंपनी में नौकरियों के लिए लोगों की रुचि भी बढ़ रही है। ‘Tesla’ कंपनी के CEO का दुनिया भर में एक अलग फैन बेस है। उन्होंने 44 बिलियन डॉलर (3.38 लाख करोड़ रुपए) की डील के तहत माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म को खरीदा है। जॉब्स प्लेटफॉर्म ‘Glassdoor’ ने बताया है कि इस फैसले के बाद से ट्विटर को लेकर जॉब इंटरेस्ट में 250 प्रतिशत का इजाफा हुआ है।

मार्च 2022 से अब तक तुलना करें तो ट्विटर को लेकर जॉब इंटरेस्ट में 263% की वृद्धि हुई है। वरिष्ठ आर्थिक विशेषज्ञ डेनियल झाओ का कहना है कि एलन मस्क की अच्छी खासी फैन फॉलोविंग है, और इसी कारण लोग उनके साथ जुड़ना चाहते हैं और उनके लिए काम करना चाहते हैं। हालाँकि, ‘Glassdoor’ पर क्लिक का ये अर्थ नहीं है कि इतनी ही संख्या में जॉब एप्लिकेशन सबमिट किए हैं हैं, लेकिन ये लोगों की रुचि को दिखाता है।

एलन मस्क ने भी कहा है कि ट्विटर अब हार्डकोर सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग, डिजाइन, इंफोसेक और सर्वर हार्डवेयर पर ध्यान केंद्रित करेगा। उनका मानना है कि तकनीकी क्षेत्र में प्रबंधकों को तकनीकी रूप से दक्ष होना चाहिए। उन्होंने कहा कि सॉफ्टवेयर के क्षेत्र में जो मैनेजर होते हैं उन्हें अच्छे सॉफ्टवेयर्स लिखने आने चाहिए, वरना ये ऐसा ही है जैसे घुड़सवारों के दल के मुखिया को घुड़सवारी नहीं आती हो। ट्विटर के CEO पराग अग्रवाल की छुट्टी कर के मस्क खुद ये पद संभाल सकते हैं – ये भी चर्चा है।

ट्विटर में हायरिंग के लिए एलन मस्क एक नई योजना और रणनीति पर भी काम कर रहे हैं। फ़िलहाल अभी तक ये स्पष्ट नहीं है कि ट्विटर के मौजूदा कर्मचारियों का क्या होगा और उनकी भूमिका क्या रहेगी। एलन मस्क ने कहा कि काम के लिए नैतिकता सर्वोत्तम होनी चाहिए, लेकिन जो मापदंड वो खुद के लिए रखते हैं उससे ये काफी कम होगा। ट्विटर को डर है कि इन सबके बीच उसके मौजूदा कर्मचारियों की प्रोडक्टिविटी घट सकती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिखों के जख्म पर नमक छिड़क राजीव गॉंधी को अधीर रंजन चौधरी ने दी श्रद्धांजलि, कॉन्ग्रेस नेता ने लिखा- जब कोई बड़ा पेड़ गिरता...

लोकसभा में कॉन्ग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने राजीव गाँधी की की बरसी पर श्रद्धांजलि देते हुए विवादित ट्वीट कर के फिर उसे डिलीट कर दिया।

एक चिंगारी और पूरे भारत में लग जाएगी आग… कैम्ब्रिज में बैठ राहुल गाँधी ने उगला देश विरोधी जहर, कहा- हालात अच्छे नहीं

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने यूके के कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में 'आइडियाज फॉर इंडिया' के नाम पर जम कर नकारात्मकता फैलाई। पढ़िए क्या-क्या कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,690FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe