Wednesday, April 21, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय 2000 यौन दासियों के साथ किम जोंग उन महल में कैद, कोरोना वायरस से...

2000 यौन दासियों के साथ किम जोंग उन महल में कैद, कोरोना वायरस से बचने को निकाला यह तरीका: मीडिया रिपोर्ट

कुछ लड़कियों के बारे में कहा जाता है कि वे नाबालिग थीं और उन्हें बहुत कम उम्र में सेक्स स्लेव बनने के लिए मजबूर किया गया था। उत्तर कोरिया के ही प्रत्यक्षदर्शियों ने आरोप लगाया है कि लड़कियों को स्क्वाड का सदस्य बनने से पहले उनके कुँवारी होने की पुष्टि की जाती है, जिसके लिए उन्हें बहुत ही सघन मेडिकल परीक्षण से गुजरना पड़ता है।

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के बारे में कई रिपोर्ट आ चुकी है। उत्तर कोरिया की सरकारी समाचार एजेंसी केसीएनए के अनुसार पहले यह बताया गया कि एक उर्वरक कारखाने के उद्घाटन में भाग लेने के लिए वो पिछले 21 दिनों में पहली बार सार्वजनिक तौर पर दिखे। इस बीच तानाशाह किम जोंग उन के स्वास्थ्य और संभावित मौत पर बढ़ती अटकलों ने तब तेज़ी पकड़ ली थी, जब वे उत्तर कोरिया के सबसे महत्वपूर्ण दिन यानी अपने दिंवगत दादा की जयंती में उपस्थित नहीं हुए थे।

अब एक नया खुलासा हुआ है। द सन द्वारा प्रकाशित एक नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि उत्तर कोरियाई तानाशाह जनता की नज़रों से इसीलिए गायब थे, क्योंकि वह कोरोना वायरस से बचने के लिए कोरियाई प्रायद्वीप के पूर्वी हिस्से में स्थित वॉनसन में अपने निजी लक्जरी विला में 2000 सेक्स स्लेव्स के साथ जीवन व्यतीत कर रहे हैं।

Satellite image © 2020 Maxar Technologies-38 North/Handout via REUTERS.

खबरों के मुताबिक, सैटेलाइट चित्रों के द्वारा किम जोंग उन की अपनी निजी ट्रेन के अलावा लग्जरी नावों को वॉनसन विला के पास तैनात देखा गया है।

वॉनसन में किम जोंग उन का निजी विला

कोरियन तानाशाह ने 2015 में अपने दिवंगत दादा के “प्लेजर स्क्वाड” (टॉप अधिकारियों के मनोरंजन के लिए नाबालिग लड़कियों के दस्‍ते बनाए जाते हैं, जिन्‍हें Pleasure Squad कहते हैं) या गुप्त सेक्स मनोरंजन के किप्पुमो को फिर से शुरू कर दिया। द सन ने बताया कि 2000 महिलाओं को किम ने “प्लेजर स्क्वाड” के रूप में विला में रखा है।

पिछला “प्लेजर स्क्वाड” दिसंबर 2011 में पुराने तानाशाह की मौत पर समाप्त कर दिया गया था, लेकिन आधिकारिक तीन साल की शोक अवधि समाप्त होने के बाद, किम ने 2015 में फिर अपना खुद का “प्लेजर स्क्वाड” शुरू किया।

अखबार ने बताया कि उनके अति-संरक्षित महलों की दीवारों के भीतर, उनकी “प्लेजर स्क्वाड” उच्च-रैंकिंग वाले उत्तर कोरियाई अधिकारियों के लिए मनोरंजन प्रदान करती है।

2000 लड़कियों के हरम को “राष्ट्र के कुलीन वर्ग के लिए गाने और नृत्य करने के लिए रखा जाता है- साथ ही वे अलग-अलग तरह के यौन संबंधित चीजों में भाग लेती हैं।” मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, किम को अपने लव ऑफ बूज़ (बढ़िया के शराब के शौक) और बढ़िया भोजन के लिए भी जाना जाता है और “प्लेजर स्क्वाड” को उनके इन सभी सुखों का हमेशा ध्यान रखना होता है।

कुछ लड़कियों के बारे में कहा जाता है कि वे नाबालिग थीं और उन्हें बहुत कम उम्र में सेक्स स्लेव बनने के लिए मजबूर किया गया था। उत्तर कोरिया के ही प्रत्यक्षदर्शियों ने आरोप लगाया है कि लड़कियों को स्क्वाड का सदस्य बनने से पहले उनके कुँवारी होने की पुष्टि की जाती है, जिसके लिए उन्हें बहुत ही सघन मेडिकल परीक्षण से गुजरना पड़ता है।

उत्तर कोरिया के संस्थापक, किम इल-सुंग का “प्लेजर स्क्वाड”

देश (उत्तर कोरिया) के शाश्वत राष्ट्रपति माने जाने वाले व उत्तर कोरिया के संस्थापक किम इल-सुंग ने अपने शासनकाल के दौरान “प्लेजर स्क्वाड” की शुरुआत की थी। 1970 के दशक के अंत में, उन्होंने अपने अधिकारियों को क्लब में शामिल होने के लिए देश भर से सबसे आकर्षक महिलाओं और लड़कियों को ढूँढ निकालने के लिए भेजा।

किम इल-सुंग का कुँवारी लड़कियों के विषय में एक धारणा थी कि उनके साथ यौन संबंध बनाने से उन्हें लड़कियों की जीवन-शक्ति को अब्ज़ॉर्ब करने में मदद मिलती है। इसके लिए लड़कियों के माता-पिता को सूचित किया जाता था कि उनकी बेटियों को एक महत्वपूर्ण मिशन पर किम इल-संग (Kim il-sung) की सेवा के लिए चुना गया है, और इस मामले में उनकी तरफ से कोई आपत्ति नहीं होती थी। 20 वर्ष की उम्र में अपने यौन कर्तव्यों से “सेवानिवृत्त” होने के बाद उत्तर कोरिया की सेना में उच्च पदस्थ अधिकारी तब उन महिलाओं पर अपनी पत्नी होने का दावा करते थे।

किम जोंग उन के मौत की अफवाहें

रिपोर्ट्स के अनुसार, किम जोंग उन ने 11 अप्रैल को पार्टी पोलित ब्यूरो की अध्यक्षता की। राज्य के मीडिया ने अगले दिन रिपोर्ट किया कि नेता ने लड़ाकू जेट का निरीक्षण किया था। उसके बाद किम देश की मीडिया रिपोर्ट्स से गायब हो गए थे।

15 अप्रैल को अपने दादा के जन्मदिन के समारोह में न पहुँचने पर उनके खराब स्वास्थ्य और संभावित मृत्यु के बारे में अटकलें सामने आईं। उनकी अनुपस्थिति ने लोगों के दिमाग में काफ़ी सवाल पैदा कर दिए। एक ऑनलाइन मीडिया आउटलेट, जिसे उत्तर कोरियाई डिफेक्टर्स द्वारा चलाया जाता है, ने बताया कि तानाशाह का पिछले महीने हृदय का इलाज चल रहा था। इसमें यह भी कहा गया था कि 30 वर्षीय किम को भारी धूम्रपान, मोटापे और थकान के कारण तत्काल उपचार की आवश्यकता थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पंजाब के 1650 गाँव से आएँगे 20000 ‘किसान’, दिल्ली पहुँच करेंगे प्रदर्शनः कोरोना की लहर के बीच एक और तमाशा

संयुक्त किसान मोर्चा ने 'फिर दिल्ली चलो' का नारा दिया है। किसान नेताओं ने कहा कि इस बार अधिकतर प्रदर्शनकारी महिलाएँ होंगी।

हम 1 साल में कितने तैयार हुए? सरकारों की नाकामी के बाद आखिर किस अवतार की बाट जोह रहे हम?

मुफ्त वाई-फाई, मुफ्त बिजली, मुफ्त पानी से आगे लोगों को सोचने लायक ही नहीं छोड़ती समाजवाद। सरकार के भरोसे हाथ बाँध कर...

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

पाकिस्तानी फ्री होकर रहें, इसलिए रेप की गईं बच्चियाँ चुप रहें: महिला सांसद नाज शाह के कारण 60 साल के बुजुर्ग जेल में

"ग्रूमिंग गैंग के शिकार लोग आपकी (सासंद की) नियुक्ति पर खुश होंगे।" - पाकिस्तानी मूल के सांसद नाज शाह ने इस चिट्ठी के आधार पर...

रवीश और बरखा की लाश पत्रकारिताः निशाने पर धर्म और श्मशान, ‘सर तन से जुदा’ रैलियाँ और कब्रिस्तान नदारद

अचानक लग रहा है जैसे पत्रकारों को लाश से प्यार हो गया है। बरखा दत्त श्मशान में बैठकर रिपोर्टिंग कर रही हैं। रवीश कुमार लखनऊ को लाशनऊ बता रहे हैं।

‘दिल्ली में बेड और ऑक्सीजन पर्याप्त, लॉकडाउन के आसार नहीं’: NDTV पर दावा करने के बाद CM केजरीवाल ने टेके घुटने

केजरीवाल के दावे के उलट अब दिल्ली के अस्पतालों में बेड नहीं है। ऑक्सीजन के लिए हाहाकार मचा है। लॉकडाउन लगाया जा चुका है।

प्रचलित ख़बरें

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

रेमडेसिविर खेप को लेकर महाराष्ट्र के FDA मंत्री ने किया उद्धव सरकार को शर्मिंदा, कहा- ‘हमने दी थी बीजेपी को परमीशन’

महाविकास अघाड़ी को और शर्मिंदा करते हुए राजेंद्र शिंगणे ने पुष्टि की कि ये इंजेक्शन किसी अन्य उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। उन्हें भाजपा नेताओं ने भी इसके बारे में आश्वासन दिया था।

‘सुअर के बच्चे BJP, सुअर के बच्चे CISF’: TMC नेता फिरहाद हाकिम ने समर्थकों को हिंसा के लिए उकसाया, Video वायरल

TMC नेता फिरहाद हाकिम का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। इसमें वह बीजेपी और केंद्रीय सुरक्षा बलों को 'सुअर' बता रहे हैं।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

हाँ, हम मंदिर के लिए लड़े… क्योंकि वहाँ लाउडस्पीकर से ऐलान कर भीड़ नहीं बुलाई जाती, पेट्रोल बम नहीं बाँधे जाते

हिंदुओं को तीन बातें याद रखनी चाहिए, और जो भी ये मंदिर-अस्पताल की घटिया बाइनरी दे, उसके मुँह पर मार फेंकनी चाहिए।

पत्रकारिता का पीपली लाइवः स्टूडियो से सेटिंग, श्मशान से बरखा दत्त ने रिपोर्टिंग की सजाई चिता

चलते-चलते कोरोना तक पहुँचे हैं। एक वर्ष पहले से किसी आशा में बैठे थे। विशेषज्ञ को लाकर चैनल पर बैठाया। वो बोला; इतने बिलियन संक्रमित होंगे। इतने मिलियन मर जाएँगे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,564FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe