Tuesday, June 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकौन हैं 84 साल के वो भारतीय बुजुर्ग, जो बने UK के सबसे अमीर...

कौन हैं 84 साल के वो भारतीय बुजुर्ग, जो बने UK के सबसे अमीर शख्स: ₹3.37 लाख करोड़ की संपत्ति, 75 साल पहले बिजनेस की दुनिया में रखा था कदम

पिछले 1 वर्ष में गोपीचंद हिंदुजा की संपत्ति में 23.91 हजार करोड़ रुपए का इजाफा हुआ है। 84 वर्षीय गोपीचंद हिंदुजा का जन्म 1940 में हुआ था। उन्हें बिजनेस इंडस्ट्री में लोग GP के नाम से जानते हैं।

भारतीय मूल के गोपीचंद हिंदुजा UK (यूनाइटेड किंगडम) के सबसे अमीर व्यक्ति के रूप में शीर्ष पर बरकरार हैं। वो ‘हिंदुजा ग्रुप’ के चेयरमैन हैं। ‘सन्डे टाइम्स’ ने उन्हें UK के सबसे अमीर उद्योगपतियों की सूची में शीर्ष स्थान पर रखा है। ये मीडिया संस्थान यूके के 1000 सबसे अमीर लोगों और परिवारों की सूची हर साल जारी करता है। ये लगातार छठा साल है, जब गोपीचंद हिंदुजा इस सूची में टॉप पर हैं। उनकी संपत्ति 37.196 बिलियन यूरो (3.37 लाख करोड़ रुपए) आँकी गई है।

पिछले 1 वर्ष में गोपीचंद हिंदुजा की संपत्ति में 23.91 हजार करोड़ रुपए का इजाफा हुआ है। 84 वर्षीय गोपीचंद हिंदुजा का जन्म 1940 में हुआ था। उन्हें बिजनेस इंडस्ट्री में लोग GP के नाम से जानते हैं। वो ‘हिंदुजा ग्रुप’ के साथ-साथ ‘हिंदुजा ऑटोमोटिव लिमिटेड’ के भी चेयरमैन हैं। उनकी कंपनी मल्टीनेशनल है, जो ट्रकों और लुब्रिकेंट्स से लेकर बैंकिंग और केबल टेलीविजन तक में कारोबार करती है। वो अपने पिता परमानन्द दीपचंद हिंदुजा के दूसरे बेटे हैं।

उनका परिवार अखंड भारत के सिंध क्षेत्र से आता है, जो अब पाकिस्तान में है। परमानन्द दीपचंद हिंदुजा ने 1914 में कारोबार की दुनिया में कदम रखा था। उन्होंने भारत और मध्य-पूर्व की देशों के बीच कारोबार में कदम रखा और फिर अपनी कंपनी को करोड़ों डॉलर का बनाया। 1959 में मुंबई में गोपीचंद हिंदुजा ने अपने पारिवारिक कारोबार में कदम रखा। मई 2023 में अपने बड़े भाई श्रीचंद हिंदुजा के निधन के बाद उन्होंने ग्रुप के चेयरमैन के पद का कार्यभार सँभाला।

उन्होंने मुंबई के जय हिन्द कॉलेज से स्नातक किया था। उनके पास यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टमिनिस्टर से डॉक्टरेट ऑफ लॉ की मानद डिग्री है, साथ ही रिचमंड कॉलेज ने उन्हें इकोनॉमिक्स में डॉक्टरेट की डिग्री प्रदान की। गोपीचंद हिंदुजा 4 भाई हैं और सब मिल कर इस बिजनेस के मालिक हैं। प्रकाश और अशोक उनके छोटे भाई हैं। ब्रिटिश-अमेरिकन कारोबारी लियोनार्ड ब्लावत्निक इस सूची में दूसरे स्थान पर हैं। इस सूची में सटीक लिंग लक्ष्मीनिवास मित्तल और ब्रिटेन के PM ऋषि शौनक की पत्नी व इन्फोसिस के संस्थापक नारायणमूर्ति की बेटी अक्षता को भी शामिल किया गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -