Saturday, July 24, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयचीन से अपनी गन्दी होती नदियों को बचाने के लिए POK में लोगों ने...

चीन से अपनी गन्दी होती नदियों को बचाने के लिए POK में लोगों ने निकाली मशाल रैली: हुआ भारी विरोध प्रदर्शन

पीओके की जनता की ओर से निकाली गई इस रैली में शामिल प्रदर्शनकारियों ने नदियों को बचाने के लिए नारेबाजी भी की। एएनआई न्‍यूज एजेंसी के मुताबिक वहाँ, ”दरिया बचाओ, मुजफ्फराबाद बचाओ,' 'नीलम-झेलम बने, हम जिंदा फिर से करें' 'नीलम और झेलम नदियों को बहने दो, हमें जीने दो" जैसे नारे लगाए।

कोरोना वायरस के समय में एक ओर जहाँ चीन और पाकिस्तान की दोस्ती और गहरी हुई है। वहीं, पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में स्थानीय लोगों के बीच चीन के ख़िलाफ़ रोष बढ़ता ही जा रहा है।

खबरों की मानें तो नीलम-झेलम नदी पर बाँध निर्माण के विरोध में पीओके के मुजफ्फराबाद शहर में लोगों ने बुधवार (अगस्त 12, 2020) को विशाल मशाल रैली निकाल कर अपना विरोध दर्ज कराया है। ये विरोध मुख्यत: चीनी कंपनियों के खिलाफ़ था जो वहाँ बाँध निर्माण करवाने का काम कर रहे हैं।

बता दें कि पीओके की जनता की ओर से निकाली गई इस रैली में शामिल प्रदर्शनकारियों ने नदियों को बचाने के लिए नारेबाजी भी की। एएनआई न्‍यूज एजेंसी के मुताबिक वहाँ, ”दरिया बचाओ, मुजफ्फराबाद बचाओ,’ ‘नीलम-झेलम बने, हम जिंदा फिर से करें’ ‘नीलम और झेलम नदियों को बहने दो, हमें जीने दो” जैसे नारे लगाए।

पीओके के कार्यकर्ता डॉ अमजद मिर्जा ने नदी पर चीनी कंपनियों द्वारा बाँध निर्माण को पानी के प्राकृतिक संसाधनों के लिए खतरनाक बताया। उन्होंने कहा, “नीलम-झेलम नदी अब नाले जैसी बनती जा रही है। यह गंदगी से भरी हुई है। स्थानीय लोगों के पास पीने का पानी नहीं है।” 

उन्होंने कहा कि पानी को लेकर हमारे प्राकृतिक संसाधन CPEC (चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारा) की चपेट में आकर बर्बाद होते जा रहे हैं।

यहाँ बता दें कि हाल ही में, पाकिस्तान और चीन ने पीओके में आजाद पट्टन और कोहाला जलविद्युत परियोजनाओं के निर्माण के लिए समझौतों पर हस्ताक्षर किए थे। इस समझौते के अनुसार 1.54 बिलियन अमेरिकी डालर की इस परियोजना को चीन के जियोझाबा ग्रुप कंपनी (CGGC) द्वारा प्रायोजित किया जाएगा।

कोहाला हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्रोजेक्ट जो झेलम नदी पर बनाया जाएगा, पीओके के सुधनोटी जिले में आज़ाद पट्टन ब्रिज से लगभग 7 किमी ऊपर और पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद से 90 किमी दूर है।साल 2026 तक पूरा होने की उम्मीद वाला यह प्रोजेक्ट चाइना थ्री गोरजेस कॉर्पोरेशन, इंटरनेशनल फाइनेंस कॉर्पोरेशन (IFC) और सिल्क बैंक फंड द्वारा प्रायोजित किया जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस विवाद के पीछे बीडीएस या कतर, वॉशिंगटन पोस्ट की संपादक ने भी फोन नम्बरों की पुष्टि से किया इनकार: एनएसओ सीईओ

स्पाइवेयर पेगासस के मालिक एनएसओ ग्रुप के सीईओ ने कहा, ''मौजूदा 'स्नूपगेट' विवाद के पीछे बीडीएस मूवमेंट या कतर का हाथ हो सकता है।''

‘माँ और बच्चे की कामुकता’ पर पोस्ट कर जनआक्रोश भड़काने वाली महिला ने ‘बीडीएसएम वर्कशॉप’ का ऐलान कर छेड़ा नया विवाद

सोशल मीडिया पर वर्कशॉप का पोस्टर शेयर करके वह लोगों के निशाने पर आ गई हैं। लोगों ने उन्हें ट्रोल करते हुए कहा कि वे sexual degeneracy को क्या मानती हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,047FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe