Wednesday, June 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकंटेजियन फिल्म में मेडिकल कन्सलटेंट रहे विषाणु विज्ञानी भी कोरोना से संक्रमित, कहा- अगर...

कंटेजियन फिल्म में मेडिकल कन्सलटेंट रहे विषाणु विज्ञानी भी कोरोना से संक्रमित, कहा- अगर ये मुझे हो सकता है तो किसी को भी हो सकता है

"मैं इस शो पर आज रात कहना चाहूँगा, यह मेरे लिए बेहद पर्सनल भी है। क्योंकि मैं कोविड-19 से संक्रमित हूँ और यह बहुत तकलीफदेह है। मैं इस शो के जरिए एक संदेश देना चाहता हूँ कि अगर यह वायरस मेरे ऊपर हमला कर सकता है, तो यह किसी को भी संक्रमित करने में सक्षम है।"

हर देश में आम नागरिकों का एक बड़ा हिस्सा अभी भी ऐसा है, जो कोरोना वायरस के संक्रमण की क्षमता को गंभीरता से नहीं ले रहा है। जबकि विभिन्न देशों से ऐसे कई मामले सामने आ गए हैं, जिनमें देखा गया कि कई राजनीतिक हस्तियों से लेकर हॉलीवुड के कलाकार और नामचीन खिलाड़ी भी इस वायरस के संक्रमित पाए गए हैं।

कोरोना वायरस से संक्रमितों में ऐसा ही एक नया नाम सामने आया है। यह नाम है विषाणुओं की खोज में महारत हासिल करने वाले दुनिया के शीर्ष विशेषज्ञों में शामिल डॉ. डब्ल्यू इयान लिपकिन का! विषाणु विज्ञानी डॉ. लिपकिन भी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं।

ख़ास बात यह है कि कोरोना वायरस के कारण एकबार फिर चर्चा में आई वर्ष 2011 में स्टीवन सोडरबर्ग के निर्देशन में बनी हॉलिवुड फिल्म ‘कंटेजियन’ (Contagion)में फिल्म निर्माण के दौरान मेडिकल सलाहकार यही डॉ. डब्ल्यू इयान लिपकिन ही थे। वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद उनका कहना है कि अगर यह मुझे हो सकता है तो फिर यह किसी को भी हो सकता है। डॉ. लिपकिन का कहना है कि वो ये नहीं जानते कि उन तक यह वायरस कब और कैसे पहुँचा लेकिन यह वायरस पूरे यूनाइटेड स्टेट में फ़ैल चुका है।

कोलंबिया यूनिवर्सिटी के सेंटर ऑफ इन्फेक्शन एंड इम्यूनिटी में डायरेक्टर डॉ. लिपकिन ने हाल ही में एक टीवी को दिए इंटरव्यू में उन्होंने अपने संक्रमित होने का खुलासा किया।

उन्होंने कहा, “मैं इस शो पर आज रात कहना चाहूँगा, यह मेरे लिए बेहद पर्सनल भी है। क्योंकि मैं कोविड-19 से संक्रमित हूँ और यह बहुत तकलीफदेह है। मैं इस शो के जरिए एक संदेश देना चाहता हूँ कि अगर यह वायरस मेरे ऊपर हमला कर सकता है, तो यह किसी को भी संक्रमित करने में सक्षम है।”

डॉ. लिपकिन ने कहा कि इस वायरस को नियंत्रित करने का सिर्फ एक ही तरीका है कि नियमति तौर पर सामाजिक अलगाव (सोशल डिस्टेंसिंग) और आइसोलेशन (एकांतवास) अपना लिया जाए। उन्होंने कहा, “हम वास्तव में नहीं जानते कि इस वायरस को नियंत्रित करने में कितना समय लगेगा। दुनिया में राज्यों और शहरों के बीच कई छोटी-बड़ी सीमाएँ हैं, और जब तक हम अटल नहीं होते हैं, इस चीज़ से आगे नहीं बढ़ने वाले हैं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -