Wednesday, July 28, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकंटेजियन फिल्म में मेडिकल कन्सलटेंट रहे विषाणु विज्ञानी भी कोरोना से संक्रमित, कहा- अगर...

कंटेजियन फिल्म में मेडिकल कन्सलटेंट रहे विषाणु विज्ञानी भी कोरोना से संक्रमित, कहा- अगर ये मुझे हो सकता है तो किसी को भी हो सकता है

"मैं इस शो पर आज रात कहना चाहूँगा, यह मेरे लिए बेहद पर्सनल भी है। क्योंकि मैं कोविड-19 से संक्रमित हूँ और यह बहुत तकलीफदेह है। मैं इस शो के जरिए एक संदेश देना चाहता हूँ कि अगर यह वायरस मेरे ऊपर हमला कर सकता है, तो यह किसी को भी संक्रमित करने में सक्षम है।"

हर देश में आम नागरिकों का एक बड़ा हिस्सा अभी भी ऐसा है, जो कोरोना वायरस के संक्रमण की क्षमता को गंभीरता से नहीं ले रहा है। जबकि विभिन्न देशों से ऐसे कई मामले सामने आ गए हैं, जिनमें देखा गया कि कई राजनीतिक हस्तियों से लेकर हॉलीवुड के कलाकार और नामचीन खिलाड़ी भी इस वायरस के संक्रमित पाए गए हैं।

कोरोना वायरस से संक्रमितों में ऐसा ही एक नया नाम सामने आया है। यह नाम है विषाणुओं की खोज में महारत हासिल करने वाले दुनिया के शीर्ष विशेषज्ञों में शामिल डॉ. डब्ल्यू इयान लिपकिन का! विषाणु विज्ञानी डॉ. लिपकिन भी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं।

ख़ास बात यह है कि कोरोना वायरस के कारण एकबार फिर चर्चा में आई वर्ष 2011 में स्टीवन सोडरबर्ग के निर्देशन में बनी हॉलिवुड फिल्म ‘कंटेजियन’ (Contagion)में फिल्म निर्माण के दौरान मेडिकल सलाहकार यही डॉ. डब्ल्यू इयान लिपकिन ही थे। वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद उनका कहना है कि अगर यह मुझे हो सकता है तो फिर यह किसी को भी हो सकता है। डॉ. लिपकिन का कहना है कि वो ये नहीं जानते कि उन तक यह वायरस कब और कैसे पहुँचा लेकिन यह वायरस पूरे यूनाइटेड स्टेट में फ़ैल चुका है।

कोलंबिया यूनिवर्सिटी के सेंटर ऑफ इन्फेक्शन एंड इम्यूनिटी में डायरेक्टर डॉ. लिपकिन ने हाल ही में एक टीवी को दिए इंटरव्यू में उन्होंने अपने संक्रमित होने का खुलासा किया।

उन्होंने कहा, “मैं इस शो पर आज रात कहना चाहूँगा, यह मेरे लिए बेहद पर्सनल भी है। क्योंकि मैं कोविड-19 से संक्रमित हूँ और यह बहुत तकलीफदेह है। मैं इस शो के जरिए एक संदेश देना चाहता हूँ कि अगर यह वायरस मेरे ऊपर हमला कर सकता है, तो यह किसी को भी संक्रमित करने में सक्षम है।”

डॉ. लिपकिन ने कहा कि इस वायरस को नियंत्रित करने का सिर्फ एक ही तरीका है कि नियमति तौर पर सामाजिक अलगाव (सोशल डिस्टेंसिंग) और आइसोलेशन (एकांतवास) अपना लिया जाए। उन्होंने कहा, “हम वास्तव में नहीं जानते कि इस वायरस को नियंत्रित करने में कितना समय लगेगा। दुनिया में राज्यों और शहरों के बीच कई छोटी-बड़ी सीमाएँ हैं, और जब तक हम अटल नहीं होते हैं, इस चीज़ से आगे नहीं बढ़ने वाले हैं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

बकरीद की ढील का दिखने लगा असर? केरल में 1 दिन में कोरोना संक्रमण के 22129 केस, 156 मौतें भी

पूरे देश भर में रिपोर्ट हुए कोविड केसों में 53 % मामले अकेले केरल से आए हैं। भारत में कुल मामले जहाँ 42, 917 रिपोर्ट हुए। वहीं राज्य में 1 दिन में 22129 केस आए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,634FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe