Monday, July 22, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयएशियन गेम्स के लिए भारत के तीन खिलाड़ियों को चीन ने नहीं दिया वीजा,...

एशियन गेम्स के लिए भारत के तीन खिलाड़ियों को चीन ने नहीं दिया वीजा, विदेश मंत्रालय ने बताया खेल भावना के खिलाफ: खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने रद्द की यात्रा

चीन लगातार अरुणाचल प्रदेश के निवासियों को नत्थी वीजा देता आया है। इसका भारत ने विरोध किया है। नत्थी वीजा, पासपोर्ट से पिन करके लगाया जाने वाला एक बिना मुहर का कागज होता है। जहाँ सामान्य वीजा पासपोर्ट पर मुहर लगा कर या प्रिंट करके दिए जाते हैं, वहीं यह एक अलग कागज होता है।

चीन ने अरुणाचल प्रदेश से सम्बन्ध रखने वाले भारतीय खिलाड़ियों को एशियन खेलों के लिए वीजा देने से इनकार कर दिया है। इसको लेकर भारत ने कड़ा प्रतिरोध जताया है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने चीन से अपना विरोध दर्ज किया है। इसके साथ ही युवा एवं खेल तथा सूचना प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने विरोध में अपनी चीन यात्रा भी रद्द कर दी है।

दरअसल, 19वें एशियन खेलों का आयोजन चीन के हांगझाऊ शहर में 23 सितम्बर 2023 से आयोजित हो रहा है। यह खेल 8 अक्टूबर 2023 तक चलेंगे। इसमें भारतीय खिलाड़ियों का दल भी हिस्सा लेने के लिए जा रहा है। यह एशियन खेल एक साल की देरी से हो रहे हैं।

चीन ने इन खेलों में जाने वाले भारतीय दल के कुछ खिलाड़ियों को वीजा देने से मना कर दिया था। यह खिलाड़ी अरुणाचल प्रदेश से संबंध रखते हैं और वुशु खेल (मार्शल आर्ट) से जुड़े हैं। इन खिलाड़ियों के नाम न्येमान वान्ग्सू, ओनिलू तेगा और मेपुंग लाम्गु बताए जा रहे हैं।

दरअसल, चीन अरुणाचल प्रदेश पर अपना दावा ठोकता रहता है और उसे तिब्बत का हिस्सा बताता है। इसको लेकर वह तरह-तरह के ड्रामे करता रहता है। कभी वह स्टेपल वीजा देने की बात कहता है तो कभी वीजा नहीं देने की बात करता है। चीन का कहना है कि अरुणाचल उसका भूभाग है, इसलिए वहाँ के लोगों को चीन आने के लिए वीसा की जरूरत नहीं है।

चीन की इस कारस्तानी पर भारतीय विदेश मंत्रालय ने नई दिल्ली स्थित चीनी दूतावास और बीजिंग में अपने दूतावास के जरिए विरोध दर्ज कराया है। विदेश मंत्रालय ने इस सम्बन्ध में अपना बयान जारी कर कहा, “अरुणाचल हमेशा ही भारत का भूभाग था, है और रहेगा।”

भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा है कि चीन का यह व्यवहार एशियन खेलों की भावना और उनके नियमों का उल्लंघन करता है। यह नियम एशियन खेलों के भाग लेने वाले देशों के विरुद्ध किसी भी प्रकार के पक्षपात को रोकते हैं।

एशियन ओलम्पिक काउंसिल (AOC) के कार्यकारी अध्यक्ष रणधीर सिंह ने कहा है, “हमने इस मामले को वर्किंग ग्रुप के सामने उठाया है और वह इस मामले को चीन की सरकार के सामने उठा रहे हैं। हम जो कर रहे हैं, वह उससे अलग है जो दोनों सरकारों के बीच हो रहा है।”

वहीं एशियन ओलंपिक्स काउंसिल की एथिक्स कमेटी के प्रमुख वेई जिझोंग ने दावा किया है कि इन भारतीय खिलाड़ियों को वीजा दिए जा चुके हैं। चीन ने किसी भी खिलाड़ी को भी वीजा के लिए मना नहीं किया है। इन खिलाड़ियों ने वीजा स्वीकार नहीं किए हैं।

विदेश मंत्रालय द्वारा जारी किए गए बयान में जानकारी दी गई है कि चीन से अपना प्रतिरोध दर्ज करवाने के लिए भारत के युवा एवं खेल तथा सूचना प्रसारण मामलों के मंत्री अनुराग ठाकुर ने भी अपनी चीन की यात्रा रद्द कर दी है। अनुराग ठाकुर इन खेलों के लिए ही चीन जा रहे थे।

चीन लगातार अरुणाचल प्रदेश के निवासियों को नत्थी वीजा देता आया है। इसका भारत ने विरोध किया है। नत्थी वीजा, पासपोर्ट से पिन करके लगाया जाने वाला एक बिना मुहर का कागज होता है। जहाँ सामान्य वीजा पासपोर्ट पर मुहर लगा कर या प्रिंट करके दिए जाते हैं, वहीं यह एक अलग कागज होता है।

नत्थी वीजा देने के मामले में ही भारत ने जुलाई में चीन में आयोजित हुए यूनिवर्सिटी खेलों में से अपने 8 सदस्यीय वुशु खिलाड़ियों के दल को नहीं भेजा था। इस 8 सदस्यीय दल में से 3 सदस्य अरुणाचल प्रदेश से थे जि,नके वीजा को नत्थी करके दिया गया था। वुशु, मार्शल आर्ट को कहते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -