Monday, September 26, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'गायब' होने के बाद पहली बार दिखे जैक मा... लेकिन चायनीज मीडिया ने छुपा...

‘गायब’ होने के बाद पहली बार दिखे जैक मा… लेकिन चायनीज मीडिया ने छुपा ली ‘असली पहचान’: रहस्य गहराया

चीन में अफवाहों का बाजार गर्म है कि अलीबाबा का नियंत्रण चीन सरकार अपने हाथ में ले सकती है ऐसे में ग्‍लोबल टाइम्‍स ने भी जैक मा को इंग्लिश टीचर से उद्यमी बनने वाला बताया है और जैक मा के परिचय में उस अलीबाबा का जिक्र तक नहीं किया गया जिसकी स्‍थापना खुद उन्‍होंने की है।

अलीबाबा संस्थापक जैक मा (jack ma) के गायब होने की खबरों के बीच वह पहली बार सार्वजनिक तौर पर नजर आए हैं। चीन के सरकारी मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने दावा किया है कि बुधवार (जनवरी 20, 2021) को उन्होंने चीन के 100 ग्रामीण शिक्षकों के साथ वीडियो लिंक के जरिए संवाद किया। जैक मा ने शिक्षकों से कहा, "जब कोरोना वायरस खत्‍म हो जाएगा तो हम फिर मिलेंगे।"

गौरतलब है कि चीन में अफवाहों का बाजार गर्म है कि अलीबाबा का नियंत्रण चीन सरकार अपने हाथ में ले सकती है ऐसे में ग्‍लोबल टाइम्‍स ने भी जैक मा को इंग्लिश टीचर से उद्यमी बनने वाला बताया है और जैक मा के परिचय में उस अलीबाबा का जिक्र तक नहीं किया गया जिसकी स्‍थापना खुद उन्‍होंने की है।

बता दें कि इस वीडियो के आने से पहले जैक मा करीब दो महीने से किसी भी सार्वजनिक कार्यक्रम में नहीं दिखाई दिए थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जैक मा ने चीन के वित्तीय नियामकों और सरकारी बैंकों की पिछले साल अक्टूबर में दिए गए भाषण की आलोचना की थी। इसी आलोचना के बाद उनका और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ विवाद भी हुआ और इस विवाद के बाद से वो लगभग दो महीने से नजर नहीं आए थे।

उससे पहले वह अपने ही टीवी शो ‘अफ्रीका के बिजनेस हीरो’ में नजर आने वाले थे, लेकिन उनकी गैर उपस्थिति ने कई सवाल खड़े कर दिए। शो में उनकी जगह किसी और शख्स को भेज दिया गया। टीवी शो में शामिल नहीं होने पर अलीबाबा के प्रवक्ता ने कहा कि शेड्यूल को लेकर हुए विवाद की वजह से वे टीवी शो में शामिल नहीं हुए।

मालूम हो कि चीन की सरकार अलीबाबा ग्रुप पर मोनोपोली यानी एकाधिकार के गलत इस्तेमाल को लेकर तहकीकात कर रही है। अलीबाबा ने कहा था कि उन्हें एसएएमआर (SAMR) के जरिए एंट ग्रुप (Ant Group) को भी नोटिस भी भेजा गया है। यह जैक-मा की ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा डॉट कॉम और फिनटेक एंपायर के लिए बहुत बड़ा झटका माना गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दुपट्टा तक सिर पर नहीं है, पाकिस्तान को लूटकर खा गई’ : लंदन में PAK मंत्री मरियम के पीछे पड़ी भीड़, लगे- ‘चोरनी-चोरनी’ के...

एक महिला कहती है, "ये मरियम औरंगजेब है, जो टीवी पर बैठ कर बड़े-बड़े दावे करती है, लेकिन इसके सिर पर दुपट्टा नहीं है। ये चोरों की सरदारनी है।"

गहलोत कैंप को स्वीकार नहीं सचिन पायलट, राजस्थान में कॉन्ग्रेस पर छाया ‘मुख्यमंत्री’ का संकट: टूटेगी पार्टी या बचे हैं ये विकल्प?

राजस्थान में अशोक गहलोत समर्थक सचिन पायलट को मुख्यमंत्री स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं है। ऐसे में हाईकमान के सामने मुश्किल खड़ी हो गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,319FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe