Sunday, June 16, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनेपाल में भूकंप से हाहाकार… डिप्टी मेयर समेत 128+ लोगों की मौत: भूवैज्ञानिकों ने...

नेपाल में भूकंप से हाहाकार… डिप्टी मेयर समेत 128+ लोगों की मौत: भूवैज्ञानिकों ने दी चेतावनी- अभी नहीं टला खतरा, PM मोदी बोले- देंगे हर संभव मदद

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेपाल में आए विनाशकारी भूकंप से हुई मौतों पर दुःख जताया है। घायलों की शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करते हुए उन्होंने दुःख की इस घड़ी में नेपाल को हर सम्भव मदद का भरोसा दिया है।

नेपाल में शुक्रवार (3 नवम्बर 2023) की रात तेज भूकंप आया। रिक्टर स्केल पर 6.4, के इस विनाशकारी भूकंप का केंद्र जाजरकोट जिले में जमीन के अंदर 10 किलोमीटर की गहराई में था। इसके झटके पूरे नेपाल के साथ भारत में उत्तर प्रदेश, बिहार, दिल्ली, राजस्थान और हरियाणा तक महसूस किए गए। भूकंप से नेपाल में ही अब तक लगभग 128 लोगों की मौत की खबर है। इन आँकड़ों के बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। प्रभावित इलाकों में राहत और बचाव कार्य जारी है।

नेपाली मीडिया के मुताबिक पिछले काफी समय से भूवैज्ञानिक नेपाल के पश्चिमी हिस्से में बड़े भूकंप की चेतावनी दे रहे थे। रिक्टर स्केल पर इसके 8 के आसपास होने की भविष्यवाणी की जा रही थी। इसकी वजह टेक्टॉनिक प्लेट के हिसाब से संवेदनशील इस क्षेत्र में पिछले 600 साल से कोई बड़ा भूकंप न आना था।

जाजरकोट जिला करनाली प्रान्त में है। इस प्रान्त में अब तक लगभग 128 लोगों की मौत हो चुकी है। नेपाली प्रशासन ने मृतकों की संख्या में अभी इजाफा होने की आशंका जताई है। रात 11:47 पर आए इस भूकंप से प्रभावित इलाकों के वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। इन वीडियो में ध्वस्त हुए मकानों को देखा जा सकता है।

मृतकों के हिसाब से सबसे अधिक मौतें 90 जाजरकोट जिले में हुई हैं। उसके अलावा रुकुम जिले में 35 लोगों के मरने की जानकारी है। लगभग 500 से अधिक लोग घायल हुए हैं जिनका इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। मृतकों में जाजरकोट की उप-मेयर सरिता सिंह भी शामिल हैं। सरिता सिंह का शव बचावकर्मियों ने बरामद कर लिया है।

भूकंप की वजह से लगभग 40 सेकेंड तक धरती हिलती रही। इसके झटके तिब्बत-चीन पठार के अलावा भारत की राजधानी नई दिल्ली तक महसूस किए गए। भूकंप के केंद्र जाजरकोट से लगभग 500 किलोमीटर दूर काठमांडू में तो लोग डर से घरों के बाहर निकल आए। कुछ भूवैज्ञानिकों ने अभी खतरे के न टलने और भविष्य में एक बड़े भूकंप की आशंका बताई है।

नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल ने इस घटना पर दुःख प्रकट किया है। उन्होंने बताया कि राहत और बचाव कार्यों के लिए सरकारी एजेंसियों को लगा दिया गया है। नेपाली प्रधानमंत्री ने प्रभावित इलाकों का हवाई दौरा भी किया है।

भारत ने दिया हरसंभव मदद का भरोसा

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी नेपाल में आए विनाशकारी भूकंप से हुई मौतों पर दुःख जताया। घायलों की शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करते हुए उन्होंने दुःख की इस घड़ी में नेपाल को हर संभव मदद का भरोसा दिया है।

फिलहाल राहत और बचाव कार्य युद्धस्तर पर जारी हैं। सुरक्षा बल और बचावकर्मी सुदूर ग्रामीण इलाकों तक पहुँचने की कोशिशों में जुटे हुए हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -