Thursday, September 29, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयधार्मिक प्रतीक देख घरों और गाड़ियों को चिह्नित किया, फिर हिन्दुओं पर किया हमला:...

धार्मिक प्रतीक देख घरों और गाड़ियों को चिह्नित किया, फिर हिन्दुओं पर किया हमला: इंग्लैंड में मुस्लिम भीड़ ने ऐसे बरपाया कहर, पुलिस के सामने ही घटनाएँ

इस बार भी इस्लामवादियों ने प्रतीक चिह्नों के सहारे हिन्दुओं की पहचान करते हुए हमला किया है। इस हिंसा की आग में लीसेस्टर एक बार फिर जल रहा है, और इस्लामी कट्टरपंथियों के निशाने पर सिर्फ और सिर्फ हिन्दू थे।

एशिया कप में 28 अगस्त को भारत और पाकिस्तान आमने-सामने थे। इस मैच में पाकिस्तान को भारत के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद से मुस्लिमों के अंदर गुस्सा भरा हुआ था। इसके बाद जब 4 सितंबर को पाकिस्तान ने भारतीय क्रिकेट टीम को हरा दिया तो यूनाइटेड किंगडम के लीसेस्टर शहर में मुस्लिमों ने बड़ी संख्या में इकट्ठा होकर हिन्दुओं और उनके घरों की पहचान करके हमला किया था। इस हमले के चलते अगले 3-4 दिनों तक (7 सितंबर, 2022 तक) हिंसक घटनाएँ सामने आ रहीं थीं।

हिन्दुओं को टारगेट कर उन पर हुए इस हमले के विरोध में शुक्रवार (16 सितंबर) की शाम हिंदुओं ने प्रदर्शन किया था। लेकिन, शांति मार्च कट्टरपंथी इस्लामवादियों को पसंद नहीं आया। जिसके बाद, हिंदुओं के विरोध प्रदर्शन में इस्लामवादियों ने हमला कर दिया। इस हमले में हिंदुओं पर काँच की बोतलें तक फेंकी गईं थीं। यही नहीं, इन कट्टरपंथियों को हिन्दुओं से इतनी नफरत थी कि उन्होंने पुलिस के सामने ही भगवा ध्वज का भी अपमान किया था।

इसके बाद, हिन्दुओं पर एक बार फिर हमला करने के उद्देश्य से शनिवार (17 सितंबर, 2022) को लीसेस्टर में हजारों की संख्या में इस्लामी ‘हमलावर’ इकट्ठा हुए। इस बार भी इस्लामवादियों ने प्रतीक चिह्नों के सहारे हिन्दुओं की पहचान करते हुए हमला किया है। इस हिंसा की आग में लीसेस्टर एक बार फिर जल रहा है, और इस्लामी कट्टरपंथियों के निशाने पर सिर्फ और सिर्फ हिन्दू थे।

स्थानीय हिन्दू संगठन ‘Insight UK’, जो वहाँ हिन्दुओं के मुद्दे उठाता है, ने ऑपइंडिया से बात करते हुए कहा है कि 6 सितंबर लीसेस्टर के हिन्दुओं के खिलाफ हमलों की लगातार तीसरी रात थी। इस दौरान सैकड़ों की संख्या में मुस्लिम सड़कों पर उतरे हुए थे। ये सभी हिंदू घरों की पहचान ओम, भगवा झंडे, भगवान गणेश की तस्वीर आदि से कर रहे थे। जिस घर में इन्हें हिन्दू प्रतीक चिह्न दिखाई देता था, उस पर ये हमले कर रहे थे। इन हमलों के बाद क्षेत्र का प्रत्येक हिन्दू भय के साये में जी रहा था।

ठीक ऐसा ही पैटर्न 17 सितंबर को हुए हमले में भी देखा गया। 17 सितंबर को भी हिंदुओ की पहचान कर उन पर हमले किए जा रहे थे। इस हिंसा के दौरान इस्लामवादियों द्वारा एक सफेद कार पर हमला किया गया था, जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर बड़े पैमाने पर शेयर किया गया था।

इस वीडियो में, इस्लामिक कट्टरपंथियों की भीड़ एक हिंदू की कार को घेर लेती है। शुरुआत में तो भीड़ ने ड्राइवर की सीट का दरवाजा खोलने की कोशिश करते हुए कार को पीटना शुरू किया। लेकिन, जैसे ही दरवाजा खुला उन्होंने हिंदू ड्राइवर को बाहर खींच लिया और उसे बेरहमी से पीटा। हिन्दू ड्राइवर पर हमला करने के बाद इस्लामवादियों द्वारा खुशी मनाने के कई वीडियो भी सामने आए हैं। इनमें से एक ट्विटर अकाउंट @Itachixuchiiha ने लॉफिंग इमोजी के साथ वीडियो ट्वीट किया था।

ड्राइवर पर हुए इस हमले को लेकर ‘इनसाइट यूके’ ने ऑपइंडिया से कहा है कि उस ड्राइवर को सिर्फ इसलिए पीटा गया, क्योंकि वह हिन्दू था। ठीक इसी प्रकार लीसेस्टर के एक अन्य व्यक्ति ने भी फेसबुक पर कहा कि उस पर इसलिए हमला किया गया क्योंकि उसकी कार के डैशबोर्ड पर भगवान गणेश की तस्वीरें थीं।

इस्लामवादियों द्वारा हिन्दुओं पर किए गए इस हमले को लेकर लीसेस्टर पुलिस का कहना है कि पूर्वी लीसेस्टर के कुछ हिस्सों में शनिवार शाम से रविवार शाम तक गंभीर अव्यवस्था का अनुभव हुआ है। प्रशासन ने कहा कि हालात काबू में करने के प्रयास किए जा रहे हैं और शहर में शुरू हुए विवाद से लेकर अब तक 27 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सरकारी अधिकारी से लेकर PHD होल्डर, लाइब्रेरियन से लेकर तकनीशियन तक’: PFI में शामिल थे कई नामी लोग; ट्विटर ने अकॉउंट बंद किया, वेबसाइट...

प्रतिबंधित PFI के शीर्ष पदों को पूर्व सरकारी कर्मचारी, लाइब्रेरियन और पीएचडी होल्डर संभाल रहे थे। अब इसके सोशल मीडिया अकॉउंट बंद हो गए हैं।

दीपक त्यागी की सिर कटी लाश, हत्या पशुओं की गर्दन काटने वाले छूरे से: ‘दूसरे समुदाय की लड़की से प्रेम’ एंगल को जाँच रही...

मेरठ में दीपक त्यागी की गला काट कर हत्या। मृतक का दूसरे समुदाय की एक लड़की (हेयर ड्रेसर की बेटी) से प्रेम प्रसंग चल रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,049FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe