Friday, May 31, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपहले लाठी-पत्थरों से मारा, फिर शरीर में लगा दी आग: 'अल्लाहु अकबर' चिल्लाती भीड़...

पहले लाठी-पत्थरों से मारा, फिर शरीर में लगा दी आग: ‘अल्लाहु अकबर’ चिल्लाती भीड़ ने की ईसाई छात्रा की निर्मम हत्या, वायरल Video में कट्टरपंथी नाचते दिखे

घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। देखा जा सकता है कि इस्लामिक भीड़ ने अल्लाहु अकबर जैसे मजहबी नारे लगाते हुए डेबोरा की मॉब लिचिंग की और उसे जला दिया।

अफ्रीकी देश नाइजीरिया से इस्लामिक हिंसा का नया मामला प्रकाश में आया है, जहाँ सोकोटो के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र में कॉलेज में ईशनिंदा के आरोप में इस्लामिक भीड़ ने डेबोरा सैमुअल नाम की एक ईसाई छात्रा को पीट-पीट कर मार डाला। रिपोर्ट के मुताबिक, व्हाट्सएप ग्रुप पर डेबोरा के कुछ मित्रों ने कमेंट किए थे, जिसे इस्लामिक कट्टरपंथियों ने ईशनिंदा मान लिया और इस वारदात को अंजाम दिया।

पूरी घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। इसमें देखा जा सकता है कि इस्लामिक भीड़ ने अल्लाहु अकबर जैसे मजहबी नारे लगाते हुए डेबोरा की मॉब लिचिंग की और उसे जला दिया। आरोपितों को वीडियो में माचिस की तीली दिखाते हुए खुशी मनाते हुए देखा जा सकता है।

मृतक डेबोरा सैमुअल सोकोटो राज्य के शेहू शगरी कॉलेज ऑफ एजुकेशन की छात्रा थीं। दावा है कि एक व्हाट्सएप ग्रुप को डेबोरा अपने दोस्तों के संग मिलकर चला रही थीं। उसी ग्रुप में इस्लामिक पोस्ट शेयर हुए थे, जिस पर डेबोरा ने भी कमेंट किया था, जिसे इस्लामियों ने ‘ईशनिंदा’ मान लिया। कुछ रिपोर्टों के मुताबिक, डेबोरा ने केवल एक कॉलेज व्हाट्सएप ग्रुप में रिलीजियस कंटेंट पोस्ट करने पर आपत्ति जाहिर की थी।

इसके बाद कट्टरपंथियों की भीड़ ने डेबोरा पर हमला कर दिया, उसकी हत्या कर दी गई। कॉलेज के अधिकारी और पुलिस उसे असहाय होकर देखते रहे। कहा जा रहा है कि हमलावरों की संख्या इतनी अधिक हो गई थी कि डेबोरा को बचा पाना मुश्किल हो गया था। कॉलेज के पुरुष मुस्लिम छात्रों की भीड़ ने उसे बेरहमी से पीटा, दबोरा को पत्थर मारकर मार डाला और फिर उसे जला दिया।

इस वारदात की चश्मदीद एक कॉलेज छात्रा ने द गार्जियन को बताया, “छात्रों द्वारा पत्थरबाजी करने औऱ लाठी डंडों से हमला करने के बाद पुलिस ने महिला को मरने दिया। उसे मारने के बाद उसे आग लगा दी गई।” कॉलेज प्रशासन ने संस्थान को अनिश्चित काल के लिए बंद कर दिया है। वहीं कथित तौर पर पुलिस ने 2 आरोपितों को गिरफ्तार भी किया है, बाकी के फरार चल रहे हैं।

सोकोटो में लागू है शरिया कानून

नाइजीरिया दो भागों में बंटा है-उत्तरी और दक्षिणी। इसमें से उत्तरी हिस्से में मुस्लिम अधिक हैं तो दक्षिणी हिस्से में ईसाई समुदाय निवास करता है। यहाँ इस्लामिक शरिया कानून चलता है। इसलिए नाइजीरिया के अन्य राज्यों की तरह ही सोकोटा को न्याय मिलेगा, ये सोचना भी गलत है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस्लाम में ईशनिंदा की सजा सिर्फ मौत है।

इसी तरह से साल 2016 में कानो में 74 साल की ईसाई महिला को मुस्लिम भीड़ ने पीट-पीट कर मार डाला था। उस पर भी ईशनिंदा का ही आरोप था। ब्रिजेट अब्गाहिम अपनी दुकान में थीं, तभी मुस्लिम भीड़ ने उनकी हत्या कर दी। वोन्यूज़ की रिपोर्ट में कहा गया है कि 2021 में बाउची राज्य के दाराज़ो जिले में भी इसी तरह का आरोप लगाते हुए भीड़ ने एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई थी। इसी तरह से 2007 में नाइजीरिया में माध्यमिक विद्यालय के छात्रों ने कुरान के कथित अपमान का आऱोप लगाकर एक शिक्षक की हत्या कर दी थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -