Saturday, July 24, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयजो बायडेन की टीम में एक और भारतीय: नीरा टंडन को बजट प्रबंधन की...

जो बायडेन की टीम में एक और भारतीय: नीरा टंडन को बजट प्रबंधन की जिम्मेदारी मिलनी तय, बनेंगी OMB की निदेशक

नीरा जब 5 साल थीं, तभी उनके माता-पिता ने तलाक ले लिया था और वो अलग रहने लगे थे। उनकी माँ ने काफी संघर्ष के बाद ट्रेवल एजेंट का जॉब प्राप्त किया। इन तकलीफों से गुजरने के बावजूद नीरा ने...

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बायडेन की टीम में भारतीय मूल के लोगों का दबदबा बढ़ता ही जा रहा है। अब नीरा टंडन का ‘ऑफिस ऑफ मैनेजमेंट एंड बजट (OMB)’ का निदेशक नियुक्त किया जाना तय माना जा रहा है। ये व्हाइट हाउस के भीतर एक बड़ा पद है। प्रशासन के बजट के पूरे प्रबंधन के लिए OMB के डायरेक्टर ही जिम्मेदार होते हैं। 50 वर्षीय नीरा टंडन इस पद को संभालने वाली पहली महिला होंगी।

फ़िलहाल वो ‘सेंटर फॉर अमेरिकन प्रोसेस’ की चीफ एग्जीक्यूटिव हैं। ये संगठन वामपंथी झुकाव वाला है। इससे ये भी स्पष्ट होता जा रहा है कि अमेरिका के राष्ट्रपति जो बायडेन एक लिबरल और सेंट्रिस्ट लोगों की टीम तैयार कर रहे हैं। अमेरिकी मीडिया एजेंसियों की कई ख़बरों में कहा गया है कि इस नॉमिनेशन की घोषणा जल्द ही होगी। अभी की आर्थिक स्थिति में OMB के डायरेक्टर का किरदार काफी महत्वपूर्ण होने वाला है।

इससे पहले वो अमेरिका की पूर्व प्रथम महिला हिलेरी क्लिंटन की सबसे विश्वस्त सलाहकार रह चुकी हैं। हिलेरी ने ओबामा प्रशासन में ‘सेक्रेटरी ऑफ स्टेट’ का जिम्मा भी संभाला था। नीरा ने तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा के ‘अफोर्डेबल केयर एक्ट’ को पास कराने में अहम भूमिका निभाई थी। उनका जन्म मैसाचुसेट्स के बेडफोर्ड में हुआ है। उनके माता-पिता भारत से जाकर अमेरिका में बस गए थे।

उन्होंने लॉस एंजेल्स स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया से आर्ट्स में स्नातक की डिग्री हासिल की थी। उनका पालन-पोषण भी कई परेशानियों के बीच हुआ था क्योंकि उनकी उम्र जब महज 5 साल थी, तभी उनके माता-पिता ने तलाक ले लिया था और वो अलग रहने लगे थे। उनकी माँ ने काफी संघर्ष के बाद ट्रेवल एजेंट का जॉब प्राप्त किया। 1992 में स्नातक करने के बाद 1996 में उन्होंने येल लॉ स्कूल से जुरिस डॉक्टर की डिग्री प्राप्त की।

फिर उन्होंने ‘एल लॉ एंड पॉलिसी रिव्यू’ में बतौर सबमिशन्स एडिटर सेवा दी। कॉलेज में ही उनकी मुलाकात उनके होने वाले पति बेंजामिन एडवर्ड्स से हुई थी। दोनों ने मिल कर 1988 में डेमोक्रेट राष्ट्रपति उम्मीदवार माइकल डुकाकिस के चुनाव प्रचार का जिम्मा संभाला, लेकिन वो जीत नहीं पाए। इसके बाद उन्होंने वाशिंगटन डीसी में कई राष्ट्रपति उम्मीदवारों के चुनाव प्रचार अभियान में विभिन्न पदों पर काम किया

उन्हें क्लिंटन परिवार का विश्वस्त माना जाता है। हिलेरी क्लिंटन तो उन्हें अपना दोस्त मानती हैं। उन्होंने तत्कालीन राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की ऊर्जा नीतियों, स्वास्थ्य सुधार और घरेलू नीतियों के अभियानों में कई पद संभाले थे। अगर हिलेरी क्लिंटन 2014 में अमेरिकी राष्ट्रपति का चुनाव जीत जातीं तो उन्हें बड़ा रोल मिलना तय था। फ़िलहाल नीरा टंडन जो बायडेन प्रशासन के बजट की जिम्मेदारी संभालेंगी। अमेरिका के भारतीय संगठनों ने उनकी नियुक्ति का स्वागत किया है।

बता दें कि जहाँ एक तरफ कमला हैरिस अफ़्रीकी-भारतीय मूल की पहली महिला हैं, जो वहाँ उपराष्ट्रपति के पद तक पहुँची हैं, तो दूसरी तरफ जो बायडेन ने यूएस की नई ‘फर्स्ट लेडी’ और अपनी पत्नी जिल के पॉलिसी डायरेक्टर (नीति निदेशक) के रूप में माला अडिगा को नियुक्त किया है। भारतीय मूल की माला अडिगा जो बायडेन के 2020 चुनावी अभियान की सीनियर पॉलिसी अडवाइजर रही हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘धर्मांतरण कोई समस्या नहीं, अपने घर में सम्मान न मिले तो दूसरे के घर जाएँगे ही’: मिशनरी साजिश पर बिहार के पूर्व CM

गया में पिछले कई वर्षों से सिलसिलेवार तरीके से ईसाई धर्मांतरण की साजिश का खुलासा हुआ है। पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम माँझी ने इन घटनाओं का समर्थन किया।

‘हमने मोदी को जिताया की रट लगाते हो, खुद 2 बार लड़े तो क्यों नहीं जीत गए?’ महिला पत्रकार ने उतार दी राकेश टिकैत...

'इंडिया 1 न्यूज़' की गरिमा सिंह ने राकेश टिकैत के इस बयान को लेकर भी सवाल पूछा जिसमें वो बार-बार कहते हैं कि इस सरकार को 'हमने जिताया'।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,931FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe