Monday, November 29, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनेपाल में चीन पैंतरे नाकाम, कम्युनिस्ट पार्टी ने कार्यकारी PM ओली को पार्टी से...

नेपाल में चीन पैंतरे नाकाम, कम्युनिस्ट पार्टी ने कार्यकारी PM ओली को पार्टी से निकाला

कम्युनिस्ट पार्टी के प्रवक्ता नारायण काजी श्रेष्ठ का के अनुसार, ओली को पार्टी की बैठक में आने का प्रस्ताव दिया गया था, लेकिन ओली ने पार्टी मीटिंग में हिस्सा लेने से इनकार करते हुए पार्टी के विभाजन की धमकी दे डाली थी।

नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी की आंतरिक लड़ाई रोकने की चीन की तमाम कोशिशें नाकाम हो गई हैं। कार्यकारी प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को पार्टी से निकाल कर उनकी सदस्यता रद्द कर दी गई है। ओली पर चीनी इशारे पर सरकार चलाने के आरोप लगते रहे हैं।

ओली को निकलने का फैसला पार्टी की सेंट्रल कमेटी की मीटिंग में लिया गया है। प्रवक्ता नारायण काजी श्रेष्ठ ने ANI से इसकी पुष्टि करते हुए कहा, “उनकी सदस्यता रद्द कर दी गई है।”

हिमालयन टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ओली की सदस्यता खत्म करने का फैसला पूर्व प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल उर्फ प्रचंड और माधव कुमार नेपाल की कमेटी ने किया। रविवार (जनवरी 24, 2021) को पार्टी की स्टैंडिंग कमेटी की बैठक में इस पर मुहर भी लगा दी गई। पार्टी में ओली के हालिया फैसलों को लेकर काफी नाराजगी थी। उनसे सफाई माँगी गई, लेकिन वे कमेटी के सामने पेश ही नहीं हुए। नेपाल में इसी साल मार्च से अप्रैल के बीच नए चुनाव हो सकते हैं।

कम्युनिस्ट पार्टी के प्रवक्ता नारायण काजी श्रेष्ठ का के अनुसार, ओली को पार्टी की बैठक में आने का प्रस्ताव दिया गया था, लेकिन ओली ने पार्टी मीटिंग में हिस्सा लेने से इनकार करते हुए पार्टी के विभाजन की धमकी दे डाली थी

ओली जिस तरीके से सरकार चला रहे थे उसका पार्टी का एक गुट लंबे समय से विरोध कर रहा था। इस गुट के नेताओं का कहना था कि ओली पूरी तरह से नाकाम साबित हो चुके हैं और अपनी नाकामी छुपाने के लिए भारत विरोधी बातें कर रहे हैं। जो नेता ओली का विरोध कर रहे थे उनमें नेपाल के तीन पूर्व प्रधानमंत्री, पुष्प कमल दहल, माधव कुमार नेपाल और झाला नाथ खनाल भी शामिल थे।

इनमें पुष्प कमल दहल, जो प्रचंड के नाम से मशहूर हैं, वे पार्टी के सह अध्यक्ष भी हैं। पिछले वर्ष प्रचंड और ओली के बीच का विवाद काफी बढ़ गया था। उस  वक्त पार्टी के नेताओं का सामना करने से केपी ओली बच रहे थे, क्योंकि उन्हें पता था कि स्थाई समिति के 45 में से 30 सदस्य उनके खिलाफ हैं। 

बता दें कि जब से ओली ने 275 सदस्यों वाली संसद को भंग किया है, उन्हें पहले ही पार्टी की सेंट्रल कमिटी के चेयरमैन पद से हटाया जा चुका था, लेकिन वह इसके सदस्य बने हुए थे। बता दें कि पीएम ओली की सिफारिश पर संसद भंग करने के बाद नेपाली राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी वहां 30 अप्रैल और 10 मई को ताजा चुनाव करवाने की घोषणा भी कर चुकी हैं। इस बीच नेपाली संसद को भंग करने का मामला नेपाली सुप्रीम कोर्ट के पास भी विचाराधीन है। ओली की इस कार्रवाई को उनका विरोधी खेमा असंवैधानिक बता रहा है।

कम्युनिस्ट पार्टी का विवाद समाप्त करने के लिए चीन काफी सक्रिय था। उसके एक उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने नेपाल आकर शीर्ष नेताओं से बात की थी, लेकिन वे भी सहमति बनाने में नाकाम रहे थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान के मंत्री का स्वागत कर रहे थे कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता, तभी इमरान ने जड़ दिया एक मुक्का: बाद में कहा – ये मेरे आशीर्वाद...

राजस्थान में एक अजोबोग़रीब वाकया हुआ, जब मंत्री और कॉन्ग्रेस नेता भँवर सिंह भाटी को एक युवक ने मुक्का जड़ दिया।

‘मीलॉर्ड्स, आलोचक ट्रोल्स नहीं होते’: भारत के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक बिना नाम और बिना चेहरा वाले ट्रोल का पत्र

हमें ट्रोल्स ही क्यों कहा जाता है, आलोचक क्यों नहीं? ऐसा इसलिए, क्योंकि हम उन लोगों की आलोचना करते हैं जो अपनी आलोचना पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,346FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe