Saturday, May 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयजो 60 सालों में न हो सका पूरा, उस परियोजना के लिए PM मोदी...

जो 60 सालों में न हो सका पूरा, उस परियोजना के लिए PM मोदी की शरण में नेपाल: खुद नेपाल PM करेंगे आग्रह, 13 वर्षों से धोखा दे रहा चीन

नेपाल पीएम देउबा ने कहा, “हम इस परियोजना में निवेश करने में विफल रहे। इसलिए, प्रधानमंत्री मोदी की इस यात्रा में हम उनके साथ इस मामले को उठाएँगे।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सोमवार(16 मई, 2022) को बुद्ध जयंती के मौके पर नेपाल में लुंबिनी के एक दिवसीय दौरे पर जा रहे हैं। इसे देखते हुए नेपाल सरकार ने फैसला किया है कि पीएम मोदी की इस यात्रा के दौरान वो वेस्ट सेती प्रोजेक्ट (West Seti Project) के डेवलप करने के लिए भारत सरकार से बात करेगी। ये परियोजना बीते 6 दशक से इन्वेस्टमेंट की कमी के कारण लटका हुआ है।

मंगलवार (10 मई, 2022) को नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा (Sher Bahadur Deuba) ने अपने गृहनगर दधेलधुरा में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी के साथ पश्चिम सेती परियोजना पर चर्चा की जाएगी। नेपाल में पश्चिमी सेती नदी पर बनने वाली प्रस्तावित 750 मेगावाट की वेस्ट सेती जलविद्युत परियोजना पिछले छह दशकों से कागजों पर अटकी हुई है। हाल ही में नेपाल सरकार ने 1,200 मेगावाट क्षमता वाली एक संयुक्त भंडारण प्रोजेक्ट को वेस्ट सेती और सेती नदी (SR-6) के रूप में फिर से तैयार किया है।

नेपाल पीएम देउबा ने कहा, “हम इस परियोजना में निवेश करने में विफल रहे। इसलिए, प्रधानमंत्री मोदी की इस यात्रा में हम उनके साथ इस मामले को उठाएँगे।” पीएम देउबा के मुताबिक, क्योंकि भारत सरकार नेपाल में चीनी कंपनियों द्वारा पैदा की गई ऊर्जा खरीदने के लिए अनिच्छुक है। उन्होंने ये भी कहा कि नई परियोजना के विकास के लिए एक विश्वसनीय भारतीय कंपनी के साथ निर्णायक बातचीत की आवश्यकता है। हमें शुष्क मौसम [सर्दियों] में ऊर्जा सुरक्षा के लिए भंडारण-प्रकार की परियोजनाओं में निवेश करने की आवश्यकता है।

इसके साथ ही वेस्ट सेती के अलावा सरकार ने पंचेश्वर बहुउद्देशीय परियोजना को भी विकसित करने के लिए भारत के साथ बातचीत करने का फैसला किया है। पंचेश्वर बहुउद्देशीय परियोजना 1996 में नेपाल और भारत के बीच हस्ताक्षरित महाकाली संधि का एक प्रमुख अंग है, लेकिन यह परियोजना भी मतभेदों के कारण दशकों से अधर में लटकी हुई है।

गौरतलब है कि पिछले साल जुलाई 2021 में देउबा नेपाल के प्रधानमंत्री चुने गए थे। इसके बाद से ही उन्होंने इस परियोजना का विकास करने का फैसला किया था। इस मामले में नेपाल विकास बोर्ड के प्रमुख सुशील भट्ट के कहना है, “हमने जल विज्ञान और परियोजना में निवेश के तौर तरीकों पर स्टडी पूरी कर ली है।” यह प्रोजेक्ट 1980 के दशक की शुरुआत से ड्राइंग बोर्ड पर है। पहले नेपाल सरकार ने एक फ्रेंच कंपनी और फिर प्रसिद्ध चीनी कंपनी को इसका ठेका दिया था। लेकिन क्षेत्रीय राजनीति कारण यह प्रोजेक्ट पिछले ढाई दशकों से लटका हुआ है।

2018 में चीन को किया था बाहर

इससे पहले वर्ष 2018 में अगस्त में ऐसी खबर आई कि चीन नेपाल की वेस्ट सेती प्रोजेक्ट से बाहर होना चाहता है। इसके एक महीने के बाद सितंबर 2018 में नेपाल की 1.5 अरब डॉलर की वेस्ट सेती जलविद्युत परियोजना के निर्माण के लिए चाइना थ्री जॉर्जेस कॉरपोरेशन के साथ एक समझौते को रद्द कर दिया था। उससे पहले भी इसको लेकर दोनों देशों के बीच साल 2009 में समझौता हुआ था। उस दौरान चीनी कंपनी ने इस परियोजना में 15 अरब रुपए का निवेश करने का फैसला किया था।

हालाँकि, बाद में वो इस परियोजना से ये कहकर बाहर हो गई कि नेपाल में निवेश का माहौल नहीं है। तमाम उतार चढ़ावों के बीच एक बार फिर से 29 अगस्त 2012 को इसे फिर से चीनी कंपनी को सौंप दिया गया। बाद में 2018 में चीन ने फिर से नौटंकी दिखाई, जिसके बाद उसे फाइनली इससे बाहर कर दिया गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

OBC आरक्षण में मुस्लिम घुसपैठ पर कलकत्ता हाई कोर्ट का फैसला देश की आँख खोलने वाला: PM मोदी ने कहा – मेहनती विपक्षी संसद...

पीएम मोदी ने कहा कि मेरे लिए मेरे देश की 140 करोड़ जनता साकार ईश्वर का रूप है। सरकार और राजनीति दलों को जनता प्रति उत्तरदायी होना चाहिए।

SFI के गुंडों के बीच अवैध संबंध, ड्रग्स बिजनेस… जिस महिला प्रिंसिपल ने उठाई आवाज, केरल सरकार ने उनका पैसा-पोस्ट सब छीना, हाई कोर्ट...

कागरगोड कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ रेमा एम ने कहा था कि उन्होंने छात्र-छात्राओं को शारीरिक संबंध बनाते देखा है और वो कैंपस में ड्रग्स भी इस्तेमाल करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -