Wednesday, August 4, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयओमान में शेख के चंगुल से छूटने के लिए यूपी पुलिस से महिलाओं ने...

ओमान में शेख के चंगुल से छूटने के लिए यूपी पुलिस से महिलाओं ने लगाई गुहार, ऑडियो संदेश भेजकर माँगी मदद

महिलाओं ने डीसीपी को अपने संदेश में बताया है कि ओमान में उनके साथ किस तरह गंदा व्यवहार किया जाता है और अगर ये सब ज्यादा दिन तक चलता रहा तो वह जिंदा नहीं बच पाएँगी। महिलाओं की शिकायत के बाद शेख के चंगुल से छुड़ाने के प्रयासों में तेजी कर दी गई।

मानव तस्करी का शिकार हुई यूपी की महिलाएँ अब ओमान से डीसीपी को व्हॉट्सएप पर ऑडियो मैसेज भेज कर मदद माँग रही हैं। पिछले दिनों मदद के ऐसे मैसेज डीसीपी के पास आए जिनमें पीड़िताओं ने कहा था कि उन्हें बचा लिया जाए वरना वह मर जाएँगी। इन संदेशों के मिलने के बाद क्राइम ब्रांच एक्शन में आई और ओमान से महिलाओं को घर लाने की कोशिश तेज हो गई।

हिंदुस्तान की रिपोर्ट के अनुसार, महिलाओं ने डीसीपी को अपने संदेश में बताया है कि ओमान में उनके साथ किस तरह गंदा व्यवहार किया जाता है और अगर ये सब ज्यादा दिन तक चलता रहा तो वह जिंदा नहीं बच पाएँगी। महिलाओं की शिकायत के बाद शेख के चंगुल से छुड़ाने के प्रयासों में तेजी कर दी गई है। महिलाएँ भारतीय दूतावास के अलावा पुलिस अधिकारियों के भी संपर्क में हैं। गोवा पुलिस के अधिकारियों ने भी महिलाओं से संपर्क करने की कोशिश की है।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले यूपी की क्राइम ब्रांच ने ओमान में फँसी उन्नाव की एक और पंजाब की दो महिलाओं को एक शेख के चंगुल से छुड़ाया था। मगर, उनके बाद उक्त दोनों महिलाएँ ने भी डीसीपी के पास मदद के मैसेज भेज दिए। पीड़िताओं ने अपील की है कि जैसे पुलिस ने पहले तीन महिलाओं को मुक्त कराया है वैसे ही उन दोनों को भी छुड़ा लिया जाए।

अभी मामले की जाँच चल रही है। पुलिस की पड़ताल में पता चला है कि दोनों महिलाओं में से एक पीड़िता भारतीय दूतावास में रह रही है और उसकी कोरोना टेस्टिंग हो चुकी है। अब दूतावास उसके लिए फ्लाइट की टिकत आदि का इंतजाम करने में लगी है। संभव है वह जल्द भारत लौटे।

इस पूरे मामले में क्राइम ब्रांच के सम्पर्क में गोवा के कई अधिकारी भी आ गए हैं जिन्होंने क्राइम ब्राँच से ईमेल आईडी समेत अन्य जानकारी माँगी है ताकि वह अपने यहाँ की पीड़िता को भी जल्द से जल्द वापस बुला सकें।

बता दें कि यूपी से आए मानव तस्करी के इन मामलों की जाँच में पिछले दिनों दो आरोपित मुजम्मिल और अतिउर्रहमान व बंगलूरू से अमीन को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। मामले की तफ्तीश की ही जा रही थी कि ये अन्य मामले फिर पुलिस के पास आ गए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe