Saturday, June 22, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयसबसे ज़्यादा सीटें नवाज़ की पार्टी को, लेकिन उम्मीदवार सबसे ज़्यादा जीते इमरान के:...

सबसे ज़्यादा सीटें नवाज़ की पार्टी को, लेकिन उम्मीदवार सबसे ज़्यादा जीते इमरान के: पाकिस्तान में नतीजों के बाद जोड़तोड़ शुरू, दोनों पक्ष कर रहे जीत के दावे

अब तक की बातचीत से साफ़ है कि पाकिस्तान में शरीफ ब्रदर्स की PML-N और भुट्टो-जरदारी परिवार की PPP मिल कर सरकार बनाने की कोशिश करेगी।

पाकिस्तान में आम चुनावों के परिणाम घोषित होने के साथ ही सत्ता के लिए गठबंधन बनाने व जोड़-तोड़ की प्रक्रिया शुरू हो गई है। पाकिस्तान में आम चुनावों के साथ-साथ प्रांतीय चुनाव भी हुए हैं। शुक्रवार (9 फरवरी, 2024) को देर रात तक कई राजनीतिक दलों की बैठकें चलीं। PML-N के के नवाज़ शरीफ ने कहा है कि उन्होंने अपने भाई शाहबाज़ को गठबंधन के लिए बातचीत की जिम्मेदारी दी है। दोनों भाई पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रह चुके हैं।

भुट्टो-जरदारी परिवार के PPP और सिंध में दखल रखने वाली MQM-P के साथ शरीफ भाइयों की बातचीत चल रही है। बिलावल भुट्टो और आसिफ अली ज़रदारी लाहौर पहुँचे हुए हैं। दोनों की शाहबाज़ शरीफ के भाई के साथ बैठक हुई। शाहबाज़ शरीफ ने MQM-P के संयोजक डॉ खालिद महमूद सिद्दीकी से भी बात की। उनकी पार्टी फ़िलहाल अज़ीज़ाबाद के जिन्ना ग्राउंड में जीत का जश्न मनाने में मशगूल है। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के पास ब्रीफकेस नहीं है, लेकिन सभी निर्दलीय विजेताओं का स्वागत है।

अब तक की बातचीत से साफ़ है कि पाकिस्तान में शरीफ ब्रदर्स की PML-N और भुट्टो-जरदारी परिवार की PPP मिल कर सरकार बनाने की कोशिश करेगी। पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त में भी इन दोनों दलों की ही सरकार होगी। पाकिस्तान में किसी को भी स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है, ऐसे में सरकार का स्वरूप कैसा होगा इस पर काफी संशय है। PTI के कई उम्मीदवार निर्दलीय लड़ कर जीते हैं, ऐसे में उन्हें भी अलग-अलग पार्टियाँ अपने पाले में लुभाने में जुटी हुई हैं।

पाकिस्तान में 266 में से जिन 246 सीटों के नतीजे आए हैं, जिसमें से 91 पर PTI और उसके निर्दलीय कैंडिडेट्स जीते हैं। PML-N 71 सीटें जीत कर सबसे बड़ी पार्टी बनी है, वहीं PPP ने 51 सीटें अपने नाम की हैं। नॉर्थ वजीरिस्तान में गोलीबारी भी हुई है, जिसमें नेशनल एसेम्ब्ली का एक पूर्व सदस्य घायल हो गया। उधर इमरान खान को 12 मामलों को जमानत मिल गई है। हालाँकि, वो अभी जेल में ही रहेंगे। उनकी बहन ने कहा है कि फ़ौज उनकी हत्या कराना चाहती है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -