Sunday, May 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'वह शिया है, उसके नाम का नहीं कर सकते ऐलान': मस्जिद ने 14 साल...

‘वह शिया है, उसके नाम का नहीं कर सकते ऐलान’: मस्जिद ने 14 साल की लापता बच्ची के परिजनों की ठुकराई फरियाद

"जिस दिन मेरी बच्ची गुम हुई, मैंने मस्जिदों में जा-जाकर उसके नाम का ऐलान करवाने की कोशिश की। उन्होंने (मस्जिद) कहा कि हम इस नाम का ऐलान नहीं कर सकते।"

दुआ जेहरा काजमी (Dua Zehra Kazmi) 14 साल की है। यह बच्ची 16 अप्रैल 2022 से पाकिस्तान के कराची से लापता है। उसका अब तक कोई सुराग नहीं लगा है। इस बीच एक मस्जिद ने ‘शिया’ मुस्लिम होने के कारण इस लापता बच्ची के परिजनों की फरियाद ठुकरा दी है।

दुआ के अम्मी-अब्बू का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। उसकी अम्मी फूट-फूटकर रोती हुई नजर आ रही हैं। दुआ के अब्बू ने भावुक होते हुए एक चैनल के जरिए देश की आवाम को बताया है कि वह अपनी बच्ची के लिए किस कदर तड़प रहे हैं। लेकिन मस्जिद वालों को उन पर जरा सा भी रहम नहीं आया। उन्होंने बताया, “जिस दिन मेरी बच्ची गुम हुई, मैंने मस्जिदों में जा-जाकर उसके नाम का ऐलान करवाने की कोशिश की। उन्होंने (मस्जिद) कहा कि हम इस नाम का ऐलान नहीं कर सकते।”

पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, दुआ के अम्मी-अब्बू ने दावा किया है कि एक स्थानीय मस्जिद ने सांप्रदायिक कारणों से उनकी बेटी के नाम की घोषणा करने से इनकार कर दिया। उसके अब्बू ने दावा किया कि जब उन्होंने दुआ के लापता होने पर स्थानीय मस्जिद से मदद माँगी और उसके नाम का ऐलान करने को कहा, तो उन्होंने यह कहते हुए मना कर दिया गया- हम इस नाम का ऐलान नहीं कर सकते, क्योंकि वह शिया समुदाय से है।

अब्बू ने बताया कि दुआ पिछले डेढ़ साल से स्कूल भी नहीं जा रही थी। यदि उनकी बेटी नहीं मिली तो उनका परिवार गवर्नर हाउस के सामने आत्महत्या कर लेगा। दुआ की अम्मी ने कहा है, “मैं अपनी बेटी को जिंदा देखना चाहती हूँ। मैं एक माँ हूँ। मैं ज़ैनब की तरह उसके शव को नहीं लूँगी। अगर उसे मृत वापस लाया गया तो मैं उसके शव को गवर्नर हाउस के बाहर रखूँगी।”

बताया जा रहा है कि सिंध के मुख्यमंत्री मुराद अली शाह ने कराची के पुलिस चीफ को बच्ची की सुरक्षित बारामदगी के निर्देश दिए हैं। लेकिन अल फलाह थाने की पुलिस भी कराची के गोल्डन टाउन इलाके स्थित अपने घर के बाहर से गायब हुई इस 14 वर्षीय लड़की का पता लगाने में विफल रही है।

कराची के एडिशनल आईजीपी गुलाम नबी मेमन ने कहा है कि बच्ची की तलाश में पुलिस की तीन विशेष टीमों का गठन किया गया है। प्रत्येक टीम उसकी तलाश करने के लिए अलग-अलग तरीके अपना रही है। Anti-Violent Crime Cell के एसएसपी इस पूरे मामले पर नजर बनाए हुए हैं। पत्रकारों से बात करते हुए मेमन ने कहा, “हमने दुआ के परिवार वालों को भरोसा दिलाया है कि जल्द से जल्द उनकी बच्ची को वापस ले आएँगे।” वहीं, सोशल मीडिया पर हर कोई जेहरा की सलामती और उसके वापस लौटने की दुआ माँग रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘गिरफ्तारी से आजादी’ अपने घोषणापत्र में लिखने वाली कॉन्ग्रेस ने गिरफ्तार करवाया एक आम नागरिक को… ‘न्याय’ सिर्फ एक परिवार तक सीमित होगा?

भिकू म्हात्रे ने 'कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो में मुस्लिम शब्द के इस्तेमाल' की बात जोर देकर कही, जिसे खुद कॉन्ग्रेस समर्थक नकार रहे थे।

‘कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो में मुस्लिम’ : सिर्फ इतना लिखने पर ‘भिकू म्हात्रे’ को कर्नाटक पुलिस ने गिरफ्तार किया, बोलने की आजादी का गला घोंट...

सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर 'भिकू म्हात्रे' नाम के फिक्शनल नाम से एक्स पर अपनी राय रखते हैं। उन्होंने कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो पर अपनी बात रखी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -