Monday, April 12, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय अमेरिका जितना अमीर नहीं हम... लेकिन हमारे पास इस्लाम है: कोरोना से जंग पर...

अमेरिका जितना अमीर नहीं हम… लेकिन हमारे पास इस्लाम है: कोरोना से जंग पर इमरान का लॉकडाउन से साफ मना

"अगर लॉकडाउन होगा तो करीब 8-9 करोड़ लोग दो वक्त की रोटी नहीं खा पाएँगे। अगर मैं पाकिस्तान के लोगों को खाना उपलब्ध नहीं करा सकता, तो यह लॉकडाउन सफल नहीं हो सकता।"

कोरोना का संक्रमण इस समय हर देश को प्रभावित कर रहा है और हर देश की जनता इससे पीड़ित है। मगर, बावजूद इसके पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का रवैया देखकर लग रहा है कि वे अब भी इस बीमारी को गंभीरता से नहीं ले रहे। कल मुल्क को संबोधित करते हुए उनका एक विडियो सामने आया। वि़डियो में उन्होंने कोरोना वायरस को आधार रखकर अपने देशवासियों से बात की। यहाँ उन्होंने चीन की तारीफ करने से अपने बात की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि चीन एक ऐसा मुल्क है, जिसने लॉकडाउन करके इस समस्या से निजात पा लिया और अगर उनके देश (पाकिस्तान) में भी ऐसी हालात होते तो वो शहर बंद कर देते। मगर, इससे कुछ नहीं होगा।

एक ओर जहाँ पूरा विश्व लॉकडाउन को अंतिम विकल्प की तरह मान रहा है, वहीं पाक पीएम इस कॉन्सेप्ट को ही खारिज कर रहे हैं। उनका कहना है कि ये उपाय उनके देश के लिए सही नहीं है। उनकी परेशानी ये है कि अगर लॉकडाउन होगा तो करीब 8-9 करोड़ लोग दो वक्त की रोटी नहीं खा पाएँगे। वे कहते हैं कि अगर वे देश के लोगों को खाना उपलब्ध नहीं करा सकते, तो यह लॉकडाउन सफल नहीं हो सकता।

इसके बाद इमरान खान करीब पाँच मिनट तक अपनी देश की जनता को यही समझाते नजर आए कि वो लॉकडाउन क्यों नहीं कर रहे। इस बीच उन्होंने हिंदुस्तान का उदाहरण दिया और कहा यहाँ हालत ऐसे हैं कि पहले लॉकडाउन लगा दिया गया, बाद में प्रधानमंत्री जनता से माफी माँग रहे हैं। इस दौरान इमरान अपनी जनता को ये बताते नजर आए कि पाकिस्तान और अमेरिका में कितना फर्क है।

इस गंभीर समय में भी जब हर किसी का मानना है कि धर्म, मजहब से ऊपर उठकर इस वायरस के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ी जानी चाहिए, तब इमरान खान अपने देशवासियों को मजहब का हवाला देते हैं, इमान का पाठ पढ़ाते हैं। वे उन्हें उन इस्लामिक देशों के बारे में बताते हैं, जो सबसे ज्यादा खैरात देते हैं। इसके बाद इस लड़ाई को लड़ने के लिए वो जागरूक करने से ज्यादा अपने देश के युवाओं पर विश्वास जताते हैं और कहते हैं कि अब इन दोनों ताकतों (इमान और युवा) का उन्हें इस्तेमाल करना है ताकि कोरोना से लड़ा जा सके। वे कहते हैं कि अब युवा ही उनकी कमियों को पूरा करेगी। इसके लिए वे युवाओं की टाइगर फोर्स की घोषणा करते हैं। वे बताते हैं कि अब यही युवा कभी सेना के साथ मिलकर तो कभी प्रशासन के साथ मिलकर उनकी मदद करेंगे।

अब इमरान खान की सबसे हैरान करने वाली बात सुनिए। एक ओर जहाँ विश्व जल्द से जल्द इसके हर आयामों को अवलोकन करने के लिए प्रयासरत हैं। वहाँ इमरान खान इतने फिक्रमंद हैं कि वो कहते हैं कि उनकी एक टीम जो पीएमओ में बैठी है, वो यही डेटा एनालाइज कर रही है और एक हफ्ते के अंदर उन्हें सब पता चल जाएगा। आज भारत ने जिस कार्य को हर नागरिक के कंधे पर सौंपा है और कई संस्थाएँ खुद जागरूकता फैलाने का जिम्मा उठा रही हैं, वहीं पाकिस्तान में इसके लिए अलग से फोर्स बनी है। खुद सोचिए उस देश के लोग क्या जागरूक होंगे, जिनके प्रधानमंत्री पहले खुद कहते हैं कि कई घरों में 7-8 लोग साथ में रहते हैं। मगर थोड़ी देर बाद कहते हैं कि जरूरी नहीं स्वास्थ्य सुविधाएँ ली जाएँ। हम चाहें तो घर में रहकर भी ठीक हो सकते हैं।

अपनी बात को जोर देते हुए इमरान खान ये भी कहते हैं कि ये कोरोना वायरस केवल बुजुर्गों और बीमारों पर हमला करता है। इससे घबराने की जरूरत नहीं है। जबकि वास्तविकता ये है कि कोरोना हर वर्ग और हर श्रेणी के लोगों के लिए खतरनाक है। क्योंकि ये संक्रामक है। हाँ, इससे लड़ेंगे कैसे ये हम पर और हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम पर निर्भर करता है। लेकिन इमरान खान की बातें सुनकर लगता है कि उन्होंने विश्वव्यापी प्रकोप पर जानकारी भी कम जुटाई है। वे खुद बताते हैं कि उनकी टीम अब भी आँकड़ों का अवलोकन करने में ही जुटी है ताकि कोरोना के कारण पीड़ित मरीजों की संख्या में उछाल जान सके।

वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह अपने मुल्क में पीएम राहत कोष की घोषणा करते हैं। लेकिन यहाँ भी हमेशा की तरह अपने गैर जिम्मेदारी दिखाते हुए कहते हैं कि इस अकॉउंट में हर कोई पैसे डाल सकता है। मगर ये परसों से खुलेगा और तब लोग जितना चाहें उसमें उतना दान कर सकते हैं। उनसे पैसों को लेकर कोई सवाल नहीं पूछा जाएगा। बल्कि वो चाहेंगे तो उन्हें टैक्स रिलीफ दिया जाएगा। इसके बाद वे इसी पैसे से अपने देश की जनता की मदद करेंगे।

स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान का उल्लेख करते हुए इमरान खान कहते हैं कि जो भी व्यापारी अपने मजदूरों को इस मुश्किल की घड़ी में वेतन देने से मना नहीं करेंगे, उन्हें वे सस्ते दरों पर लोन देगा। अब इसके बाद एक और हास्यास्पद बात- प्रधानमंत्री इमरान खान इस विडियो में चैरिटी का भी तरीका समझाते हैं और कहते हैं कि इसके लिए उन्होंने फेसबुक पर इंतजाम किया है, वे वहाँ रजिस्टर करें। जिसके बाद एनालाइज करके बताएँगे कि किसे कहाँ कौन सी चीज की जरूरत है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वास्तिक को बैन करने के लिए अमेरिका के मैरीलैंड में बिल पेश: हिन्दू संगठन की आपत्ति, विरोध में चलाया जा रहा कैम्पेन

अमेरिका के मैरीलैंड में हाउस बिल के माध्यम से स्वास्तिक की गलत व्याख्या की गई। उसे बैन करने के विरोध में हिंदू संगठन कैम्पेन चला रहे।

आनंद को मार डाला क्योंकि वह BJP के लिए काम करता था: कैमरे के सामने आकर प्रत्यक्षदर्शी ने बताया पश्चिम बंगाल का सच

पश्चिम बंगाल में आनंद बर्मन की हत्या पर प्रत्यक्षदर्शी ने दावा किया है कि भाजपा कार्यकर्ता होने के कारण हुई आनंद की हत्या।

बंगाल में ‘मुस्लिम तुष्टिकरण’ है ही नहीं… आरफा खानम शेरवानी ‘आँकड़े’ दे छिपा रहीं लॉबी के हार की झुँझलाहट?

प्रशांत किशोर जैसे राजनैतिक ‘जानकार’ के द्वारा मुस्लिमों के तुष्टिकरण की बात को स्वीकारने के बाद भी आरफा खानम शेरवानी ने...

सबरीमाला मंदिर खुला: विशु के लिए विशेष पूजा, राज्यपाल आरिफ मोहम्मद ने किया दर्शन

केरल स्थित भगवान अयप्पा के सबरीमाला मंदिर में विशेष पूजा का आयोजन किया गया। विशु त्योहार से पहले शनिवार को मंदिर को खोला गया।

रमजान हो या कुछ और… 5 से अधिक लोग नहीं हो सकेंगे जमा: कोरोना और लॉकडाउन पर CM योगी

कोरोना संक्रमण के बीच सीएम योगी ने प्रदेश के धार्मिक स्थलों पर 5 से अधिक लोगों के इकट्ठे होने पर लगाई रोक। रोक के अलावा...

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

प्रचलित ख़बरें

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

SHO बेटे का शव देख माँ ने तोड़ा दम, बंगाल में पीट-पीटकर कर दी गई थी हत्या: आलम सहित 3 गिरफ्तार, 7 पुलिसकर्मी भी...

बिहार पुलिस के अधिकारी अश्विनी कुमार का शव देख उनकी माँ ने भी दम तोड़ दिया। SHO की पश्चिम बंगाल में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी।

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

जुमे की नमाज के बाद हिफाजत-ए-इस्लाम के कट्टरपंथियों ने हिंसा के लिए उकसाया: हमले में 12 घायल

मस्जिद के इमाम ने बताया कि उग्र लोगों ने जुमे की नमाज के बाद उनसे माइक छीना और नमाजियों को बाहर जाकर हिंसा का समर्थन करने को कहने लगे। इसी बीच नमाजियों ने उन्हें रोका तो सभी हमलावरों ने हमला बोल दिया।

‘ASI वाले ज्ञानवापी में घुस नहीं पाएँगे, आप मारे जाओगे’: काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को धमकी

ज्ञानवापी केस में काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी देने वाले का नाम यासीन बताया जा रहा।

केरल में मंदिर के बाहर मुस्लिम लीग का झंडा, हिंदू कार्यकर्ताओं ने शूटिंग पर जताया एतराज तो कर लिए गए गिरफ्तार

केरल में एक मंदिर के बाहर फिल्म की शूटिंग का हिंदू कार्यकर्ताओं ने विरोध किया। उन्होंने फिल्म के कुछ दृश्यों को लेकर आपत्ति जताई।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,164FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe