Wednesday, August 4, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयPak ने शाहीन-3 मिसाइल टेस्ट फायर किया, हुए कई घर बर्बाद और सैकड़ों घायल:...

Pak ने शाहीन-3 मिसाइल टेस्ट फायर किया, हुए कई घर बर्बाद और सैकड़ों घायल: बलूच नेता का ट्वीट, गिरना था कहीं… गिरा कहीं और!

"मिसाइल को उस क्षेत्र में विस्फोट कर दिया, जहाँ पहले से नागरिक मौजूद थे। इस विस्फोट ने कई घरों को नष्ट कर दिया और कई लोगों को घायल कर दिया है। पाकिस्तानी सेना ने बलूचिस्तान को प्रयोगशाला में बदल दिया है।"

पाकिस्तान ने बुधवार (20 जनवरी, 2021) को सतह से सतह पर मार करने वाली अपनी बैलिस्टिक मिसाइल शाहीन-3 का परीक्षण किया। पाकिस्तान आर्मी ने दावा किया है कि परमाणु हथियार ले जाने की क्षमता से लैस इस मिसाइल की रेंज 2750 किलोमीटर है।

मिसाइल के लॉन्च होते ही पाकिस्तान सेना के प्रोपेगेंडा आर्म- इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (ISPR) ने कहा कि शाहीन-3 मिसाइल का ‘सफल’ लॉन्च’ “हथियार प्रणाली के विभिन्न डिजाइन और तकनीकी मापदंडों को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से” था।

हालाँकि, पाकिस्तानी सेना के शाहीन-3 मिसाइल के सफल परीक्षणों के विपरीत, पाकिस्तान से और भी कई रिपोर्ट्स सामने आ रही है। इससे पता चलता है कि पाकिस्तान का यह परीक्षण उसकी बड़ी विफलता थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक मिसाइल बलूचिस्तान के नागरिक क्षेत्र में गिरा, जिसने कई घरों को तबाह कर दिया। साथ ही कई नागरिक घायल भी हो गए।

बलूचिस्तान की सबसे प्रभावशाली राजनीतिक पार्टियों में से एक बलूच रिपब्लिकन पार्टी ने खुलासा किया कि पाकिस्तान आर्मी ने लेटेस्ट शाहीन-3 मिसाइल को डेरा गाजी खान के राखी क्षेत्र से फायर किया था और उसे नागरिक आबादी वाले डेरा बुगती के मैट क्षेत्र में गिराया गया।

बलूच रिपब्लिकन पार्टी ने ट्विटर पर पोस्ट करते हुए कहा कि सुरक्षा बलों ने कल रात क्षेत्र में सभी असुरक्षित जगहों को खाली करा दिया, लेकिन इस मिसाइल को उस क्षेत्र में विस्फोट कर दिया, जहाँ पहले से नागरिक मौजूद थे। इस विस्फोट ने कई घरों को नष्ट कर दिया और कई लोगों को घायल कर दिया है।

BRP के केंद्रीय प्रवक्ता शेर मोहम्मद बुगती ने यह आरोप भी लगाया कि पाकिस्तानी सेना ने बलूचिस्तान को प्रयोगशाला में बदल दिया है।

सोशल मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शाहीन-3 के फेल परीक्षण में कई लोगों को गंभीर चोटें आईं। बुगती ने बताया कि इसके बावजूद घायलों को अभी तक इलाज के लिए अस्पताल नहीं ले जाया गया।

एक अन्य बलूच नेता फ़ाज़िला बलूच ने भी बताया कि कैसे 1998 में पाकिस्तान ने चागी में एक परमाणु मिसाइल का परीक्षण किया था, जिसमें कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

बुगती ने विश्व के नेताओं से मिसाइल परीक्षण का खुलासा करने के लिए डेरा बुगती का दौरा करने का आग्रह किया, जिसके कारण बलूचिस्तान में विनाश हुआ है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘धर्म में मेरा भरोसा, कर्म के अनुसार चाहता हूँ परिणाम’: कोरोना से लेकर जनसंख्या नियंत्रण तक, सब पर बोले CM योगी

सपा-बसपा को समाजिक सौहार्द्र के बारे में बात करने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि उनका इतिहास ही सामाजिक द्वेष फैलाने का रहा है।

ईसाई बने तो नहीं ले सकते SC वर्ग के लिए चलाई जा रही केंद्र की योजनाओं का फायदा: संसद में मोदी सरकार

रिपोर्ट्स बताती हैं कि आंध्र प्रदेश में ईसाई धर्म में कन्वर्ट होने वाले 80 प्रतिशत लोग SC वर्ग से आते हैं, जो सभी तरह की योजनाओं का लाभ उठाते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,945FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe