Wednesday, December 1, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपाकिस्तान ने कहा 2022 तक स्पेस में भेजेंगे इंसान, लोग बोले- चंदा मामा दूर...

पाकिस्तान ने कहा 2022 तक स्पेस में भेजेंगे इंसान, लोग बोले- चंदा मामा दूर के

पाकिस्तान के पास न तो कोई अंतरिक्ष प्रोग्राम है और न स्पेस स्ट्रक्चर। उसकी आर्थिक स्थिति भी दयनीय है। इस सूरते हाल में चौधरी के दावे पर सवाल उठने ही थे और सोशल मीडिया यूजर्स ने तंज कसने में देर नहीं की।

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी के एक ऐलान से सोशल मीडिया में पाकिस्तान का मजाक बन गया। उन्होंने ट्वीट कर बताया कि पाकिस्तान 2022 में चीन की मदद से अपने पहले व्यक्ति को अंतरिक्ष में भेजेगा। इसके लिए चयन प्रक्रिया फरवरी 2020 से शुरू होगी।

असल में, पाकिस्तान के पास न तो कोई अंतरिक्ष प्रोग्राम है और न ही स्पेस स्ट्रक्चर। उसकी आर्थिक स्थिति भी दयनीय है। इस सूरते हाल में चौधरी के दावे पर सवाल उठने ही थे और सोशल मीडिया यूजर्स ने इसमें देर भी नहीं लगाई।

अपने मंत्री के इस ऐलान को पाकिस्तानियों ने भी गंभीरता से नहीं लिया। मीर मोहम्मद अली खान ने ट्वीट किया, “मैं कुछ लोगों को नामित करना चाहता हूँ। लेकिन, आपको मुझसे वादा करना होगा कि उन्हें वापस नहीं लाया जाएगा।”

चौधरी ने बताया कि अंतरिक्ष में भेजने के लिए 50 लोगों को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा। इसके बाद यह सूची 25 पर आएगी और 2022 में पाकिस्तान अपने पहले व्यक्ति को अंतरिक्ष में भेज देगा। उनके मुताबिक यह क्षण पाकिस्तान के लिए ऐतिहासिक अवसर होगा।

चौधरी की इस घोषणा के बाद ट्विटर पर हैशटैग पाकिस्तान ट्रेंड करने लगा। सोशल मीडिया एक्टिविस्ट और टीवी पत्रकार गुल बुख़ारी ने उनके ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए कहा, ”क्या आप उपलब्धियाँ बता सकते हैं जो अंतरिक्ष में एक पाकिस्तानी को भेजने के लिए पैसे खर्च करेंगे? अब तक तो कोई वैज्ञानिक उपलब्धियाँ नहीं दिखी हैं।”

सलमान हैदर ने ट्वीट किया है, “हमारे पास स्वीमिंग पूल नहीं है इसलिए हम जंगल में डूबेंगे, लेकिन हम डूबेंगे।।”

ट्विटर यूज़र वहीद ने लिखा, “हमें इस तरह की चीज़ों की ज़रूरत नहीं है। लोग यहाँ भूख से मर रहे हैं और आप लोग पाकिस्तानी आवाम के पैसे को अपने ऐश-ओ-आराम के लिए उड़ा रहे हैं। सबसे पहले यहाँ ग़रीबी को दूर कीजिए उसके बाद अंतरिक्ष पर भेजने की बात कीजिए।”


 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe