Tuesday, November 30, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'पुलवामा आतंकवादी हमला इमरान खान सरकार की उपलब्धि': मंत्री फवाद चौधरी ने खुलकर स्वीकारा...

‘पुलवामा आतंकवादी हमला इमरान खान सरकार की उपलब्धि’: मंत्री फवाद चौधरी ने खुलकर स्वीकारा पाकिस्तानी कारस्तानी को

फवाद चौधरी ने नेशनल असेम्बली में कहा, "पाकिस्तान ने भारत को घुसकर मारा है। पुलवामा में जो हमारी कामयाबी है, वह इमरान खान के नेतृत्व में पूरे देश की कामयाबी है। उसके हिस्सेदार आप भी हैं।"

पाकिस्तान जैसे आतंक को प्रश्रय देने वाले देश ने बुधवार को एक चौकाने वाला खुलासा किया है। पूरे देश को सदमे में डाल देने वाले पुलवामा हमले में पाकिस्तान का हाथ था। पाकिस्तान सरकार के मंत्री फवाद चौधरी ने स्वीकार किया है कि पुलवामा हमले में पाकिस्तान का ही हाथ था।

बता दें कि 14 फरवरी, 2019 कश्मीर के पुलवामा में बड़ा आतंकी हमला हुआ था। इस हमले में भारत के करीब 40 जवानों की जान चली गई थी। कई जवान घायल भी हुए थे। इस हमले के बाद भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दर्ज की थी और एयर स्ट्राइक कर इस दुस्साहस का जवाब दिया था।

पाकिस्तान के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी ने पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में बर्बर 2019 पुलवामा आतंकी हमले में पाकिस्तान की भूमिका स्वीकार करते हुए कहा कि पुलवामा हमला पाकिस्तान के लिए बड़ी उपलब्धि थी और इमरान खान सरकार के नेतृत्व में ये बड़ी कामयाबी थी।

भारत को जवाब देने में अपनी विफलता पर इमरान ‘तालिबान‘ के नेतृत्व वाली सरकार के खिलाफ विपक्ष की आलोचना का जवाब देते हुए, फवाद चौधरी ने कहा कि पाकिस्तान ने उनके क्षेत्र में प्रवेश करके और पुलवामा में हमला करके भारत को करारा जवाब दिया।

फवाद चौधरी ने नेशनल असेम्बली में कहा, “पाकिस्तान ने भारत को घुसकर मारा है। पुलवामा में जो हमारी कामयाबी है, वह इमरान खान के नेतृत्व में पूरे देश की कामयाबी है। उसके हिस्सेदार आप भी हैं।”

फवाद चौधरी ने कहा, “हमें गर्व है कि हमारे बहादुर बेटों (आतंकवादियों) ने उनके क्षेत्र में प्रवेश किया और पुलवामा में उन पर हमला किया। पुलवामा की घटना के बारे में रिपोर्ट करने में भी भारतीय मीडिया को शर्म आती है।” पाकिस्तान मंत्री को 14 फरवरी, 2019 को पुलवामा, जम्मू और कश्मीर में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए घातक आतंकवादी हमले में पाकिस्तान की सीधी भागीदारी को लेकर बहुत गर्व है।

गौरतलब है कि पाकिस्तानी मंत्री सीआरपीएफ सैनिकों के काफिले पर पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा आत्मघाती हमले का जिक्र कर रहे थे। भारत ने हमेशा भारत की धरती पर हुए इस हमले के लिए पाकिस्तान को दोषी ठहराया था। लेकिन पाकिस्तान अब तक अपनी भागीदारी से इनकार कर रही थी। इसके बजाय भारत में घरेलू आतंकवादियों को हमले के लिए दोषी ठहरा रही थी। लेकिन पाकिस्तान के एक निवर्तमान मंत्री द्वारा चौंकाने वाले खुलासे ने अब इस्लामिक आतंकवादी समूहों के लिए पाकिस्तान के प्रत्यक्ष समर्थन को उजागर कर दिया है।

पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद ने शुरूआत में पुलवामा में हमला करने की बात स्वीकार की थी। आत्मघाती हमलावर आदिल अहमद डार नाम के एक कश्मीरी आतंकवादी ने पुलवामा में 40 सीआरपीएफ जवानों की हत्या का नेतृत्व किया था, जिसने 14 फरवरी, 2019 को सीआरपीएफ की बस में 100 किलो विस्फोटक से भरी अपनी कार को रौंदकर हत्या कर दी।

फवाद चौधरी के खुलासे से यह स्पष्ट है कि पाकिस्तान ने सक्रिय रूप से इन आतंकवादियों को भारत में प्रवेश करने और ऐसे घातक आतंकी हमलों को अंजाम देने के लिए सक्रिय रूप से समर्थन किया।

पाकिस्तानी सांसद ने खोली थी अपने विदेश मंत्री के ‘डर से काँपने’ वाली बात

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान सरकार के खिलाफ विपक्षी सदस्यों के जुबानी जंग और अभिनंदन वर्धमान की रिहाई को लेकर अयाज सादिक के खुलासे के बाद यह सनसनीखेज खुलासा हुआ।

पीएमएल-एन के नेता अयाज सादिक ने पाकिस्तान की संसद नेशनल असेंबली में कहा, “विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने एक अहम बैठक में कहा था कि अगर हम विंग कमांडर अभिनंदन को नहीं छोड़ते हैं तो भारत 9 बजे तक हम पर हमला कर देगा।” पाकिस्तानी सांसद के इस बयान का वीडियो फ़िलहाल पूरे सोशल मीडिया पर चर्चा में बना हुआ है, जिसमें देखा जा सकता है कि वह पाकिस्तानी सरकार और सेना के भय की वास्तविकता बता रहे हैं।

इसके बाद पाकिस्तानी सांसद अयाज सादिक ने कहा कि इस घटना के ठीक बाद विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने पीएमएल-एन, पीपीपी और पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा के अलावा अन्य नेताओं और अधिकारियों के साथ एक बैठक बुलाई थी। इस बैठक के बारे में बात करते हुए अयाज सादिक ने कहा, “मुझे बहुत अच्छे से याद है कि बैठक के दौरान सेना प्रमुख बाजवा कमरे में दाखिल हुए थे। उस दौरान बेहद घबराए हुए थे, वह पसीना-पसीना थे और उनके पैर तक काँप रहे थे।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,690FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe