Saturday, October 23, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपाकिस्तानी न्यूज चैनल ने मुस्लिमों से इजरायल के खिलाफ जिहाद का किया आह्वान, कहा-...

पाकिस्तानी न्यूज चैनल ने मुस्लिमों से इजरायल के खिलाफ जिहाद का किया आह्वान, कहा- ‘कुरान के 9वें अध्याय में अल्लाह का यही संदेश’

"आज मैं जो कुछ भी कहूँगा वो इस्लाम के प्रति धार्मिक जुड़ाव का नजरिए होगा। न तो मुझे अंतरराष्ट्रीय संबंधों को लेकर कोई रुचि है और न ही मैं जनहित के किसी दिशा-निर्देशों का पालन करूँगा। आप सूरह-ए-तौबा की कई आयतें और उसकी व्याख्या स्क्रीन पर देख सकते हैं। वह अल्लाह की खोज में जिहाद का आह्वान करता है।"

इजराइल और फिलिस्तीन के बीच जारी चल रहे संघर्ष के बीच, ‘बोल न्यूज’ के नाम से एक पाकिस्तानी समाचार चैनल ने मुसलमानों से इजराइल के खिलाफ “जिहाद” करने का आह्वान किया है। इस कार्यक्रम को रविवार (16 मई) को “टाइम फॉर जिहाद इज़राइल बनाम फिलिस्तीन” शीर्षक से ऑन एयर किया गया था।

कार्यक्रम की शुरुआत में ही शो की होस्ट नूर-उल-अरफीन ने इजराइली डिफेंस फोर्स द्वारा आतंकी संगठन हमास पर हमले का जिक्र करते कहा, “जब मैं आपसे बात कर रहा हूँ तो दुनिया की सबसे बड़ी मानवीय त्रासदी चल रही है। इससे पहले कि मैं इसके बारे में आगे बात करूँ, मैं आपको याद दिला दूँ कि कुरान इन हालातों में मोमिनों को क्या करने की सलाह देता है। कुरान के 9वें अध्याय, सूरह-ए-तौबा पर प्रकाश डालते हुए एंकर ने जिहाद करने की बात की।”

शो के होस्ट ने जोर देते हुए कहा, “आज मैं जो कुछ भी कहूँगा वो इस्लाम के प्रति धार्मिक जुड़ाव का नजरिए होगा। न तो मुझे अंतरराष्ट्रीय संबंधों को लेकर कोई रुचि है और न ही मैं जनहित के किसी दिशा-निर्देशों का पालन करूँगा। आप सूरह-ए-तौबा की कई आयतें और उसकी व्याख्या स्क्रीन पर देख सकते हैं। वह अल्लाह की खोज में जिहाद का आह्वान करता है, चाहे वह कम हो या ज्यादा। सभी मुसलमानों के लिए अल्लाह का यही संदेश है।”

नूर-उल-अरफीन ने अफसोस जताया कि दुनिया के मुसलमान कहते हैं कि वे अंतरराष्ट्रीय संबंधों और संधियों से बंधे हैं और इस तरह जिहाद के लिए तैयार नहीं हैं। कुरान के चौथे अध्याय सूरह-एन-निसा पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा, “मुसलमानों आप असहाय महिलाओं और बच्चों पर किए गए अत्याचारों को क्यों नहीं देखते? क्या कोई सच्चा मुस्लिम नेता नहीं है जो दुनिया पर राज करने की लालसा रखने वालों के हाथ रोक सके? यह गाजा में अब तक का सबसे घातक हमला है, जिसमें 150 से अधिक लोग बलिदान हुए हैं।”

पाकिस्तानी एंकर ने इजराइली सैन्य बलों को “इज़राइल रक्षा बल ” बताने की बजाय उसे “यहूदी रक्षा बल” कहना चुना। एंकर ऐसा करके पाकिस्तानी लोगों की यहूदी विरोधी भावना को भड़काना चाहता है। अपने शो में उसने एक भी बार हमास के हमले की निंदा नहीं की। एंकर ने खेद व्यक्त करते हुए कहा कि यहूदी बलों ने अल-जज़ीरा कार्यालय पर हमला किया और यह सब दुनिया भर के मुसलमानों को “जिहाद” करने के लिए एक जागृत कॉल था।

अमेरिका ने मुसलमानों के चेहरे मारा करारा तमाचा

बोल न्यूज़ के एंकर ने जो बाइडेन को अमेरिकी अध्यक्ष बताते हुए कहा, “संयुक्त राज्य अमेरिका के अध्यक्ष, जो बिडेन ने मुसलमानों के चेहरे पर उनके घोर अमानवीय स्वभाव को प्रदर्शित करते हुए एक जोरदार तमाचा दिया है। इससे सभी मुसलमानों को शर्मिंदगी उठानी पड़ी है। बाइडेन ने इजराइल के प्रधानमंत्री को फोन कर कहा है कि अपनी सीमा की सुरक्षा करना उसके अधिकार में है। हालाँकि, उन्होंने कहा कि मीडिया संगठनों के कार्यालयों को निशाना नहीं बनाया जाना चाहिए। उनके अनुसार, “निर्दोष मुस्लिम फिलिस्तीनियों” का जीवन कोई मायने नहीं रखता।

2 मिलियन से अधिक सब्सक्राइबर्स के बावजूद पाकिस्तानी न्यूज चैनल का एंकर आतंकवाद, धार्मिक नफरत और नरसंहार का खुला आह्वान करने से पीछे नहीं हटा। नूर-उल-अरफीन ने ऐलान किया कि यहूदी ताकतों के कार्यों का बदला लेना चाहिए, मुसलमान किसी भी अंतरराष्ट्रीय नियमों से नहीं बंधे हैं। पाकिस्तान के चैनलों में यहूदियों का विरोध सामान्य सी बात है, लेकिन बोल न्यूज के एंकर ने एक कदम आगे निकलकर अमेरिका के खिलाफ बोला है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मृत जवान के परिजनों से मिले गृह मंत्री, पत्नी को दी सरकारी नौकरी: सुरक्षा पर बड़ी बैठक, जानिए अमित शाह के J&K दौरे में...

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह शनिवार (23 अक्टूबर, 2021) को केंद्रशासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के दौरे पर पहुँचे। मृत पुलिस जवान के परिजनों से मुलाकात की।

परमवीर सूबेदार जोगिंदर सिंह: जो बिना हथियार 200 चीनी सैनिकों से लड़े… पापा से प्यार इतना कि बलिदान पर बेटी का भी निधन

15 साल की उम्र में ब्रिटिश इंडियन आर्मी को ज्वॉइन कर लिया था सूबेदार जोगिंदर सिंह ने और सिख रेजीमेंट की पहली बटालियन का हिस्सा बन गए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,988FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe