Sunday, June 16, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयभूखे रहोगे तो यीशु से मिलवाऊँगा... अब तक 21 लाशें निकाली गईं, 58 कब्रों...

भूखे रहोगे तो यीशु से मिलवाऊँगा… अब तक 21 लाशें निकाली गईं, 58 कब्रों की पहचान: केन्या में पादरी के कहने पर लोगों ने छोड़ दिया था खाना-पीना

दरअसल, पादरी की बातों पर भरोसा कर के इन लोगों ने खाना छोड़ दिया था। वह सभी एक घर में एक साथ रहने लग गए थे। धीरे-धीरे भूख से उनकी तबीयत खराब होने लगी।

अफ्रीकी देश केन्या में ईसाई पादरी पॉल माकेन्ज़ी नथेन्गे (Paul Mackenzie Nthenge) के कहने पर कई लोगों ने भूखे रहकर अपनी जान दे दी। पुलिस ने अब तक 21 शव बरामद किए हैं। आरोप है कि पदारी ने भूखे रहने पर यीशु से मिलवाने की बात कही थी। फिलहाल आरोपित पादरी पुलिस की गिरफ्त में हैं।

यह पूरा मामला केन्या के किलिफी काउंटी क्षेत्र के शाकाहोला गाँव का है। यहाँ पादरी पॉल माकेन्ज़ी नथेन्गे गुड न्यूज इंटरनेशनल चर्च चलाता था। यह पदारी प्रार्थना के लिए लोगों को इकट्ठा करता था। इसके बाद उसने लोगों से कहा कि यदि वे भूखे रहेंगे तो वह उन्हें यीशु से मिलवाएगा। इस पर कई लोग भूखे रहने लगे। इससे एक के बाद एक कई लोगों की मौत हो गई। इसमें पुरुष महिला और बच्चे शामिल हैं।

कैसे सामने आया मामला

दरअसल, पादरी की बातों पर भरोसा कर के इन लोगों ने खाना छोड़ दिया था। वह सभी एक घर में एक साथ रहने लग गए थे। धीरे-धीरे भूख से उनकी तबीयत खराब होने लगी। इस बात की जानकारी जब पुलिस को हुई तो उसने घर पर दबिश दी। यहाँ पुलिस को सभी 15 लोग बेहद बुरी हालत में मिले। पुलिस ने उन सभी को अस्पताल में भर्ती करवाया जहाँ 4 लोगों को मृत घोषित कर दिया गया। इसमें 3 पुरुष और 1 महिला शामिल है।

मामले का खुलासा होने के बाद पुलिस ने आरोपित पादरी को गत 15 अप्रैल को गिरफ्तार किया। इसके बाद से उससे पूछताछ हो रही है। हालाँकि, अब तक उसे कोर्ट में पेश नहीं किया गया है। पुलिस ने पादरी के अलावा 5 अन्य आरोपितों को गिरफ्तार किया था। वहीं, पुलिस अब तक शाकाहोला जंगल से 21 शवों को बरामद चुकी है। वहीं, पुलिस अब तक 58 कब्रों की भी पहचान कर चुकी है। कहा जा रहा है कि एक कब्र में एक ही परिवार के 5 सदस्यों 3 बच्चों और उनके माता-पिता को दफनाया गया था।

संदेह है कि हाल में चिन्हित की गई सभी कब्रों में भूख से मरने वालों को दफनाया गया है। ऐसे में माना जा रहा है कि पादरी के कहने से भूखे रहकर जान देने वालों की संख्या में इजाफा हो सकता है। यही नहीं, अब तक बरामद किए गए शवों की भी जाँच की जा रही है। पुलिस यह पता करना चाहती है कि आखिर कितने लोगों की मौत भूखे रहने से हुई।

अपने बचाव में पादरी ने कहा है कि उसने कुछ भी गलत नहीं किया है। साल 2019 में ही उसका चर्च बंद हो गया था। रिपोर्ट के अनुसार, आरोपित पादरी ने पहले तीन गाँवो नासरत, बेथलेहम और यहूदिया का नाम लिया। इसके बाद, तलाब में बपतिस्मा कर लोगों को भूखे रहने के लिए कहा। बता दें कि आरोपित पादरी पॉल माकेन्ज़ी नथेन्गे को मार्च 2023 में भूख से दो बच्चों को मारने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। हालाँकि इसके बाद कोर्ट से उसे जमानत मिल गई।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गलत वीडियो डालने वाले अब नहीं बचेंगे: संसद के अगले सत्र में ‘डिजिटल इंडिया बिल’ ला सकती है मोदी सरकार, डीपफेक पर लगाम की...

नरेंद्र मोदी सरकार आगामी संसद सत्र में डीपफेक वीडियो और यूट्यूब कंटेंट को लेकर डिजिटल इंडिया बिल के नाम से पेश किया जाएगा।

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -