Sunday, June 26, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'आपसी सहयोग कोरोना के दुष्प्रभावों से वैश्विक अर्थव्यवस्था को बचाएगा': BRICS की बैठक में...

‘आपसी सहयोग कोरोना के दुष्प्रभावों से वैश्विक अर्थव्यवस्था को बचाएगा’: BRICS की बैठक में बोले पीएम मोदी, दुनिया के 16% व्यापार को कंट्रोल करता है संगठन

ये बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई। बैठक में पीएम मोदी के अलावा चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका के शीर्ष नेता उपस्थित रहे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने गुरुवार (23 जून 2022) को ब्रिक्स (BRICS) देशों की मीटिंग को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि कोरोना का संकट भले ही टल गया हो, लेकिन वैश्विक अर्थव्यवस्था में इसके दुष्प्रभाव अभी भी दिख रहे हैं। ब्रिक्स के सदस्य देशों का वैश्विक अर्थव्यवस्था के गवर्नेंस के लिए समान दृष्टिकोण है। इसलिए सदस्यों का आपसी सहयोग आर्थिक सुधार में उपयोगी योगदान दे सकता है।

पीएम मोदी ने कहा कि पिछले सालों में हमने ब्रिक्स में कई संस्थागत सुधार किए हैं जिससे इस संगठन की प्रभावशीलता बढ़ी है। हमारी न्यू डेवलपमेंट बैंक की सदस्यता में भी वृद्धि हुई है। ऐसे कई क्षेत्र हैं जहाँ हमारे आपसी सहयोग से हमारे नागरिकों को सीधा लाभ मिल रहा है। इसके साथ ही पीएम ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को सफल बनाने के लिए ब्रिक्स के देशों का आभार भी व्यक्त किया।

इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा, “मुझे विश्वास है कि आज हमारे विचार-विमर्श से हमारे संबंधों को और मजबूत करने के लिए सुझाव मिलेंगे।”

ये बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई। बैठक में पीएम मोदी के अलावा चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका के शीर्ष नेता उपस्थित रहे। ये ब्रिक्स की 14वीं मीटिंग है। इस साल का मेजबान चीन रहा है।

उल्लेखनीय है कि ब्रिक्स (ब्राजील-रूस-भारत-चीन-दक्षिण अफ्रीका) दुनिया के पाँच सबसे बड़े विकासशील देशों का संगठन है, जो कि वैश्विक आबादी का 41 फीसदी, वैश्विक जीडीपी का 24 फीसदी और 16% वैश्विक व्यापार का प्रतिनिधित्व करता है।

पुतिन ने भारत को लेकर कही बड़ी बात

ब्रिक्स की बैठक के दौरान रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मुश्किल वक्त में भारत द्वारा रूस से तेल खरीदकर उसकी मदद करने को लेकर अब भारत की मदद के लिए हाथ बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि रूस में भारतीय स्टोर्स खोलने के लिए बातचीत की जा रही है। पुतिन ने कहा कि इस साल के शुरुआती तीन महीनों में ब्रिक्स देशों का व्यापार 38% तक बढ़ा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गे बार के पास कट्टर इस्लामी आतंकी हमला, गोलीबारी में 2 की मौत: नॉर्वे में LGBTQ की परेड रद्द, पूरे देश में अलर्ट

नॉर्वे की राजधानी ओस्लो में गे बार के नजदीक हुई गोलीबारी को प्रशासन ने इस्लामी आतंकवाद करार दिया है। 'प्राइड फेस्टिवल' को रद्द कर दिया गया।

BJP के ईसाई नेता ने हवन-पाठ करके अपनाया सनातन धर्म: घरवापसी पर बोले- ‘मुझे हिंदू धर्म पसंद है, मेरे पूर्वज हिंदू थे’

विवीन टोप्पो ने हिंदू धर्म स्वीकारते हुए कहा कि उन्हें ये धर्म अच्छा लगता है इसलिए उन्होंने इसका अनुसरण करने का फैसला किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,381FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe