Sunday, November 29, 2020
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय ₹5,000 के लिए अब्दुल ने 13 साल की बच्ची से किया रेप, ₹2500 के...

₹5,000 के लिए अब्दुल ने 13 साल की बच्ची से किया रेप, ₹2500 के लिए महिला से गैंगरेप

नाबालिग पीड़िता का पिता मोहम्मद लिटन आरोपित अब्दुल हसन के पोल्ट्री में काम करता था। एक साल पहले उसने कर्ज लिया था जो वह चुका नहीं पाया। इसके एवज में अब्दुल ने कई बार उसकी बेटी के साथ बलात्कार किया।

बांग्लादेश में इस साल दुष्कर्म की कुछ ऐसी घटनाएँ सामने आई है जिसने पूरे देश को झकझोर दिया है। राइट्स ग्रुपों का कहना है कि बलात्कार की घटनाएँ न केवल लगातार बढ़ रही है, बल्कि पैसे के लिए महिलाओं और बच्चियों को निशाना बनाने का चलन भी दिख रहा है। राजधानी ढाका के बाहरी इलाक़े Kamrangirchar और Ashulia क्षेत्र से ऐसी ही दो चौंकाने वाली घटना सामने आई है। एक मामले में 13 साल की नाबालिग बच्ची का बलात्कार इसलिए किया गया क्योंकि उसका पिता 5000 रुपए की उधारी चुकाने में सक्षम नहीं था। क़र्ज़ वसूली के नाम पर अब्दुल ने बच्ची का कई दिनों तक बलात्कार किया। दूसरे मामले में एक महिला का गैंगरेप इसलिए किया गया क्योंकि उसका पति 2500 रुपए बतौर कमरे का किराया नहीं दे पाया था।

ख़बर के अनुसार, ढाका के Kamrangirchar इलाक़े में एक बाप ने अपनी बेटी को अब्दुल हुसैन के साथ संबंध बनाने का दबाव इसलिए बनाया क्योंकि वो उसके बकाया रुपए की अदायगी में असमर्थ था। आरोपित अब्दुल हुसैन ने नाबालिग के पिता मोहम्मद लिटन की मदद से उसकी बेटी का बलात्कार किया। पीड़िता के पिता को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है।

Kamrangirchar पुलिस के उप-निरीक्षक (SI) शेख मोहम्मद मुर्शीद अली ने बताया कि 13 वर्षीय पीड़िता अपने पिता के साथ रह रही थी। उसके पिता ने अबुल हुसैन की पोल्ट्री में काम करते थे। लगभग एक साल पहले उन्होंने अब्दुल से 6,000 टका (करीब 5,009 रुपए) कर्ज़ा लिया था।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि जब लिटन क़र्जा चुकाने में विफल रहा, तो उसने अब्दुल को अपनी बेटी के साथ यौन संबंध बनाने का प्रस्ताव दिया। इसके लिए पहले तो लड़की को उसके पिता द्वारा समझौता करने के लिए मजबूर किया गया और जब वो नहीं मानी तो उसे पीटा गया। इसके बाद कई दिनों तक अब्दुल ने उसका बलात्कार किया।

बुधवार (15 जनवरी) को तड़के ढाका मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (DMCH) के वन-स्टॉप क्राइसिस सेंटर में पीड़िता को भर्ती कराया गया। SI ने बताया, “अस्पताल में  उसका इलाज चल रहा है। उसके ठीक होने के बाद, पीड़िता को उसके बयान के लिए अदालत में पेश किया जाएगा।”

SI ने बताया कि सोमवार (13 जनवरी) को पीड़िता ने अपने एक पड़ोसी से इस बात का खुलासा किया और मदद माँगी। इसके बाद, उस पड़ोसी ने मंगलवार (14 जनवरी) को 999 के माध्यम से पुलिस को बुलाया, कानून प्रवर्तन ने लड़की को बचाया और उसके पिता लिटन को गिरफ़्तार कर लिया। मुख्य आरोपित अब्दुल हसन को उसके ससुर के घर से गुरुवार को गिरफ्तार किया गया।

बलात्कार की दूसरी घटना में, रेडीमेंट गारमेंट की दुकान में काम करने वाली 24 वर्षीय पीड़िता का उसके मकान मालिक मोहम्मद कलाम ने अपने तीन साथियों के साथ मिलकर सामूहिक बलात्कार किया। सामूहिक बलात्कार के समय आरोपितों ने पीड़िता के पति को एक दूसरे कमरे में बंद कर रखा था। 

ढाका पुलिस के मुताबिक़, मोहम्मद कलाम को हिरासत में ले लिया गया है। पुलिस की पूछताछ के दौरान कलाम ने इस बात को स्वीकार किया कि उसने जबरन महिला के सोने के आभूषण बतौर किराए के रूप में लिए थे। लेकिन उसने सामूहिक दुष्कर्म के आरोप को ख़ारिज कर दिया। 

पीड़िता के अनुसार, मंगलवार की रात मकान माालिक मोहम्मद कलाम 4-5 लोगों के साथ उसके कमरे में आया और जनवरी माह का किराया (3000 टका) माँगने लगा। दंपति ने जब किराया देने में असमर्थता जताई तो उन्होंने महिला के उन सोने के आभूषणों की माँग की जो उस वक़्त उसने पहन रखे थे। आभूषण देने से जब महिला ने इनकार कर दिया तो उसके पति को एक दूसरे कमरे में बंद कर महिला के साथ सामूहिक बलात्कार किया। वहाँ से निकलते समय कलाम पीड़िता के गहने भी साथ में ले गया। फ़िलहाल, पुलिस इस मामले की जाँच में जुटी हुई है।

एक हालिया रिपोर्ट के मुताबिक बांग्लादेश में पिछले साल 1,413 बलात्कार की घटनाएँ सामने आई थी। 2018 में यह आँकड़ा 732 और 2017 में 818 था। रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल 37 लड़कों समेत 1087 बच्चों का यौन शोषण किया गया।

NRC की आहट से सहमे घुसपैठिए, रात के अँधेरे में भाग रहे बांग्लादेश

सभी बांग्लादेशी मूल रूप से हिन्दू, इस्लाम तो बाद में आया: प्रियंका चोपड़ा के अमेरिकी शो की लेखिका अहमद

फर्जी आधार कार्ड और वोटर आईडी के साथ बांग्लादेशी मोहम्मद बिलाल धनबाद से गिरफ्तार

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्रदर्शनकारी किसानों से बातचीत के लिए गृहमंत्री अमित शाह ने संभाला मोर्चा, कहा- पहले हाईवे खाली कर तय मैदान में जाएँ

“मैं प्रदर्शनकारी किसानों से अपील करता हूँ कि भारत सरकार बातचीत करने के लिए तैयार है। कृषि मंत्री ने उन्हें 3 दिसंबर को चर्चा के लिए आमंत्रित किया है। सरकार किसानों की हर समस्या और माँग पर विचार करने के लिए तैयार है।”

ओवैसी के गढ़ में रोड शो कर CM योगी आदित्‍यनाथ ने दी चुनौती, गूँजा- आया आया शेर आया… देखें वीडियो

सीएम योगी के रोड शो के में- ‘आया आया शेर आया.... राम लक्ष्मण जानकी, जय बोलो हनुमान की’, योगी-योगी, जय श्री राम, भारत माता की जय और वंदे मातरम के भी गगनभेदी नारे लगाए गए।

प्रदर्शन करने वाले किसानों को $1 मिलियन का ऑफर, खालिस्तान के समर्थन में खुलेआम नारेबाजी: क्या है SFJ का मास्टरप्लान

किसान आंदोलन पर खालिस्तान समर्थक ताकतों ने कब्ज़ा कर लिया है। SFJ पहले ही इस बात का ऐलान कर चुका है कि वह खालिस्तान का समर्थन करने वाले पंजाब और हरियाणा के किसानों को 10 लाख रूपए की आर्थिक मदद करेगा।

शादी में पैसा, फ्री कार, मस्जिद-दरगाहों का विकास: तेलंगाना में ‘अल्पसंख्यकों’ पर 6 साल में ₹5600 करोड़ खर्च

तेलंगाना में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के लिए सरकारी खजाने का नायाब उपयोग सामने आया है। तेलंगाना सरकार ने पिछले 6 वर्षों में राज्य में अल्पसंख्यक केंद्रित योजनाओं पर 5,639.44 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

ना MSP ख़त्म होगी, न APMC पर कोई फर्क पड़ेगा: जानिए मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों का सच

MSP हट जाएगा? APMC की शक्तियाँ ख़त्म हो जाएँगी? किसानों को फसल का नुकसान होगा? व्यापारियों की चाँदी होगी? कॉन्ट्रैक्ट कर के किसान फँस जाएँगे? जानिए सारी सच्चाई।

कैसे बन रही कोरोना वैक्सीन? अहमदाबाद और हैदराबाद में PM मोदी ने लिया जायजा, पुणे भी जाएँगे

कोरोना महामारी संकट के बीच शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में कोरोना वैक्सीन की तैयारियों का जायजा ले रहे हैं। इसके तहत पीएम मोदी देश के तीन शहरों के दौरे पर हैं।

प्रचलित ख़बरें

‘कबीर असली अल्लाह, रामपाल अंतिम पैगंबर और मुस्लिम असल इस्लाम से अनजान’: फॉलोवरों के अजीब दावों से पटा सोशल मीडिया

साल 2006 में रामपाल के भक्तों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 5 महिलाओं और 1 बच्चे की मृत्यु हुई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे। इसके बाद नवंबर 2014 में उसे गिरफ्तार किया गया था।

दिल्ली दंगों के दौरान मुस्लिमों को भड़काने वाला संगठन ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों को पहुँचा रहा भोजन: 25 मस्जिद काम में लगे

UAH के मुखिया नदीम खान ने कहा कि मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे लोगों को मदद पहुँचाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है।

दिवंगत वाजिद खान की पत्नी ने अंतर-धार्मिक विवाह की अपनी पीड़ा पर लिखा पोस्ट, कहा- धर्मांतरण विरोधी कानून का राष्ट्रीयकरण होना चाहिए

कमलरुख ने खुलासा किया कि कैसे इस्लाम में परिवर्तित होने के उनके प्रतिरोध ने उनके और उनके दिवंगत पति के बीच की खाई को बढ़ा दिया।

भोपाल स्टेशन के सालों पुराने ‘ईरानी डेरे’ पर चला शिवराज सरकार का बुलडोजर, हाल ही में हुआ था पुलिस पर पथराव

साल 2017 के एक आदेश में अदालत ने इस ज़मीन को सरकारी बताया था लेकिन अदालत के आदेश के बावजूद ईरानी यहाँ से कब्ज़ा नहीं हटा रहे थे।

31 का कामिर खान, 11 साल की बच्ची: 3 महीने में 4000 मैसेज भेजे, यौन शोषण किया; निकाह करना चाहता था

कामिर खान ने स्वीकार किया है कि उसने दो बार 11 वर्षीय बच्ची का यौन शोषण किया। उसे गलत तरीके से छुआ, यौन सम्बन्ध बनाने के लिए उकसाया और अश्लील मैसेज भेजे।

ना MSP ख़त्म होगी, न APMC पर कोई फर्क पड़ेगा: जानिए मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों का सच

MSP हट जाएगा? APMC की शक्तियाँ ख़त्म हो जाएँगी? किसानों को फसल का नुकसान होगा? व्यापारियों की चाँदी होगी? कॉन्ट्रैक्ट कर के किसान फँस जाएँगे? जानिए सारी सच्चाई।

दिवंगत वाजिद खान की पत्नी ने अंतर-धार्मिक विवाह की अपनी पीड़ा पर लिखा पोस्ट, कहा- धर्मांतरण विरोधी कानून का राष्ट्रीयकरण होना चाहिए

कमलरुख ने खुलासा किया कि कैसे इस्लाम में परिवर्तित होने के उनके प्रतिरोध ने उनके और उनके दिवंगत पति के बीच की खाई को बढ़ा दिया।

प्रदर्शनकारी किसानों से बातचीत के लिए गृहमंत्री अमित शाह ने संभाला मोर्चा, कहा- पहले हाईवे खाली कर तय मैदान में जाएँ

“मैं प्रदर्शनकारी किसानों से अपील करता हूँ कि भारत सरकार बातचीत करने के लिए तैयार है। कृषि मंत्री ने उन्हें 3 दिसंबर को चर्चा के लिए आमंत्रित किया है। सरकार किसानों की हर समस्या और माँग पर विचार करने के लिए तैयार है।”

खालिस्तानियों के बाद कट्टरपंथी PFI भी उतरा ‘किसान विरोध’ के समर्थन में, अलापा संविधान बचाने का पुराना राग

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के अध्यक्ष ओएमए सलाम ने भी घोषणा किया कि उनका इस्लामी संगठन ‘दिल्ली चलो’ मार्च का समर्थन करेगा। वह किसानों की माँगों के साथ खड़े हैं।

ओवैसी के गढ़ में रोड शो कर CM योगी आदित्‍यनाथ ने दी चुनौती, गूँजा- आया आया शेर आया… देखें वीडियो

सीएम योगी के रोड शो के में- ‘आया आया शेर आया.... राम लक्ष्मण जानकी, जय बोलो हनुमान की’, योगी-योगी, जय श्री राम, भारत माता की जय और वंदे मातरम के भी गगनभेदी नारे लगाए गए।

भोपाल स्टेशन के सालों पुराने ‘ईरानी डेरे’ पर चला शिवराज सरकार का बुलडोजर, हाल ही में हुआ था पुलिस पर पथराव

साल 2017 के एक आदेश में अदालत ने इस ज़मीन को सरकारी बताया था लेकिन अदालत के आदेश के बावजूद ईरानी यहाँ से कब्ज़ा नहीं हटा रहे थे।

मुंबई मेयर के ‘दो टके के लोग’ वाले बयान पर कंगना रनौत ने किया पलटवार, महाराष्ट्र सरकार पर कसा तंज

“जितने लीगल केस, गालियाँ और बेइज्जती मुझे महाराष्ट्र सरकार से मिली है, उसे देखते हुए तो अब मुझे ये बॉलीवुड माफिया और ऋतिक-आदित्य जैसे एक्टर भी भले लोग लगने लगे हैं।”

प्रदर्शन करने वाले किसानों को $1 मिलियन का ऑफर, खालिस्तान के समर्थन में खुलेआम नारेबाजी: क्या है SFJ का मास्टरप्लान

किसान आंदोलन पर खालिस्तान समर्थक ताकतों ने कब्ज़ा कर लिया है। SFJ पहले ही इस बात का ऐलान कर चुका है कि वह खालिस्तान का समर्थन करने वाले पंजाब और हरियाणा के किसानों को 10 लाख रूपए की आर्थिक मदद करेगा।

SEBI ने NDTV के प्रमोटरों प्रणय रॉय, राधिका रॉय और विक्रम चंद्रा समेत 2 अन्य को किया ट्रेडिंग से प्रतिबंधित, जानिए क्या है मामला

भारत के पूँजी बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने विवादास्पद मीडिया नेटवर्क NDTV के प्रवर्तकों प्रणय रॉय और राधिका रॉय को इनसाइडर ट्रेडिंग से अनुचित लाभ उठाने का दोषी पाया है।

शादी में पैसा, फ्री कार, मस्जिद-दरगाहों का विकास: तेलंगाना में ‘अल्पसंख्यकों’ पर 6 साल में ₹5600 करोड़ खर्च

तेलंगाना में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के लिए सरकारी खजाने का नायाब उपयोग सामने आया है। तेलंगाना सरकार ने पिछले 6 वर्षों में राज्य में अल्पसंख्यक केंद्रित योजनाओं पर 5,639.44 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

ना MSP ख़त्म होगी, न APMC पर कोई फर्क पड़ेगा: जानिए मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों का सच

MSP हट जाएगा? APMC की शक्तियाँ ख़त्म हो जाएँगी? किसानों को फसल का नुकसान होगा? व्यापारियों की चाँदी होगी? कॉन्ट्रैक्ट कर के किसान फँस जाएँगे? जानिए सारी सच्चाई।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,443FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe