Thursday, June 13, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकीव पर दागी मिसाइलें, कई शहरों में धमाके: यूक्रेन की सेना से बोले पुतिन-...

कीव पर दागी मिसाइलें, कई शहरों में धमाके: यूक्रेन की सेना से बोले पुतिन- हथियार डाल घर जाएँ, दुनिया से कहा- ऐसा होगा जो कभी नहीं देखा होगा

"यूक्रेन अपना बचाव करेगा और जीतेगा। पुतिन ने अभी-अभी यूक्रेन पर पूर्ण पैमाने पर आक्रमण शुरू किया है। यूक्रेन के शांतिपूर्ण शहरों पर हमले हो रहे हैं। यह आक्रामकता का युद्ध है। दुनिया पुतिन को रोक सकती है और उसे रोकना भी करना चाहिए। अब कार्रवाई का समय आ गया है।"

जिस युद्ध का अंदेशा पिछले कई दिनों से जताया जा रहा था वह शुरू हो गया है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने टेलीविजन के जरिए देश को संबोधित करते हुए पूर्वी यूक्रेन में ‘स्पेशल मिलिट्री ऑपरेशन’ के आदेश दिए। इसके बाद यूक्रेन के कई शहरों में धमाके की आवाज सुनी गई। यूक्रेन की राजधानी कीव पर मिसाइलें दागी जाने की खबर है।

इससे पहले पुतिन ने अपने संबोधन में कहा, “मैं यूक्रेन की आर्मी से कहना चाहूँगा कि आपके पुरखे और हम साझा लड़ाई लड़ते रहे हैं। आप अपने हथियार डाल घर चले जाएँ। यूक्रेन के ऐसे सैनिकों को सुरक्षित घरों तक पहुँचाया जाएगा। ऐसा नहीं करने पर उन्हें परिणाम भुगतना होगा।” रूसी राष्ट्रपति ने इस युद्ध में हस्तक्षेप को लेकर दुनिया को भी चेताया है। उन्होंने कहा है, “जो हो रहा है उसमें यदि कोई बाहरी देश घुसता है तो उसे तुरंत जवाब मिलेगा। ऐसा होगा जो इतिहास ने कभी नहीं देखा होगा। मैं उम्मीद करता हूँ मेरी आवाज सुनी जाएगी।”

पुतिन ने संबोधन में कहा कि यूक्रेन द्वारा पेश किए जा रहे खतरों के जवाब में यह कार्रवाई की जा रही है। रूस का लक्ष्य यूक्रेन पर कब्जा करना नहीं है। उन्होंने दावा किया कि इसका मकसद नागरिकों की रक्षा करना है।

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने रूसी राष्ट्रपति पुतिन से अपने सैनिकों को यूक्रेन पर हमला करने से रोकने की अपील की है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने सुरक्षा परिषद की आपात बैठक में रूसी राष्ट्रपति से अपने सैनिकों को यूक्रेन में प्रवेश करने से रोकने के लिए कहा है।  

संयुक्त राष्ट्र अमेरिका ने रूस की कार्रवाई की निंदा की है तो वहीं पुतिन ने अमेरिका और उसके सहयोगियों पर यूक्रेन को नाटो में शामिल होने से रोकने और मॉस्को सुरक्षा गारंटी की पेशकश करने की रूस की माँग की अनदेखी करने का आरोप लगाया।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा, “पूरी दुनिया की प्रार्थनाएँ आज यूक्रेन के लोगों के साथ हैं क्योंकि वे रूसी सैन्य बलों द्वारा एक अकारण और अनुचित हमले का शिकार हुए हैं। राष्ट्रपति पुतिन ने एक पूर्व नियोजित युद्ध चुना है जो मानव पीड़ा के साथ जीवन हेतु एक विनाशकारी नुकसान लाएगा।”

इधर यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने शांति बनाए रखने की अपील की है। देश के नाम संबोधन में जेलेंस्की ने यह भी बताया कि उन्होंने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को फोन करने की कोशिश की थी, लेकिन क्रेमलिन की ओर से कोई जवाब नहीं मिला। राष्ट्रपति ने देर रात अपने संबोधन में रूस के उन दावों को खारिज कर दिया कि उनका देश रूस के लिए खतरा पैदा कर रहा है। उन्होंने कहा कि रूस के आक्रमण से लाखों जिंदगियाँ प्रभावित होंगी।

वोलोदिमिर जेलेंस्की ने कहा, “यूक्रेन के लोग और यूक्रेन की सरकार शांति चाहते हैं। लेकिन अगर हम पर हमला होता है, अगर हम अपने देश, अपनी स्वतंत्रता, अपने जीवन और अपने बच्चों के जीवन को छीनने के प्रयास का सामना करते हैं, तो हम अपनी रक्षा करेंगे। जब आप हम पर हमला करेंगे तो हम सामने खड़े दिखाई देंगे न कि पीठ दिखाकर भाग खड़े होंगे।”

वहीं यूक्रेन के विदेश मंत्री ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “यूक्रेन अपना बचाव करेगा और जीतेगा। पुतिन ने अभी-अभी यूक्रेन पर पूर्ण पैमाने पर आक्रमण शुरू किया है। यूक्रेन के शांतिपूर्ण शहरों पर हमले हो रहे हैं। यह आक्रामकता का युद्ध है। दुनिया पुतिन को रोक सकती है और उसे रोकना भी करना चाहिए। अब कार्रवाई का समय आ गया है।”

इधर गुरुवार (24 फरवरी 2022) को यूक्रेन से भारतीयों को लेकर IGI एयरपोर्ट पर पहुँचा। इसमें छात्र भी शामिल है। वहाँ से लौटी MBBS की छात्रा ने कहा, “मैं जहाँ रह रही थी वहाँ की स्थिति ठीक है क्योंकि वह जगह बॉर्डर से दूर है। लेकिन हमारे दूतावास ने हमें जाने के लिए कहा। एडवाइजरी जारी होने के बाद हम वापस आ गए।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

पापुआ न्यू गिनी में चली गई 2000 लोगों की जान, भारत ने भेजी करोड़ों की राहत (पानी, भोजन, दवा सब कुछ) सामग्री

प्राकृतिक आपदा के कारण संसाधनों की कमी से जूझ रहे पापुआ न्यू गिनी के एंगा प्रांत को भारत ने बुनियादी जरूरतों के सामान भेजे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -