Monday, May 16, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयदुनिया की No.1 कंपनी बनी Saudi Aramco, 3 ट्रिलियन डॉलर का आँकड़ा छू चुकी...

दुनिया की No.1 कंपनी बनी Saudi Aramco, 3 ट्रिलियन डॉलर का आँकड़ा छू चुकी Apple भी हुई पीछे: जानें कितनी है मार्केट वैल्यू

11 मई 2022 को दुनिया की सबसे अधिक मूल्यवान कंपनी बनी- Saudi Aramco। लगातार बढ़ती तेल की कीमतों के कारण कंपनी के शेयरों में जबर्दस्त तेजी देखी गई है। बुधवार को कंपनी की मार्केट वैल्यू 2.44 ट्रिलियन डॉलर (₹18,89,30,42,00,00,000) दर्ज की गई।

तेल उत्पादक सऊदी अरब की कंपनी सऊदी आरामको (Saudi Aramco) बुधवार (11 मई 2022) को दुनिया की सबसे अधिक मूल्यवान कंपनी बन गई। लगातार बढ़ती तेल की कीमतों के कारण कंपनी के शेयरों में जबर्दस्त तेजी देखी गई है। बुधवार को कंपनी की मार्केट वैल्यू 2.44 ट्रिलियन डॉलर (₹18,89,30,42,00,00,000) हो गई, जबकि पिछले महीने एप्पल के शेयरों में गिरावट देखी गई, जिससे इसकी वैल्यू 2.37 ट्रिलियन डॉलर (₹18,35,17,39,50,00,000) पर रही।

रिपोर्ट के मुताबिक, एप्पल के शेयरों की कीमतों में अब भले ही गिरावट दिख रही हो, लेकिन इस साल के शुरुआती तीन महीनों में कंपनी का प्रॉफिट उसकी उम्मीद से भी बेहतर था। हालाँकि, ऐसी आशंका है कि चीन में कोरोना के कारण चल रहे लॉकडाउन में यह जून तिमाही के परिणामों में $ 4-8 बिलियन से कम हो जाएगा। इस मामले में एप्पल की ओर से एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा गया है कि चीनी कंपनियाँ एप्पल्स के आईफोन के लिए चिप बनाती है, लेकिन कोरोना लॉकडाउन के कारण ये कंपनियाँ ठप पड़ी हैं और इसी कारण से एप्पल को चिप की आपूर्ति होने में खासी दिक्कतें हैं।

वहीं दूसरी ओर सऊदी आरामको के मुनाफे की बात करें तो पिछले साल इस कंपनी के मुनाफें में 124 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। यह 2020 में 49.0 बिलियन डॉलर से 2021 में 110.0 बिलियन डॉलर की हो गई। इसके बाद यमन के विद्रोहियों ने कंपनी पर हमला कर दिया, जिसके कारण इसके उत्पादन में अस्थायी तौर पर गिरावट दर्ज की गई थी।

रूस-यूक्रेन युद्ध का मिल रहा फायदा

गौरतलब है कि रूस और यूक्रेन में हो रही जंग के बीच दुनियाभर के देश रूस पर बैन लगा रहे हैं। ऐसे में सउदी अरब पर तेल का उत्पादन बढ़ाने का दबाव बढ़ा है। यूक्रेन पर रूसी आक्रमण और मॉस्को पर उसके बाद के प्रतिबंधों के कारण सऊदी पर उत्पादन बढ़ाने का दबाव रहा है, जिसने वैश्विक ऊर्जा बाजारों को अस्थिर कर दिया। सऊदी आरामको के प्रेसीडेंड और सीईओ अमीन नासिर का कहना है कि जियो-पॉलिटिक्स के तनावों के कारण कंपनी का दृष्टिकोण अनिश्चित बना हुआ है।

हालाँकि, उनका कहना है कि आरामको लगातार कच्चे तेल का उत्पादन करना जारी रखेंगी। आशंका ये है कि जैसे-जैसे तेल की कीमतें बढ़ती हैं, इससे महँगाई भी बढ़ेगी। फेडरल रिजर्व को ब्याज दरें बढ़ाने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

जनवरी में एप्पल बनी थी 3 ट्रिलियन डॉलर की कंपनी

उल्लेखनीय है कि इससे पहले इसी साल जनवरी के महीने में एप्पल की मार्केट वैल्यू 3 ट्रिलियन डॉलर (करीब 225 लाख करोड़ रुपए) पार कर गई थी। इस मामले में कंपनी से आगे केवल दुनिया के 4 देश थे। इन देशों के नाम अमेरिका, चीन, जापान और जर्मनी हैं। हालाँकि अब कंपनी की मार्केट वैल्यू गिरी है जिसकी वजह से सऊदी के कंपनी नंबर 1 हो गई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

CRPF करेगी ज्ञानवापी में मिले शिवलिंग की सुरक्षा, अदालत ने सील की जगह, वजू पर मनाही: जैसे ही दिखे बाबा, ‘हर-हर महादेव’ से गूँजा...

सर्वे के तीसरे दिन हिन्दू पक्ष की तरफ से सोमवार को करीब 12 फीट 8 इंच लंबा शिवलिंग नंदी के सामने विवादित ढाँचे के वजूखाने में मिलने का दावा किया गया है।

राहुल भट की 5 साल पहले की फेसबुक पोस्ट – ‘हम मुस्लिम हैं, रोहिंग्या मुस्लिमों की हत्या बंद करो’, ‘संघी’ और ‘भारतीय एजेंट’ बता...

तस्वीर के वायरल होने के बाद कहा जा रहा है कि राहुल भट रोहिंग्या मुस्लिम को बचाना चाहते थे, मगर वह खुद इस्लामी आतंकियों के शिकार हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,091FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe