Sunday, May 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयमौत आने वाली है... बचने के लिए खालिस्तान जनमत संग्रह को समर्थन दो: सिद्धू...

मौत आने वाली है… बचने के लिए खालिस्तान जनमत संग्रह को समर्थन दो: सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद आतंकी संगठन SFJ ने पंजाबी गायकों को दी धमकी

पन्नू ने पंजाबी गायकों के नाम एक धमकी भरे पत्र में कहा कि "मौत आने वाली है" और अब भारत से पंजाब की मुक्ति के लिए "खालिस्तान जनमत संग्रह" का समर्थन करने का समय है।

पंजाबी सिंगर और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की हत्या के कुछ घंटे बाद ही खालिस्तानी आतंकी समूह सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) ने अब एक धमकी भरा पत्र जारी किया है। एसएफजे प्रमुख गुरपतवंत सिंह पन्नू ने पंजाबी गायकों को धमकी देते हुए उनसे खालिस्तान आंदोलन का समर्थन करने को कहा है। एसएफजे की धमकी तब आई जब पंजाब के डीजीपी वीरेश कुमार भावर ने स्वीकार किया कि मूसेवाला की हत्या गैंगवार का परिणाम थी।

सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद, पन्नू ने पंजाबी गायकों के नाम एक धमकी भरे पत्र में कहा, “मौत आने वाली है और अब भारत से पंजाब की मुक्ति के लिए खालिस्तान जनमत संग्रह का समर्थन करने का समय है।

बता दें कि रविवार (29 मई 2022) को पंजाब के मानसा गाँव में सिद्धू मूसेवाला की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उन पर ताबड़तोड़ 30 गोलियाँ चलाई गई थीं। एक्टर की हत्या की जिम्मेदारी लॉरेंस बिश्नोई गैंग के मेंबर गोल्डी बराड़ ने ली थी, जो कि कनाडा में रहता है। पंजाब के डीजीपी भी इसकी पुष्टि कर चुके हैं। वहीं मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मूसेवाला थार के जिस वाहन को वह चला रहे थे, उस पर सामने से दो कारों – एक सफेद बोलेरो और एक डार्क ग्रे स्कॉर्पियो से भारी फायरिंग हुई। घटना के सीसीटीवी फुटेज में भी मूसवाला की हत्या से कई मिनट पहले दो कारों को उसकी काली एसयूवी के पीछे जाते देखा गया है।

वहीं मामले में पंजाब पुलिस ने रविवार को अपने बयान में कहा कि मूसेवाला के पास बुलेटप्रूफ कार थी, जिसका इस्तेमाल उसने हत्या के दिन नहीं किया था। प्रारंभिक जाँच से पता चला है कि अपराध में 7.62 मिमी, 9 मिमी और 0.30 बोर के हथियारों सहित तीन हथियारों का इस्तेमाल किया गया था। मामले की जाँच की जा रही है।

गौरतलब है कि मूसेवाला की हत्या के बाद उनकी माँ का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। इसमें चरणजीत कौर रो-रोकर अपने बेटे के लिए इंसाफ की माँग कर रही हैं। उन्होंने पंजाब सरकार को निकम्मी करार देते हुए कहा कि वे उन्हें भी गोली मार दें। उन्होंने आरोप लगाया कि उनके बेटे की सुरक्षा को भगवंत मान ने छीन लिया, जबकि खुद अपनी बहन की सुरक्षा में 20-20 सिक्योरिटी गार्ड को लगा रखा है।

कनाडा के गैंगस्टर ने ली मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी

मूसेवाला की हत्या के कुछ घंटे बाद ही कनाडा के गैंगस्टर सतिंदर सिंह उर्फ ​​गोल्डी बराड़ ने हत्या की जिम्मेदारी ली थी। सोशल मीडिया पर एक बयान जारी करते हुए, बराड़ ने कबूल किया था कि वह, सचिन बिश्नोई और लॉरेंस बिश्नोई समूह के साथ हत्या के लिए जिम्मेदार है।

गोल्डी बराड़ ने अपने पोस्ट में कहा, “हमारे भाई विक्की मिद्दुखेड़ा, गुरलाल बराड़ की हत्या में उसका नाम था, लेकिन पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। वह हमारे भाई अंकित भादु की मुठभेड़ के पीछे भी था.. दिल्ली पुलिस ने मीडिया के सामने उनका नाम लिया था, लेकिन फिर भी वह अपनी शक्ति का इस्तेमाल कर सजा से बच रहा था, उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही थी। वह हमारे ही खिलाफ काम कर रहे थे।”

वहीं रिपोर्ट के अनुसार बताया जा रहा है कि मूसेवाला की हत्या के मामले में मानसा पुलिस ने बिश्नोई गिरोह के दो साथियों को हिरासत में लिया है। गायक की पूर्व मैनेजर शगुन प्रीत भी सवालों के घेरे में है क्योंकि उसका नाम भी विक्की मिधुखेड़ा की हत्या में सामने आया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -