Sunday, May 16, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय मैं खुश हूँ कि वो मारा गया, वह गलत रास्ते और गलत लोगों के...

मैं खुश हूँ कि वो मारा गया, वह गलत रास्ते और गलत लोगों के साथ था: श्री लंका आतंकी की अपनी बहन

“उसने अल्लाह को खो दिया क्योंकि उसने हदीथ गलत लोगों से सीखी, और लोगों को मारना सीख लिया। मुझे कहना चाहिए कि मैं खुश हूँ कि वह अब इस दुनिया में नहीं है।”

श्री लंका में पिछले रविवार हुए ईस्टर बम धमाकों के हमलावरों में से एक ज़ाहरान हाशिम की बहन को उसकी मौत का कोई अफ़सोस नहीं है। उनके मुताबिक उनका भाई गलत रास्ते पर था, और उसकी मौत की उन्हें ख़ुशी है। उन्होंने यह भी जोड़ा कि उनके पति ने और उन्होंने ज़ाहरान से रिश्ते 2017 में ही तोड़ लिए थे जब वह आतंकवादियों की भाषा बोलने लगा था।

‘वे आतंकी हैं’

मदानिया नामक ज़ाहरान हाशिम की बहन ने यह सब श्री लंका की गुप्तचर टीम से इन्डियन एक्सप्रेस संवाददाता की मौजूदगी में कहा है। कल (शनिवार, 28 अप्रैल, 2019) सादे कपड़ों में श्री लंकाई सैन्य गुप्तचर विभाग (मिलिट्री इंटेलिजेंस) के अफसर कालमुनाई में हुए बम धमाकों के बाद मदानिया के घर पहुँचे थे। वह चाहते थे कि मदानिया और उनके पति शरीफ़ नियास अम्पारा शहर के पास मौजूद अस्पताल में चलकर धमाकों के लिए जिम्मेदार लाशों की शिनाख्त करें। गौरतलब है कि कालमुनाई में हुए बम धमाकों में मारे गए 15 लोग हाशिम परिवार के ही बताए जा रहे हैं। धमाके जिस घर में हुए, वह भी उनका ‘अड्डा’ माना जा रहा है, जहाँ वह ज़ाहरान के ईस्टर बम धमाकों के तीन दिन पहले से जाकर छिप गए थे।

मदानिया ने उनकी लाशें देखने से मना कर दिया और कहा कि वे केवल तस्वीरों से ही शिनाख्त करना पसंद करेंगी (उनके पति शरीफ़ ने यह बात अफ़सरों को बताई)। इस पर अफ़सरों ने उन्हें बताया कि यह उनका उनके घर वालों के अवशेषों को देखने का आखिरी मौका है। अपसरों ने कहा, “अगर वह आपके घर वाले ही निकलते हैं तो वैसे भी आप उनको आखिरी बार देख रही होंगी। वे आतंकी हैं।” लेकिन इस स्पष्ट संकेत के बाद भी मदानिया अपने बात पर टिकी रहीं।

कालमुनाई: मरने वालों में बच्चे, औरतें, बूढ़े

कालमुनाई में मरने वालों में 26-वर्षीय ज़ाहरान का एक भाई, उसकी पत्नी और दो बच्चे, एक दूसरा भाई मोहम्मद ज़ैन हाशिम (जो या तो फ़रार है, या ईस्टर धमाकों में मारा गया) की पत्नी और दो बच्चे, ज़ाहरान की एक दूसरी बहन, उसका पति और उसका बच्चा, ज़ाहरान के कम-से-कम दो बच्चे और इन सभी भाई-बहनों के बूढ़े माँ-बाप शामिल हैं। वह सभी ईस्टर धमाकों के तीन दिन पहले लापता हो गए थे। मदानिया के पति नियास, जो सेकेंड-हैंड वाहनों के छोटे-मोटे डीलर हैं, ने दावा किया कि अफ़सरों ने धमाकों में ज़िन्दा बचे दो लोगों की तस्वीर भी उन्हें दिखाई, जिन्हें उन्होंने ज़ाहरान की पत्नी और उसके बच्चों में से एक के रूप में पहचाना। हालाँकि पूछे जाने पर श्री लंका सेना के प्रवक्ता ब्रिगेडियर सुमित अटापट्टू ने इस पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया।

मदानिया ने यह दावा किया कि उन्हें इस्लामिक स्टेट के बारे में कोई जानकारी नहीं है। “हमारी बात 2017 में ही तब बंद हो गई जब उसने अपने भाषणों में जहर उगलना शुरू कर दिया। वह उत्तेजक भाषण देता था और भीड़ खींचने में उसे महारत हासिल थी। पर जब उसने सरकार, मुल्क, झंडे, निर्वाचन, और दूसरे मजहबों के खिलाफ तकरीरें देना शुरू कर दिया, तो मुझसे और नहीं रहा गया। उसने हमारे परिवार पर कोहराम ला दिया है।”

इन्डियन एक्सप्रेस ने अपनी रिपोर्ट में यह भी लिखा है कि मदानिया और नियास का घर उस नेशनल तौहीद जमात की मस्जिद से महज़ 100 मीटर की दूरी पर है, जहाँ ज़ाहरान आतंकी बना था। स्थानीय लोगों का कहना है कि मस्जिद में पिछले दो सालों से मरम्मत का काम चालू है।

पहले ही था पुलिस की नजर में, लहराई थी तलवार

मदानिया बतातीं हैं कि उनके पति ज़ाहरान से दूर ही रहते थे क्योंकि उन्हें लगता था कि वह ऐसे रास्ते की ओर मुड़ चुका है, जो खतरनाक है। वह दूसरे मज़हबों ही नहीं, उदारवादी मुसलामानों और सूफ़ियों को भी अपशब्द कहता था – उसके लिए सूफ़ी नशेड़ी थे। पुलिस की भी उस पर नजर थी। इस बात की तस्दीक फर्स्टपोस्ट की रिपोर्ट से भी होती है, जिसमें यह दावा किया गया है कि एक दूसरे मज़हबी गुट के साथ टकराव में तलवार निकाल लेने के बाद से ज़ाहरान हाशिम पुलिस की नजरों में था।

मदानिया के मुताबिक ज़ाहरान ने सामान्य स्कूल में छठी कक्षा से ही जाना छोड़ दिया था। पर इस्लामिक पढ़ाई में उसकी रुचि बनी रही- इतनी ज्यादा कि उसने केवल कुरान रटने के लिए अरबी का कोर्स किया और 2006 में एक इस्लामिक अध्ययन केंद्र खोल डाला। मदानिया ने कहा, “उसने अल्लाह को खो दिया क्योंकि उसने हदीथ गलत लोगों से सीखी, और लोगों को मारना सीख लिया। मुझे कहना चाहिए कि मैं खुश हूँ कि वह अब इस दुनिया में नहीं है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

CM खट्टर के विरोध में किसानों ने तोड़े बैरिकेड्स: लाठीचार्ज, राकेश टिकैत ने दी धमकी- ‘अब UP में BJP को हरवाएँगे’

सीएम खट्टर ने प्रदर्शनकारी किसानों से वापस जाने की अपील करते हुए कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के प्रयासों को मजबूत करने की अपील भी की।

भाग गया AAP नेता, पीछे पड़ी दिल्ली पुलिस: वैक्सीन निर्यात के विरोध में पोस्टर मामला, गरीबों को लालच दे बैनर लगवा रही पार्टी

बैनर लगाने वाले एक व्यक्ति राहुल त्यागी ने बताया कि उसे आम आदमी पार्टी के पार्षद धीरेन्द्र कुमार के ऑफिस से 11 मई को 20 बैनर दिए गए।

जिस अंग्रेज की बीवी के लिए PM नेहरू ने भेजा था इंडियन नेवी का जहाज, उसके लेटर-डायरी पर इंग्लैंड ने लगाई रोक

जवाहरलाल नेहरू के जीवनीकार स्टेनली वॉलपर्ट ने अपनी किताब ‘नेहरू: अ ट्राइस्ट विद डेस्टिनी’ में बताया कि माउंटबेटन के नाती...

हिंदू धर्म और RSS का उड़ाया मजाक: मीडिया गिरोह ने मुक्ति को मौत से जोड़ा, वीडियो से खुल गई इनकी पोल

स्क्रीनशॉट को शेयर करते हुए चिश्ती ने आश्चर्य जताया कि क्या कॉन्ग्रेस-मुक्त-भारत में 'मुक्त' वास्तव में 'मौत' के लिए इस्तेमाल किया गया है।

ईद में तिरंगा बिछाया, उसके ऊपर खाना खाया: असम में 6 गिरफ्तार, रेजिना परवीन सुल्ताना के घर हो रही थी दावत

असम पुलिस ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि अभयपुरी के टेंगनामारी गाँव की रेजिना परवीन सुल्ताना के घर में डाइनिंग टेबल पर भारतीय ध्वज...

कॉन्ग्रेस नेता और बॉक्सर विजेंद्र सिंह Randya पर फँसे: घेर रहे थे BJP को, अब ‘गाली नहीं है’ पर दूसरे दे रहे सफाई

कॉन्ग्रेस नेता व बॉक्सर विजेंद्र सिंह ट्विटर पर किए गए एक आपत्तिजनक ट्वीट को लेकर फँस गए हैं। कॉन्ग्रेस नेता ने Randya लिख कर...

प्रचलित ख़बरें

ईद पर 1 पुलिस वाले को जलाया जिंदा, 46 को किया घायल: 24 घंटे के भीतर 30 कट्टरपंथी मुस्लिमों को फाँसी

ईद के दिन मुस्लिम कट्टरपंथियों ने 1 पुलिसकर्मी के साथ मारपीट की, उन्हें जिंदा जला दिया। त्वरित कार्रवाई करते हुए 30 को मौत की सजा।

पैगंबर मोहम्मद की दी दुहाई, माँगा 10 मिनट का समय: अल जजीरा न्यूज चैनल बिल्डिंग के मालिक को अनसुना कर इजरायल ने की बमबारी

इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि बिल्डिंग का मालिक इजरायल के अधिकारी से 10 मिनट का वक्त माँगता है। वो कहता है कि चार लोग बिल्डिंग के अंदर कैमरा और बाकी उपकरण लेने के लिए अंदर गए हैं, कृपया तब तक रुक जाएँ।

ईद में नंगा नाच: 42 सदस्यीय डांस ग्रुप की लड़कियों को नंगा नचाया, 800 की भीड़ ने खंजर-कुल्हाड़ी से धमकाया

जब 42-सदस्यीय ग्रुप वहाँ पहुँचा तो वहाँ ईद के सांस्कृतिक कार्यक्रम जैसा कोई माहौल नहीं था। जब उन्होंने कुद्दुस अली से इस बारे में बात की तो वह उन्हें एक संदेहास्पद स्थान पर ले गया जो हर तरफ से लोहे की चादरों से घिरा हुआ था। यहाँ 700-800 लोग लड़कियों को घेर कर खंजर से...

इजरायल के विरोध में पूर्व पोर्न स्टार मिया खलीफा: ट्वीट कर बुरी तरह फँसीं, ‘किसान’ प्रदर्शन वाला ‘टूलकिट’ मामला

इजरायल और फिलिस्तीनी आंतकियों के बीच संघर्ष लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पूर्व पोर्न-स्टार मिया खलीफा ने गलती से इजरायल के विरोध में...

इजरायली सेना ने अल जजीरा की बिल्डिंग को बम से उड़ाया, सिर्फ 1 घंटे की दी थी चेतावनी: Live Video

गाजा में इजरायली सेना द्वारा अल जजीरा मीडिया हाउस की बिल्डिंग पर हमला किया गया है। यह बिल्डिंग पूरी तरह ध्वस्त हो गई है।

इजरायली रॉकेट से मरीं केरल की सौम्या… NDTV फिर खेला शब्दों से, Video में कुछ और, शीर्षक में जिहादियों का बचाव

केरल की सौम्या इजरायल में थीं, जब उनकी मौत हुई। वह अपने पति से बात कर रही थीं, तभी फिलिस्तीनी रॉकेट उनके पास आकर गिरा। लेकिन NDTV ने...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,376FansLike
94,907FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe