Wednesday, May 22, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयसर्बिया के बाद अमेरिका में पाकिस्तानी दूतावास के कर्मचारियों की सैलरी पर आफत, वेतन...

सर्बिया के बाद अमेरिका में पाकिस्तानी दूतावास के कर्मचारियों की सैलरी पर आफत, वेतन नहीं मिलने पर एक कर्मचारी ने दिया इस्तीफा: रिपोर्ट

इससे पहले सर्बिया में पाकिस्तानी दूतावास ने ट्वीट किया था, “महंगाई पिछले सभी रिकॉर्ड को तोड़ रही है, @ImranKhanPTI आप कब तक उम्मीद करते हैं कि हम सरकारी अधिकारी चुप रहेंगे और आपके लिए काम करते रहेंगे। पिछले 3 महीनों से फीस जमा नहीं करने के कारण, हमारे बच्चों को स्कूल से बाहर कर दिया गया है। क्या यह #नयापाकिस्तान है?”

आर्थिक संकट का सामना कर रहे पाकिस्तान की इन दिनों दुनिया भर में किरकिरी हो रही है। पाकिस्तान के पास अब अपने दूतावासों को चलाने के लिए भी धन नहीं है। यही कारण है कि सर्बिया के बाद अमेरिका स्थित पाकिस्तानी दूतावास के कर्मचारियों ने वेतन के मसले को उठाया है। वाशिंगटन के पाकिस्तानी दूतावास के एक कर्मचारी ने अपनी सेवा से इस्तीफा दे दिया है। ‘द न्यूज’ ने सूत्रों के हवाले से अपनी रिपोर्ट में कहा है कि धन की कमी के कारण वाशिंगटन में पाकिस्तानी दूतावास ने अपने कुछ कर्मचारियों को कम-से-कम 4 महीने से वेतन का नहीं दिया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तानी दूतावास में संविदा (contractual) पर भर्ती किए गए स्थानीय कर्मचारियों में से कम-से-कम पाँच को अगस्त 2021 से वेतन नहीं दिया गया है। वहीं, कुछ कर्मचारियों को वेतन काफी देर से मिली। पिछले दस वर्षों से दूतावास में काम कर रहे 5 कर्मचारियों में से एक ने देर से सैलरी मिलने के कारण सितंबर में इस्तीफा दे दिया था।

इन पाँच कर्मचारियों को दूतावास द्वारा सलाना करार के आधार पर काम पर रखा गया था, लेकिन अब पाकिस्तानी दूतावास की तरफ से इन्हें सैलरी नहीं दी जा रही है। बताया जा रहा है कि इन कर्मचारियों को यहाँ बेहद कम वेतन पर काम पर रखा गया था। अ​मेरिका में इन कर्मचारियों की सैलरी 2 हजार से 2,500 डॉलर के बीच है।

इसके अलावा, पाकिस्तानी दूतावास ने जिन कर्मचारियों को कार्य करने के लिए रखा था, चाहे वे स्थायी हों या संविदा पर, उन्हें स्वास्थ्य बीमा या अन्य लाभ जैसी दूसरी सुविधाएँ भी नहीं दी जा रही है। घरेलू कर्मचारियों को आमतौर पर कांसुलर सेक्शन (Consular section) में मदद के लिए काम पर रखा जाता है, जो प्रवासी भारतीयों को वीजा, पासपोर्ट, नोटरीकरण और अन्य कांसुलर सेवाएँ प्रदान करता है।

गौरतलब है कि दुनिया भर में बड़ी-बड़ी डींगे हाँकने वाली पाकिस्तान की इमरान खान सरकार के पास अधिकारियों और कर्मचारियों को सैलरी देने के लिए पैसे नहीं हैं। शुक्रवार (3 दिसंबर 2021) को सर्बिया स्थित पाकिस्तानी दूतावास ने आर्टिस्ट साद अलवी द्वारा गाए गए गाने को शेयर किया था, जिसमें दिवालिया होने के बावजूद अपने देश के लोगों को झूठी उम्मीदें देने के लिए इमरान खान का मजाक उड़ाया गया है।

सर्बिया में पाकिस्तानी दूतावास ने ट्वीट किया था, “महंगाई पिछले सभी रिकॉर्ड को तोड़ रही है, @ImranKhanPTI आप कब तक उम्मीद करते हैं कि हम सरकारी अधिकारी चुप रहेंगे और आपके लिए काम करते रहेंगे। पिछले 3 महीनों से फीस जमा नहीं करने के कारण, हमारे बच्चों को स्कूल से बाहर कर दिया गया है। क्या यह #नयापाकिस्तान है?”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -