Monday, May 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयरूस से लड़ने के लिए यूक्रेन की पैरामिलिट्री में शामिल हुआ इंजीनियरिंग का छात्र......

रूस से लड़ने के लिए यूक्रेन की पैरामिलिट्री में शामिल हुआ इंजीनियरिंग का छात्र… अब पिता ने भारत सरकार से जताई सुरक्षित वापसी की उम्मीद

सैनिकेश रविचंद्रन ने 2 बार प्रयास किया था भारतीय सेना में शामिल होने के लिए। लंबाई कम होने के चलते मौका नहीं मिला था। अब यूक्रेन की पैरामिलिट्री में शामिल हो कर रूस के खिलाफ लड़ने निकले हैं।

रूस-यूक्रेन युद्ध के दौरान यूक्रेन की पैरामिलिट्री में शामिल हो कर रूस के खिलाफ लड़ने निकले भारतीय छात्र सैनिकेश रविचंद्रन (Sainikesh Ravichandran) अब भारत वापस लौटना चाहते हैं। इस बात की जानकारी सैनिकेश के पिता रविचंद्रन ने शनिवार (12 मार्च) को दी। उन्होंने भारत सरकार से आशा जताई है कि वो उनके बेटे को सुरक्षित वापस ले आएगी। सैनिकेश ने पिछ्ले माह फरवरी में यूक्रेन के सशत्र बल को ज्वाइन कर लिया था।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक सैनिकेश के 52 वर्षीय पिता रविचंद्रन ने कहा, “मेरी 3 दिन पहले ही बेटे से बात हुई है। वो भारत वापस लौटने को राजी था। सरकार हमारे सम्पर्क में है। यूक्रेन में भारतीय दूतावास से आशा करते हैं कि वो मेरे बेटे को जल्द ही खोज लेंगे और सरकार उसे सुरक्षित वापस ले आएगी। पिछले 3 दिन से मेरा सम्पर्क बेटे से नहीं हो पाया है। मीडिया में आने वाली रिपोर्ट उसकी वापसी में बाधा नहीं बन सकती।”

वहीं एक पुलिस अधिकारी का कहना है, ‘सैनिकेश के पिता ने अपने बेटे से वापस आने के लिए कहा था। लेकिन उसने ठीक से जवाब नहीं दिया। जब लड़ाई शुरू हुई थी तब उन्होंने यूक्रेन में भारत के दूतावास को सम्पर्क नहीं किया था। अब युद्ध चल रहा है। उनके बेटे को युद्ध क्षेत्र से खोज कर लाना आसान काम नहीं है।”

बताते चलें कि सैनिकेश फ़िलहाल यूक्रेन की पैरामिलिट्री वालेंटियर विंग जॉर्जियन नेशनल लीगियन में भर्ती हुए हैं। उनको लंबाई कम होने के चलते 2 बार प्रयासों के बाद भी भारतीय सेना में शामिल होने का मौका नहीं मिला था। सैनिकेश मूल रूप से इंजीनियरिंग के छात्र हैं। उनका परिवार तमिलनाडु के कोयंबटूर में रहता है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत में 1300 आइलैंड्स, नए सिंगापुर बनाने की तरफ बढ़ रहा देश… NDTV से इंटरव्यू में बोले PM मोदी – जमीन से जुड़ कर...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आँकड़े गिनाते हुए जिक्र किया कि 2014 के पहले कुछ सौ स्टार्टअप्स थे, आज सवा लाख स्टार्टअप्स हैं, 100 यूनिकॉर्न्स हैं। उन्होंने PLFS के डेटा का जिक्र करते हुए कहा कि बेरोजगारी आधी हो गई है, 6-7 साल में 6 करोड़ नई नौकरियाँ सृजित हुई हैं।

कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने अपने ही अध्यक्ष के चेहरे पर पोती स्याही, लिख दिया ‘TMC का एजेंट’: अधीर रंजन चौधरी को फटकार लगाने के बाद...

पश्चिम बंगाल में कॉन्ग्रेस का गठबंधन ममता बनर्जी के धुर विरोधी वामदलों से है। केरल में कॉन्ग्रेस पार्टी इन्हीं वामदलों के साथ लड़ रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -