Saturday, May 21, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअमेरिका के बफेलो में 10 की मौत, 3 घायल: 18 साल के लड़के ने...

अमेरिका के बफेलो में 10 की मौत, 3 घायल: 18 साल के लड़के ने की अंधाधुन फायरिंग

बफ़ेलो के पुलिस आयुक्त जोसेफ ग्रैमाग्लिया ने कहा कि जिन 13 लोगों को गोली मारी गई, उनमें से 11 अश्वेत हैं। मारे गए लोगों में चार स्टोर कर्मचारी थे और छह ग्राहक थे।

अमेरिका के न्यूयॉर्क (New York, America) स्थित बफेलो के एक सुपरमार्केट (Buffo Shooting) में शनिवार (14 मई 2022) को दोपहर एक श्वेत बंदूकधारी ने अंधाधुन फायरिंग कर 10 लोगों की हत्या कर दी। पुलिस ने हिंसा का कारण नस्लीय घृणा (Racial Hate Crime) बताया है।

बंदूकधारी 18 वर्षीय श्वेत लड़के पेटन गेंड्रोन ने मिलिट्री-स्‍टाइल में कपड़े पहन कर राइफल के साथ सुपर मार्केट में घुसा और गोलियाँ चलानी शुरू कर दी। अचानक हुए इस हमले में सिक्युरिटी गार्ड सहित 13 लोगों को गोली लगी, जिसमें से 10 लोगों की मौत हो गई है। पुलिस अधिकारियों के अनुसार, इलाका अश्वेत बहुल है और इस सुपर मार्केट में काम करने वाले लोग भी अश्वेत हैं।

लोगों की हत्या करने के बाद गेंड्रोन ने सुपर मार्केट से बाहर आकर पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। पुलिस ने गिरफ्तार करते हुए उस पर फर्स्ट डिग्री हत्या का आरोप लगाते हुए गैर-जमानती धाराओं में मामले दर्ज किए हैं। आरोपित ने खुद को निर्दोष बताया है।

वॉशिंगटन पोस्ट के अनुसार, FBI के बफेलो फील्ड कार्यालय के प्रभारी स्पेशल एजेंट स्टीफन बेलोंगिया ने कहा कि कानून प्रवर्तन अधिकारी इस हत्याकांड को नस्लीय हेट क्राइम से प्रेरित हिंसा को आधार मानकर जाँच रहे थे। बफ़ेलो के पुलिस आयुक्त जोसेफ ग्रैमाग्लिया ने कहा कि जिन 13 लोगों को गोली मारी गई, उनमें से 11 अश्वेत हैं। मारे गए लोगों में चार स्टोर कर्मचारी थे और छह ग्राहक थे।

ग्रैमाग्लिया ने कहा कि भारी हथियारों से लैस आरोपित टैक्टिकल गियर पहने हुए था। उसने हमले को लाइव-स्ट्रीम करने के लिए एक कैमरे का इस्तेमाल किया और दुकान में घुसने से पहले पार्किंग में कई लोगों को गोली मार दी। उस दौरान स्टोर के सुरक्षा गार्ड ने उस पर जवाबी गोली चलाई, लेकिन बंदूकधारी बच गया। इसके बाद बंदूकधारी ने उसे गोली मार दी।

पुलिस के अनुसार, गेंड्रोन बिंगहैमटन शहर के पास स्थिति बफ़ेलो से 200 मील से दूर न्यूयॉर्क के कोंकलिन में बड़ा हुआ है। बफेलो में पुलिस के पास उसका रिकॉर्ड नहीं है। वह खुद को श्वेत वर्चस्ववादी पोस्ट लगातार करता रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उद्धव का मंत्री, पवार का खास: अदालत ने भी माना ‘डी गैंग’ से नवाब मलिक के संबंध, ED ने चार्जशीट में बताया- मुंबई ब्लास्ट...

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने गंभीर आरोपों में गिरफ्तारी के बावजूद अपने जिस मंत्री नवाब मलिक को हटाने से इनकार किया था, उनके डी गैंग से लिंक होने की बात अदालत ने भी मानी है।

अब कहाँ गायब हो गया ज्ञानवापी ढाँचे में दिखा शिवलिंग? पूर्व महंत ने तस्वीरों से खोले राज़, हनुमान मूर्ति और कमल के फूल भी...

काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत डॉ कुलपति तिवारी ने ज्ञानवापी विवादित ढाँचे और शिवलिंग को लेकर पुरानी तस्वीरें दिखाते हुए बड़ा दावा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,690FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe