Saturday, April 13, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाIAF पायलट वीडियो मामला: भारत सरकार ने YouTube को लगाई फटकार, हटवाया वीडियो

IAF पायलट वीडियो मामला: भारत सरकार ने YouTube को लगाई फटकार, हटवाया वीडियो

भारत सरकार के नोटिस पर कार्रवाई करते हुए यूट्यूब ने ऐसे 11 वीडियो हटा दिए। इन वीडियोज़ के वायरल होते ही सोशल मीडिया पर लोगों से इससे सम्बंधित ट्रेंड कराने शुरू कर दिए थे।

पुलवामा हमले के बाद भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के अंदर घुसकर आतंकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की। इस एयर स्ट्राइक के जवाब में पाकिस्तान ने भारतीय सैन्य ठिकानों को निशाना बनाया। पाकिस्तान की इस हिमाकत के दौरान भारत ने उसके एक एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया। इसके बाद पाकिस्तान ने एक भारतीय पायलट को अपने हिरासत में ले लिया। पाकिस्तान द्वारा यूट्यूब पर पोस्ट किए गए वीडियो काफ़ी वायरल हुए। इन वीडियो में भारतीय पायलट को पाकिस्तान के हिरासत में दिखाया गया था। इन वीडियो में दिखाया गया था कि कैसे पाकिस्तानी सेना उन्हें हिरासत में ले रही है।

भारत ने इस मामले में संज्ञान लेते हुए न सिर्फ़ पाकिस्तान बल्कि यूट्यूब पर भी कड़ा रुख़ अपनाया है। पाकिस्तान द्वारा ये वीडियो पोस्ट करने को भारत ने ‘जेनेवा कन्वेंशन’ का उल्लंघन बताया। ताज़ा ख़बरों के अनुसार, भारतीय पायलट को आज शुक्रवार (मार्च 1, 2019) को वाघा बॉर्डर से वापस भारत भेजा जाएगा। सरकार ने यूट्यूब को नोटिस दिया है। यूट्यूब सहित अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को कड़ी चेतावनी देते हुए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा:

“भारतीय लोकतंत्र अभिव्यक्ति और विचारों की स्वतंत्रता का सम्मान करता है, लेकिन वर्तमान स्थिति के मद्देनज़र हम सोशल मीडिया कंपनियों से उम्मीद करते हैं कि वे यह सुनिश्चित करें कि उनके प्लेटफार्म पर ऐसे वीडियो डालने की अनुमति न दी जाए जो देश के मनोबल को कमज़ोर करने के लिए तैयार किए गए हैं। सरकार उम्मीद करती है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म अधिक ज़िम्मेदारी से काम करेंगे और ऐसे मुद्दों से तत्काल आधार पर निपटेंगे।”

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली व IT मंत्री रविशंकर प्रसाद की प्रेस कॉन्फ्रेंस

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने सोशल मीडिया कंपनियों को यह साफ़ कर दिया है कि देश का मनोबल तोड़ने वाले कोई भी कार्य बर्दाश्त नहीं किए जाएँगे। ख़बरों के अनुसार, यूट्यूब की पेरेंट कम्पनी गूगल के प्रवक्ता ने इस बाबत बयान देते हुए कहा:

“कंपनी प्राधिकारियों से मिले वैध क़ानूनी अनुरोध पर जितनी ज़ल्दी संभव होगा, कार्रवाई करेगी। कंपनी इस तरह की सामग्री हटाने का काम तेज़ी से करती है। यह हमारी दीर्घकालीन नीति का हिस्सा है। सरकार के अनुरोध पर संबंधित सामग्री को गूगल की सेवाओं से हटा दिया गया है और इसे जल्द ही हमारी पारदर्शिता रिपोर्ट में भी अपडेट किया जायेगा।”

भारत सरकार के नोटिस पर कार्रवाई करते हुए यूट्यूब ने ऐसे 11 वीडियो हटा दिए। इन वीडियोज़ के वायरल होते ही सोशल मीडिया पर लोगों से इस से सम्बंधित ट्रेंड कराने शुरू कर दिए थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP की तीसरी बार ‘पूर्ण बहुमत की सरकार’: ‘राम मंदिर और मोदी की गारंटी’ सबसे बड़ा फैक्टर, प्रधानमंत्री मोदी का आभामंडल बरकार, सर्वे में...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी तीसरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार बनाती दिख रही है। नए सर्वे में भी कुछ ऐसे ही आँकड़े निकलकर सामने आए हैं।

‘राष्ट्रपति आदिवासी हैं, इसलिए राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में नहीं बुलाया’: लोकसभा चुनाव 2024 में राहुल गाँधी ने फिर किया झूठा दावा

राष्ट्रपति मुर्मू को राम मंदिर ट्रस्ट का प्रतिनिधित्व करने वाले एक प्रतिनिधिमंडल ने अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए औपचारिक रूप से आमंत्रित किया गया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe