कनकदुर्गा मामले में नया ट्विस्ट: सबरीमाला मंदिर से लौटने के बाद सास नहीं, बहू ने ही की थी पिटाई

पहले मीडिया के ज़रिए यह ख़बर सामने आ रही थी कि सबरीमाला से लौटने के बाद कनकदुर्गा की पिटाई उसकी सास ने की थी। जबकि नई जानकारी के अनुसार इस मामले में कहानी बिल्कुल उल्टी है।

सबरीमाला मंदिर से पूजा करके लौटने वाली कनकदुर्गा के मामले में एक नया ट्विस्ट सामने आया है। पहले मीडिया के ज़रिए यह ख़बर सामने आ रही थी कि सबरीमाला से लौटने के बाद कनकदुर्गा की पिटाई उसकी सास ने की थी। जबकि नई जानकारी के अनुसार इस मामले में कहानी बिल्कुल उल्टी है।

कनकदुर्गा को उसकी सास ने नहीं बल्कि कनकदुर्गा ने ही अपनी सास की पिटाई की है। केरला के BJYM सेक्रेटरी संदीप वॉरियर ने फ़ेसबुक पर एक वीडियो पोस्ट करके यह दावा किया कि सबरीमाला मंदिर से लौटने के बाद कनकदुर्गा ने ही अपनी सास पर, जो कि अयप्पा की भक्त हैं, हमला किया था। वीडियो में 80 वर्षिय वृद्धा को हॉस्पिटल में बेड पर लेटे हुए देखा जा सकता है।

इससे पहले मीडिया में कुछ इस तरह ख़बर चल रही थी

इससे पहले मीडिया में यह ख़बर चल रही थी कि 800 वर्षों की परंपरा को तोड़ कर सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने की वजह से सास ने कनकदुर्गा की बुरी तरह से पिटाई की है। सुप्रीम कोर्ट ने सितम्बर 2018 में महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने की इजाज़त दे दी थी जिसके बाद श्रद्धालुओं ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया था। उच्चतम न्यायलय के उस निर्णय के बाद कनकदुर्गा सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने वाली पहली महिला थी। 39 वर्षीय कनकदुर्गा ने एक अन्य महिला के साथ सबरीमाला की सैकड़ों साल पुरानी परंपरा को धता बताते हुए मंदिर में प्रवेश किया था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

ताज़ा ख़बर के अनुसार मंदिर में प्रवेश करने के बाद पहली बार घर पहुँची कनकदुर्गा पर उनकी सास ने हमला कर दिया। उसकी सास ने उसे इतनी बुरी तरह पीटा कि कनकदुर्गा को तुरंत अस्पताल पहुँचाना पड़ा। अभी उसकी हालत स्थिर बनी हुई है। सबरीमाला मंदिर में प्रवेश कर वापस लौटने के बाद कनकदुर्गा कई दिनों से घर नहीं पहुँची थी और किसी गुप्त स्थान पर छिपी हुई थी। लोगों को लगा था कि वो शायद प्रदर्शनकारियों से बचना चाह रही हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार कनकदुर्गा जैसे ही अपने घर पहुँची, उस से नाराज़ उसकी सास ने लकड़ी के तख्ते से उसपर हमला कर दिया और उसकी पिटाई शुरू कर दी। उसके बाद उन्हें आनन-फानन में पेरिंथलमन्ना के सरकारी अस्पताल में भर्ती किया गया जहाँ अभी भी उसका इलाज चल रहा है। स्थानीय लोगों के अनुसार उसकी सास ने लकड़ी के तख्ते से उसके सिर पर वार किया। फ़िलहाल पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज कर लिया है और आगे की करवाई की जा रही है।

का परिवार उस से तभी से नाराज़ चल रहा था जब से उसके सबरीमाला में प्रवेश करने की ख़बर आई थी। उसके भाई ने इसे CPM और केरल पुलिस की साजिश बताया था। ज्ञात हो कि केरल के मुख्यमंत्री पिन्नाराई विजयन ने सबरीमाला में प्रवेश करने वाली इन महिलाओं को पूरी सुरक्षा प्रदान करने के निर्देश दिए थे। इसके बाद इन्हे पुलिस प्रोटेक्शन के साथ उसे आधी रात को मंदिर की सीढ़ियों पर ले जाया गया। रात के क़रीब तीन बजे कनकदुर्गा एक अन्य महिला के साथ सबरीमाला के अंदर घुसने में सफल हो गई थी। उसके साथ गई महिला का नाम बिंदु है जो केरल में सत्ताधारी पार्टी CPM की कार्यकर्ता है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

रामचंद्र गुहा और रवीश कुमार
"अगर कॉन्ग्रेस में शीर्ष नेताओं को कोई अन्य राजनेता उनकी कुर्सी के लिए खतरा लगता है, तो वे उसे दबा देते हैं। कॉन्ग्रेस में बहुत से अच्छे नेता हैं, जिन्हें मैं बहुत अच्छे से जानता हूँ। लेकिन अगर मैंने उनका नाम सार्वजनिक तौर पर लिया तो पार्टी में उन्हें दबा दिया जाएगा।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,129फैंसलाइक करें
35,293फॉलोवर्सफॉलो करें
161,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: