Saturday, July 24, 2021
Homeदेश-समाजSFI मेंबर ने कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ता पर लगाया बलात्कार का आरोप, नवजात बच्ची...

SFI मेंबर ने कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ता पर लगाया बलात्कार का आरोप, नवजात बच्ची संग दर-दर भटक रही

युवती ने सीपीएम कार्यकर्ता पर आरोप लगाते हुए कहा कि तकरीबन 10 महीने पहले पलक्कड़ जिले में सीपीआई(एम) के स्थानीय दफ्तर में उसके साथ रेप किया गया था।

केरल में माकपा के क्षेत्रीय कार्यालय में एक महिला के साथ बलात्कार का मामला सामने आया है। केरल पुलिस में दर्ज की गई शिकायत में 20 वर्षीय एक युवती ने आरोप लगाया है कि केरल के पलक्कड़ जिले में माकपा के क्षेत्रीय समिति कार्यालय में उसके साथ बलात्कार किया गया। शिकायत के बाद जाँच शुरू कर दी गई है।

पुलिस ने बताया कि उन्होंने शनिवार (16 मार्च 2019) को सड़क के किनारे एक नवजात बच्ची को लावारिस स्थिति में देखा। जिसके बाद पुलिस ने उसकी माँ के बारे में पता लगाया और जब उससे बच्ची को लेकर पूछताछ की गई तो युवती ने सीपीएम कार्यकर्ता पर आरोप लगाते हुए कहा कि तकरीबन 10 महीना पहले पलक्कड़ जिले में कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया (एम) के स्थानीय दफ्तर में उसके साथ रेप किया गया था।

युवती ने अपनी शिकायत में दावा किया है कि ये यह घटना उस वक्त की है, जब वो कॉलेज की एक मैगजीन की तैयारी के लिए पार्टी कार्यालय गई थी। हालाँकि सीपीएम नेताओं ने महिला के आरोप को खारिज कर दिया है। पार्टी के नेता के बी सुभाष ने कहा कि चुनाव के समय इस तरह का आरोप पार्टी की छवि को धूमिल करने के उद्देश्य से लगाया जा रहा है। पर साथ ही उन्होंने जाँच करवाने की भी माँग की है।

वहीं इस बारे में माकपा के एक स्थानीय नेता ने बताया कि महिला एसएफआई की कार्यकर्ता है और उसके परिवार का पार्टी के साथ करीबी रिश्ता है। उन्होंने बताया कि अगर कार्यालय में ऐसी कोई घटना हुई है तो पार्टी जाँच करेगी और पुलिस को भी निष्पक्ष जाँच करनी चाहिए।

बता दें कि पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। जाँच अधिकारी पी प्रमोद ने कहा कि उन्होंने आरोपी का नाम एफआईआर में दर्ज कर लिया है, लेकिन महिला की सुरक्षा को देखते हुए उसके नाम का खुलासा नहीं कर सकते।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

कीचड़ मलती ‘गोरी’ पत्रकार या श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग… समाज/मदद के नाम पर शुद्ध धंधा है पत्रकारिता

श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग और जलती चिताओं की तस्वीरें छापकर यह बताने की कोशिश की जाती है कि स्थिति काफी खराब है और सरकार नाकाम है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe