Tuesday, June 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकृषि कानूनों के समर्थन पर अमेरिका में भारतीय डॉ. के घर के सामने खालिस्तानियों...

कृषि कानूनों के समर्थन पर अमेरिका में भारतीय डॉ. के घर के सामने खालिस्तानियों ने लगाए अपमानजनक नारे, देखें वीडियो

सोशल मीडिया प्लेटफार्म ट्विटर पर इस विरोध प्रदर्शन का वीडियो वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में कुछ खालिस्तानियों को कैलिफोर्निया के पैसिफिक कार्डियोलॉजी एसोसिएट्स के सीईओ और कार्डियोलॉजिस्ट डॉ.रोमेश जापरा के घर के बाहर प्रदर्शन करते हुए देखा जा सकता है।

भारत सरकार द्वारा पारित तीन नए कृषि कानूनों का समर्थन करने पर खालिस्तानियों ने अमेरिका के कैलिफोर्निया में फ्रेमोंट में रहने वाले एक भारतीय मूल के डॉक्टर के घर के सामने जमकर विरोध प्रदर्शन किया और अपमानजनक नारे लगाए।

सोशल मीडिया प्लेटफार्म ट्विटर पर इस विरोध प्रदर्शन का वीडियो वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में कुछ खालिस्तानियों को कैलिफोर्निया के पैसिफिक कार्डियोलॉजी एसोसिएट्स के सीईओ और कार्डियोलॉजिस्ट डॉ.रोमेश जापरा के घर के बाहर प्रदर्शन करते हुए देखा जा सकता है।

वीडियो में अलगाववादी खालिस्तानी झंडे को लहराते हुए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और डॉ.जापरा के खिलाफ अपमानजनक नारे लगाते हुए सुनाई दे रहे हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को में 21 फरवरी को भारत सरकार के तीनों कृषि सुधार कानून के समर्थन में NRI लोगों द्वारा कार रैली का आयोजन किया था।

दरअसल, डॉ. रोमेश जापरा ने 20 फरवरी को फेसबुक पर अपने फॉलोवर्स से कृषि कानूनों का समर्थन करने के लिए कार रैली में शामिल होने का अनुरोध किया था। डॉ. जापरा ने फेसबुक पोस्ट पर कार रैली का विवरण साझा करते हुए लिखा था कि, एक किसान का बेटा होने के नाते वह भारत में नए कृषि कानूनों का समर्थन करने के लिए कार रैली में शामिल होने के कहा था।

https://m.facebook.com/romesh.japra?fref=nf#

जिसके बाद पोस्ट को देखते ही खालिस्तानी समर्थक डॉ.जापरा के घर पहुँच गए और भारत उनके घर के बाहर प्रदर्शन किया। साथ ही डॉक्टर और मोदी के खिलाफ अपमानजनक नारे लगाए।

उल्लेखनीय है कि पहले भी ऑपइंडिया ने बताया था कि किस तरह खालिस्तानी तत्वों ने पंजाब के किसान विरोध प्रदर्शन को हाइजैक कर लिया था, जिसके चलते गणतंत्र दिवस पर लाल किले में जबरन दंगाइयों ने घुसकर सिखों के धार्मिक झंडे को लहराया दिया था और दिल्ली में जमकर उपद्रव मचाया था।

वहीं दिल्ली में हुए हिंसा के एक हफ्ते बाद पॉपस्टार रिहाना और पोर्न स्टार मिया खलीफा के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनकारी ग्रेटा थनबर्ग ने विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में आवाज उठाई थी। जोकि खालिस्तान समर्थक पोएटिक जस्टिस फाउंडेशन द्वारा वैश्विक मंच पर भारत को बदनाम करने की एक सोची समझी साजिश थी, जिसका बाद में खुलासा हुआ था।

बता दें, अमेरिका के कैलिफ़ोर्निया में खालिस्तानियों ने हिंसक किसान विरोध प्रदर्शनों का समर्थन किया था और इसकी आड़ में महात्मा गाँधी की मूर्ति को भी तोड़ दिया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जूलियन असांजे इज फ्री… विकिलीक्स के फाउंडर को 175 साल की होती जेल पर 5 साल में ही छूटे: जानिए कैसे अमेरिका को हिलाया,...

विकिलीक्स फाउंडर जूलियन असांजे ने अमेरिका के साथ एक डील कर ली है, इसके बाद उन्हें इंग्लैंड की एक जेल से छोड़ दिया गया है।

‘जिन्होंने इमरजेंसी लगाई वे संविधान के लिए न दिखाएँ प्यार’: कॉन्ग्रेस को PM मोदी ने दिखाया आईना, आपातकाल की 50वीं बरसी पर देश मना...

इमरजेंसी की 50वीं बरसी पर पीएम मोदी ने कॉन्ग्रेस पर निशाना साधा। साथ ही लोगों को याद दिलाया कि कैसे उस समय लोगों से उनके अधिकार छीने गए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -