Thursday, January 27, 2022
Homeफ़ैक्ट चेकबजट से पहले बजट पेश! बजट बनाना भूल न जाएँ, इसके लिए कॉन्ग्रेस की...

बजट से पहले बजट पेश! बजट बनाना भूल न जाएँ, इसके लिए कॉन्ग्रेस की असफल कोशिश?

आपकी सरकार से सूचना निकलवाने वाले लूटियंस पत्रकार तक को मोदी सरकार में 'धक्के' खाने पड़ रहे हैं और आप बात कर रहे हैं बजट लीक होने की! वो भी मीडिया के सूत्रों को!

मोदी सरकार कुछ करे और हल्ला-हंगामा न हो तो मज़ा कैसे आएगा? मज़ा को तो छोड़िए, कॉन्ग्रेस के कुछ नेताओं को तो शायद खाना तक न हज़म हो।

मनीष तिवारी के ट्वीट का स्क्रीनशॉट-1

अंतरिम बजट पेश होने से पहले राहुल गाँधी यूनिवर्सल बेसिक इनकम को लेकर ऐलान कर ही चुके हैं। लेकिन मनीष तिवारी अगर इसमें छौंक नहीं लगाएँगे तो ‘महाराज’ खुश कैसे होंगे भला!

मनीष तिवारी के ट्वीट का स्क्रीनशॉट-2

बस तिवारी जी आ गए छौंक लगाने। मोदी सरकार से पहले बजट पेश कर दिया। संसद में नहीं, सोशल मीडिया पर। ऊपर से लिख दिया कि इसे सरकार ने ही लीक किया है। हद कर दी तिवारी जी आपने!

मनीष तिवारी जी! आप बहुत क्यूट हैं। आपकी सरकार से सूचना निकलवाने वाले लूटियंस पत्रकार तक को मोदी सरकार में ‘धक्के’ खाने पड़ रहे हैं और आप बात कर रहे हैं बजट लीक होने की! वो भी मीडिया के सूत्रों को! खैर! आपकी भी दुकान चलती रहे, शिवभक्त राहुल बाबा का आशीर्वाद बना रहे आप पर। 3-4 पहले वैसे भी आप लोकसभा में घुसने के लिए सांसदी का दावा ठोक ही चुके हैं। ‘महाराज’ पर दबाव बनाना भी जरूरी है।

मनीष तिवारी के ट्वीट का स्क्रीनशॉट-3
मनीष तिवारी के ट्वीट का स्क्रीनशॉट-4

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘योगी जैसा मुख्यमंत्री मुलायम सिंह और अखिलेश भी नहीं रहे’: सपा के खिलाफ प्रचार पर बोलीं अपर्णा यादव- ‘पार्टी जो कहेगी करूँगी’

अपर्णा यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें मेरा समाजसेवा का काम दिखा था, जबकि अखिलेश यह नहीं देख पाए।

धर्मांतरण के दबाव से मर गई लावण्या, अब पर्दा डाल रही मीडिया: न्यूज मिनट ने पूछा- केवल एक वीडियो में ही कन्वर्जन की बात...

लावण्या की आत्महत्या पर द न्यूज मिनट कहता है कि वॉर्डन ने अधिक काम दे दिया था, जिससे लावण्या पढ़ाई में पिछड़ गई थी और उसने ऐसा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,876FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe