Thursday, April 15, 2021
Home रिपोर्ट राजदीप सरदेसाई ने स्वीकारा 2002 के दंगों के लिए मोदी ज़िम्मेदार नहीं, मीडिया ने...

राजदीप सरदेसाई ने स्वीकारा 2002 के दंगों के लिए मोदी ज़िम्मेदार नहीं, मीडिया ने झूठ फैलाया

क्या 2002 में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी इस घटना के लिए किसी भी तरह से जिम्मेदार थे? राजदीप सरदेसाई ने स्वीकार किया कि वह व्यक्तिगत रूप से मानते थे कि गोधरा नरसंहार के बाद हुए 2002 के दंगों के लिए मोदी जिम्मेदार नहीं थे।

राजदीप सरदेसाई के लगभग पूरे करियर ने ही बीजेपी विरोध और उसमें भी मोदी विरोध की बदौलत आकार लिया है। यह ऐसे पत्रकार हैं जो बिना किसी सबूत के ही अपने मीडिया ट्रायल में खासतौर से भाजपा और उसके नेताओं को तुरंत दोषी ठहराते थे। और अगर कोर्ट ने किसी को बरी कर दिया तो भी ये अपने ही बयानों को ट्विस्ट देकर खुद को जस्टिफाई करने की लगातार कोशिश करते थे और इनके इस काम में इनका पूरा गिरोह बखूबी साथ देता था। खैर ऐसे कई मुद्दे हैं जहाँ राजदीप पहले भी बेनक़ाब हो चुके हैं, आखिरी समय तक इन्होंने कॉन्ग्रेस के लिए फील्डिंग करने में कोई कसर नहीं छोड़ी और अब उनके रुख में पिछले कुछ दिनों से बड़ा बदलाव देखने को मिल रहा है। यह उनके लिए कुछ अच्छा बेशक हो सकता है पर गिरोह के लिए ये किसी बड़े सदमे से कम नहीं है।

हाल ही में, लेखक-पत्रकार मनु जोसेफ के साथ एक साक्षात्कार में, राजदीप सरदेसाई ने पुराने पाप धोकर गंगा नहाने की ठानी।

एक सवाल का जवाब देते हुए कि क्या 2002 में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी इस घटना के लिए किसी भी तरह से जिम्मेदार थे, राजदीप सरदेसाई ने स्वीकार किया कि वह व्यक्तिगत रूप से मानते थे कि गोधरा नरसंहार के बाद हुए 2002 के दंगों के लिए मोदी जिम्मेदार नहीं थे।

उन्होंने कहा, ”हमारे लिए यह कहना अनुचित है कि मोदी या कोई भी दंगे के लिए जिम्मेदार था। उन्होंने हिंसा को उकसाया नहीं।” फिर भी, राजदीप सरदेसाई ने दावा किया कि मुख्यमंत्री मोदी कुछ हद तक शांत थे क्योंकि उन्होंने दंगों को रोकने की कोशिश नहीं की थी। उन्होंने कहा कि राज्य पर मोदी का उतना नियंत्रण नहीं था जितना वीएचपी नेता प्रवीण तोगड़िया का वास्तविक नियंत्रण था क्योंकि मोदी 2002 में सत्ता में आए ही थे।

राजदीप सरदेसाई के अनुसार, मोदी उतने शक्तिशाली नहीं थे, जितना लोगों ने सोचा था और उन्होंने 2002 दंगों के दौरान प्रवीण तोगड़िया को अधिक स्पेस देने का समर्थन किया। हालाँकि, राजदीप का यह मानना है कि हिंसा में हमेशा कुछ राजनीतिक निवेश होता है, जो इस बात का संकेत है कि नरेंद्र मोदी 2002 की घटना से राजनीतिक रूप से लाभान्वित हुए थे।

मीडिया में दंगों की रिपोर्टिंग पर खेद व्यक्त करते हुए, राजदीप सरदेसाई ने स्वीकार किया कि गुजरात दंगों को मीडिया द्वारा सनसनीखेज बनाया गया था। राजदीप ने कहा कि दंगों जैसी संवेदनशील घटनाओं को रिपोर्ट करते समय सेल्फ सेंसरशिप की जरूरत है। राजदीप आखिरकार इस तथ्य पर सहमत हो गए कि मीडिया वास्तव में दंगों की तीव्रता को बढ़ाने के लिए ज़िम्मेदार था।

जबकि राजदीप का यह रहस्योद्घाटन अब हुआ है, हाल तक राजदीप यह कहते रहे हैं कि मोदी और भाजपा के हाथ खून से सने हैं और राजदीप ने 1984 के सिख नरसंहार की तुलना 2002 के दंगों से भी की थी जहाँ कॉन्ग्रेस के नेता सीधे तौर पर शामिल थे और राजीव गाँधी ने खुद हिंसा भड़काई थी यह भाषण देकर कि ‘जब एक बड़ा पेड़ गिरता है, तब धरती हिलती है।’ जबकि 2002 के दंगों की बात करें तो सरदेसाई ने अब स्वीकार किया कि मोदी की कोई भूमिका नहीं थी और अदालतों ने भी उन्हें क्लीन चिट दे दी है।

राजदीप 2018 में भी मोदी से 2002 के लिए माफ़ी माँगने को कह रहे थे लेकिन अब वह कह रहे हैं कि मोदी इसमें शामिल नहीं थे।

एक बात तो यह है कि राजदीप अब इस बात से सहमत हैं कि मोदी की दंगों में भूमिका नहीं थी और मीडिया ने दंगों को सनसनीखेज बना दिया था, क्या वह जानबूझकर इस ‘सनसनीखेजवाद’ को 2002 से लेकर हाल तक तक आगे बढ़ा रहे थे?

जैसा कि 2019 के लोकसभा चुनावों के पूर्व रुझानों से पता चलता है कि एनडीए सरकार सत्ता में वापस आ रही है, कॉन्ग्रेस समर्थित मीडिया पारिस्थितिकी तंत्र नरेंद्र मोदी के साथ तालमेल बिठाने का मौका खोजने की कोशिश में अपने पुराने आकाओं और गिरोहों को छोड़ने का यह एक संकेत है। या इस बात का डर कि अब और कॉन्ग्रेसी या देश विरोधी एजेंडा चलाना संभव नहीं।

राजदीप सरदेसाई जैसे वामपंथी मीडिया और उनके गिरोह के अन्य पत्रकारों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ खुले तौर पर और हमेशा के लिए पक्षपात किया क्योंकि वह गुजरात के मुख्यमंत्री थे। पीएम मोदी के खिलाफ एक अथक अभियान चलाने वाले इस पूरे पारिस्थितिकी तंत्र ने आखिरकार महसूस किया कि उनका दुष्प्रचार सोशल मीडिया के युग में और अधिक काम नहीं करता दिख रहा है। इसलिए, लुटियंस इकोसिस्टम के कुछ वर्ग द्वारा पीएम मोदी और भाजपा के खिलाफ उनके निरंतर नाकामयाब घेरेबंदी के बाद, अब हताश होकर सच बोलने की कोशिश की गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सुशांत सिंह राजपूत पर फेक न्यूज के लिए AajTak को ऑन एयर माँगनी पड़ेगी माफी, ₹1 लाख जुर्माना भी: NBSA ने खारिज की समीक्षा...

AajTak से 23 अप्रैल को शाम के 8 बजे बड़े-बड़े अक्षरों में लिख कर और बोल कर Live माफी माँगने को कहा गया है।

‘आरोग्य सेतु’ डाउनलोड करने की शर्त पर उमर खालिद को जमानत, पर जेल से बाहर ​नहीं निकल पाएगा दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों का...

दिल्ली दंगों से जुड़े एक मामले में उमर खालिद को जमानत मिल गई है। लेकिन फिलहाल वह जेल से बाहर नहीं निकल पाएगा। जाने क्यों?

कोरोना से जंग में मुकेश अंबानी ने गुजरात की रिफाइनरी का खोला दरवाजा, फ्री में महाराष्ट्र को दे रहे ऑक्सीजन

मुकेश अंबानी ने अपनी रिफाइनरी की ऑक्सीजन की सप्लाई अस्पतालों को मुफ्त में शुरू की है। महाराष्ट्र को 100 टन ऑक्सीजन की सप्लाई की जाएगी।

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

कोरोना पर कुंभ और दूसरे राज्यों को कोसा, खुद रोड शो कर जुटाई भीड़: संजय राउत भी निकले ‘नॉटी’

संजय राउत ने महाराष्ट्र में कोरोना के भयावह हालात के लिए दूसरे राज्यों को कोसा था। कुंभ पर निशाना साधा था। अब वे खुद रोड शो कर भीड़ जुटाते पकड़े गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,218FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe