Thursday, August 5, 2021
Homeरिपोर्टमीडिया'हमारी मुट्ठी' को 'मोदी की मुट्ठी' कर अभिसार शर्मा ने मीडिया पर लगाया लांछन,...

‘हमारी मुट्ठी’ को ‘मोदी की मुट्ठी’ कर अभिसार शर्मा ने मीडिया पर लगाया लांछन, लताड़े जाने पर वीडियो किया डिलीट

जब ट्विटर पर अभिसार शर्मा की कारस्तानी एक यूज़र ने उजागर की तो उन्होंने चुपचाप वह वीडियो डिलीट कर नया वीडियो डाल दिया, जिसमें "मोदी की मुट्ठी" नहीं था। लेकिन उन्होंने न ही आजतक या चित्रा त्रिपाठी से माफ़ी माँगी, न ही अपनी गलती पर खेद जताया।

पत्तलकार अभिसार शर्मा को एक बार फिर से फेक न्यूज़ फैलाते हुए पकड़ा गया है। इस बार उन्होंने आज तक की पत्रकार चित्रा त्रिपाठी को बदनाम करने और “मोदी-भक्त” दिखाने के लिए उनके एक कार्यक्रम के वीडियो के साथ छेड़छाड़ की है। पकड़े जाने पर उन्होंने वीडियो तो डिलीट कर दिया, लेकिन अपनी करतूत के लिए चित्रा त्रिपाठी से माफ़ी नहीं माँगी

चित्रा त्रिपाठी ने चंद्रयान-2 के ऊपर एक कार्यक्रम किया था, जिसका शीर्षक था “अब चांद हमारी मुट्ठी में”। इसे अभिसार शर्मा ने “अब चांद मोदी की मुट्ठी में” वीडियो एडिटिंग से कर दिया और “प्रधानमंत्री की तौहीन” पर चिंता जताने के बहाने ऐसा दिखाने की कोशिश की कि मीडिया चैनल्स प्रधानमंत्री की चाटुकारिता करने में लगे हैं। हालाँकि उन्होंने ‘technically’ चित्रा की तस्वीर धुँधली कर दी, लेकिन फिर भी किसी के लिए यह पता लगाना मुश्किल नहीं था कि उनके निशाने पर कौन-सी पत्रकार हैं।

जब ट्विटर पर अभिसार शर्मा की कारस्तानी एक यूज़र ने उजागर की तो उन्होंने चुपचाप वह वीडियो डिलीट कर नया वीडियो डाल दिया, जिसमें “मोदी की मुट्ठी” नहीं था। लेकिन उन्होंने न ही आजतक या चित्रा त्रिपाठी से माफ़ी माँगी, न ही अपनी गलती पर खेद जताया।

पाकिस्तानियों का ‘कच्चा माल’ रह चुके हैं

अभिसार शर्मा इसके पहले 370 के मुद्दे पर पाकिस्तान की लाइन रटने वाले पत्तलकारों की फेहरिस्त में भी शामिल रह चुके हैं। पाकिस्तान के पत्रकार हामिद मीर ने उनके एक वीडियो को अपने हिंदुस्तान-विरोधी प्रोपगेंडा का हिस्सा बनाया था, जिसमें अभिसार शर्मा अनुच्छेद 370 हटने के बाद चले जोक्स से तिल का ताड़ बना रहे थे

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योनि, मूत्रमार्ग, गुदा, मुँह में लिंग प्रवेश से ही रेप नहीं… जाँघों के बीच रगड़ भी बलात्कार ही: केरल हाई कोर्ट

केरल हाई कोर्ट ने कहा कि महिला के शरीर का कोई भी हिस्सा, चाहे वह जाँघों के बीच की गई यौन क्रिया हो, बलात्कार की तरह है।

इस्लामी आक्रांताओं की पोल खुली, सेक्युलर भी बोले ‘जय श्री राम’: राम मंदिर से ऐसे बदली भारत की राजनीतिक-सामाजिक संरचना

राम मंदिर के निर्माण से भारत के राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में आए बदलावों को समझिए। ये एक इमारत नहीं बन रही है, ये देश की संस्कृति का प्रतीक है। वो प्रतीक, जो बताता है कि मुग़ल एक क्रूर आक्रांता था। वो प्रतीक, जो हमें काशी-मथुरा की तरफ बढ़ने की प्रेरणा देता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,048FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe