Saturday, October 16, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाBJP की प्रेस कॉन्फ्रेंस से पत्रकारिता के 'नाराज फूफा' गायब

BJP की प्रेस कॉन्फ्रेंस से पत्रकारिता के ‘नाराज फूफा’ गायब

गौर करने वाली बात यह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल पूछने की प्रबल इच्छा रखकर महागठबंधन की रैली से लेकर चार्टर प्लेन में समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ घूमने वाले NDTV के वरिष्ठ पत्रकार कहीं नजर नहीं आ रहे हैं।

आम चुनाव के नतीजों से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह मीडिया के सामने आए हैं। शुक्रवार (17 मई, 2019) को नई दिल्ली स्थित (भारतीय जनता पार्टी) मुख्यायल में पार्टी चीफ अमित शाह की प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल हुए।

प्रेस कॉन्फ्रेंस की शुरुआत में अमित शाह ने कहा कि संगठन के आकार पर हमने मोदी जी के कामों को नीचे तक पहुँचाने का लगातार प्रयास किया। 2006 में हमारे पास छह सरकारें थीं, पर आज 19 सरकारें हैं। शाह ने यह भी बताया कि मोदी सरकार पाँच साल में लगभग 133 योजनाएँ लेकर आई।

नाराज फूफा कहीं नजर नहीं आ रहे

देखने वाली बात यह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल पूछने की प्रबल इच्छा रखकर महागठबंधन की रैली से लेकर चार्टर प्लेन में समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ घूमने वाले NDTV के वरिष्ठ पत्रकार कहीं नजर नहीं आ रहे हैं। विगत 4-5 सालों में देखने को मिला है कि अक्सर यह पत्रकार, शादी-बरात में नाराज फूफा की तरह ही मीडिया और प्राइम टाइम में नजर आते रहे हैं।

यह भी संभव है कि इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के समय वो किसी ट्रांसलेटर से अपने किसी फेसबुक पोस्ट का अनुवाद करवाने में व्यस्त हों या फिर किसी आम वाले के पास बैठकर आम की विभिन्न किस्मों पर चर्चा कर रहे हों। आखिरी बार पत्रकारिता का यह नाराज फूफा बेगूसराय में कम्युनिस्ट कामरेड कन्हैया कुमार से एक कठिन सवाल पूछते देखे गए थे। यह कठिन सवाल था, “आप शादी कब करेंगे?”

खुद को ज़रूरत से ज़्यादा गंभीरता से लेने वाले गिरोह विशेष के पत्रकार को ऐसा तो नहीं लगा कि BJP कार्यालय में जाना उनके आदर्शों के खिलाफ है और अब यह कसम खा रखी हो कि जब तक मोदी रेंगते हुए उनके निजी आवास पर नहीं आएँगे वो कठिन सवाल पूछेंगे ही नहीं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दलित युवक लखबीर सिंह की हत्या के बाद संयुक्त किसान मोर्चा के बचाव में कूदा India Today, ‘सोर्स’ के नाम पर नया ‘भ्रमजाल’

SKM के नेता प्रदर्शन स्थल पर हुए दलित युवक की हत्या से खुद को अलग कर रहे हैं। इस बीच इंडिया टुडे ग्रुप अब उनके बचाव में सामने आया है। .

कुंडली बॉर्डर पर लखबीर की हत्या के मामले में निहंग सरबजीत को हरियाणा पुलिस ने किया गिरफ्तार, लगे ‘जो बोले सो निहाल’ के नारे

निहंग सिख सरबजीत की गिरफ्तारी की वीडियो सामने आई है। इसमें आसपास मौजूद लोग तेज तेज 'जो बोले सो निहाल' के नारे बुलंद कर रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
128,835FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe