Friday, December 3, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाहाई TRP के बावजूद अनिल अम्बानी के स्वामित्व वाला BTVi चैनल अचानक बंद

हाई TRP के बावजूद अनिल अम्बानी के स्वामित्व वाला BTVi चैनल अचानक बंद

बीटीवीआई की रेटिंग काफ़ी अच्छी थी और अंग्रेजी भाषा के बिजनेस चैनलों में ये लगातार दूसरे स्थान पर रहा था। ऐसे में इसे अचानक बंद किया जाना लोगों की समझ में नहीं आया। चैनल ने शनिवार की अर्धरात्रि से प्रसारण ठप्प किए जाने की घोषणा की।

अनिल अम्बानी के स्वामित्व वाली बीटीवीआई लाइव चैनल अचानक से बंद कर दिया गया है। बिजनेस-इकोनॉमी जॉनर के इस चैनल की टीआरपी रेटिंग भी अच्छी थी। ऐसे में इसे अचानक बंद किया जाना लोगों की समझ में नहीं आया। चैनल ने शनिवार (अगस्त 31, 2019) की अर्धरात्रि से प्रसारण ठप्प किए जाने की घोषणा की। बिजनेस टेलीविजन इंडिया (बीटीवीआई) ने उन सभी लोगों का धन्यवाद किया, जो पिछले 3 वर्षों में चैनल के साथ रहे और इसमें योगदान दिया।

बीटीवीआई की टीआरपी काफ़ी अच्छी थी और अंग्रेजी भाषा के बिजनेस चैनलों में ये लगातार दूसरे स्थान पर रहा था। बीटीवीआई ने बिना किसी चैनल का नाम लिए कहा कि उसने टीआरपी के मामले में कई ऐसे चैनलों को भी पीछे छोड़ दिया, जो पिछले 2 दशक से सक्रिय थे। बीटीवीआई की टीआरपी ‘एनडीटीवी प्रॉफिट’ से काफ़ी अच्छी थी।

बीटीवीआई को 2008 में यूटीवी द्वारा लॉन्च किया गया था और इसका नाम यूटीवीआई था। इसके बाद ब्लूमबर्ग ने इसमें हिस्सेदारी ख़रीदी, जिसके बाद 2009 में इसका नाम ब्लूमबर्ग यूटीवी हो गया। 2012 में अनिल अम्बानी की कम्पनी द्वारा हिस्सेदारी खरीदे जाने के बाद इसका नाम ब्लूमबर्ग टीवी इंडिया हो गया। इसके बाद 2016 में अनिल अम्बानी की कम्पनी और ब्लूमबर्ग के बीच का लाइसेंस एक्सपायर हो गया और इसे रिन्यू नहीं कराया गया। इसी वर्ष चैनल का नाम बीटीवीआई रखा गया।

इंडिया टुडे के पत्रकार शिव अरूर ने ट्वीट कर लिखा कि तिरंगा टीवी और बीटीवीआई का बंद होना बताता है कि मीडिया जगत के लिए यह कठिन परिस्थिति है। बीटीवीआई के पत्रकार आदित्य राज कौल ने लिखा कि हर यात्रा का एक अंत होता है और रात के अँधेरे के बाद ही नया सवेरा निकलता है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सियासत होय जब ‘हिंसा’ की, उद्योग-धंधा कहाँ से होय: क्या अडानी-ममता मुलाकात से ही बदल जाएगा बंगाल में निवेश का माहौल

एक उद्योगपति और मुख्यमंत्री की मुलाकात आम बात है। पर जब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हों और उद्योगपति गौतम अडानी तो उसे आम कैसे कहा जा सकता?

पाकिस्तानी मूल की ऑस्ट्रेलियाई सीनेटर मेहरीन फारुकी से मिलिए, सुनिए उनकी हिंदू घृणा- जानिए PM मोदी से उनको कितनी नफरत

मेहरीन फारूकी ने ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के अच्छे दोस्त PM नरेंद्र मोदी को घेरने के बहाने संघीय सीनेट में घृणा के स्तर तक उतर आईं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,299FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe