Monday, November 29, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाधर्मांतरण जिहाद पर TV शो इस्लामोफोबिया? न्यूज नेशन को NBDSA ने सारे वीडियो हटाने...

धर्मांतरण जिहाद पर TV शो इस्लामोफोबिया? न्यूज नेशन को NBDSA ने सारे वीडियो हटाने के दिए आदेश

एनबीडीएसए के चेयरपर्सन जस्टिस (रिटायर्ड) एके सीकरी ने कहा कि किसी भी न्यूज को प्रसारित करते समय आचार संहिता, प्रसारण मानक, सेल्फ-रेगुलेशन, मौलिक सिद्धांत और विशिष्ट दिशा-निर्देशों और निष्पक्षता का पालन किया जाना चाहिए।

न्यूज ब्रॉडकास्टिंग एंड डिजिटल स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी (NBDSA) को न्यूज नेशन टीवी के शो ‘कन्वर्ज़न जिहाद’ (‘Conversion Jihad’) के खिलाफ 6 नवंबर को एक शिकायत मिली। इसके बाद 15 नवंबर को NBDSA ने एक आदेश पारित किया, जिसमें उसने ब्रॉडकास्टर से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि अगर उसका एंकर ‘निष्पक्ष’ नहीं रहता है तो उस पर कर्रवाई करे। NBDSA ने चैनल को कार्रवाई करने और कार्यक्रम के संचालन के लिए अपने एंकरों को उचित तरीके से प्रशिक्षित करने का निर्देश दिया।

इसके अलावा, एनबीडीएसए ने निर्देश दिया कि न्यूज नेशन इस कार्यक्रम के सभी वीडियो 7 दिनों के भीतर सभी प्लेटफॉर्म से हटा ले। यदि वीडियो उपलब्ध रहते हैं तो चैनल को लिखित रूप में इसके बारे में NBDSA को सूचित करना होंगे। याद दिला दें कि न्यूज नेशनने ‘कन्वर्ज़न जिहाद’ शो के लिए बिना शर्त माफी जारी किया था। 

एनबीडीएसए के चेयरपर्सन जस्टिस (रिटायर्ड) एके सीकरी ने कहा कि किसी भी न्यूज को प्रसारित करते समय आचार संहिता, प्रसारण मानक, सेल्फ-रेगुलेशन, मौलिक सिद्धांत और विशिष्ट दिशा-निर्देशों और निष्पक्षता का पालन किया जाना चाहिए।

एनबीडीएसए ने एंकर दीपक चौरसिया द्वारा शो के दौरान दिए गए कुछ बयानों पर भी नाराजगी जताई। एनबीडीएसए ने जिन कुछ बयानों का विरोध किया, उनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

1. “मेमचंद जिंदा है जमात शर्मिंदा है”

2. “500- हिंदू कैसे बनाए मुस्लिम?”

3. “क्या मेवात पाकिस्तान बन गया?”

सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति एके सीकरी ने कहा कि इस तरह के बयान सिद्धांतों और दिशानिर्देशों का उल्लंघन करते हैं। बता दें कि YouTube पर NewsNation का वीडियो अब “प्राइवेट” है और इसे आम जनता के लिए ऑफ एयर कर दिया गया है।

न्यूज नेशन टीवी और ‘कन्वर्शन जिहाद’ शो के खिलाफ क्या थी शिकायत

CJP (सिटीजन्स फॉर जस्टिस एंड पीस) नामक एक एनजीओ ने न्यूज नेशन टीवी के “कन्वर्ज़न जिहाद” शो को लेकर एनबीएसडीए में शिकायत दर्ज कराई थी। इस शो की एंकरिंग दीपक चौरसिया ने की थी। शिकायत में कहा गया कि एंकर ने मौलाना सैयद उल कादरी को ‘झूठ का कारखाना’ बताया था और पूरे मुस्लिम समुदाय की ओर से उन्हें माफी माँगने के लिए कहा था।

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया था कि जमात द्वारा गैर-धार्मिक और देश विरोधी गतिविधि को अंजाम देने की बात कहकर इस दौरान “इस्लामोफोबिक” विचारों को बढ़ावा देने का “प्रयास” किया गया। एनजीओ ने दावा किया कि इस तरह के कार्यक्रमों को प्रसारित नहीं किया जाना चाहिए, क्योंकि वे भारत की “समग्र और विविधता” की संस्कृति को नुकसान पहुँचा सकते हैं और इससे हिंसा हो सकती है।

इस पर न्यूज नेशन टीवी ने कहा था कि कार्यक्रम में मेहमानों द्वारा दिए गए बयानों के लिए चैनल या एंकर को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। हालाँकि, चैनल ने कहा कि इससे अगर किसी को ठेस पहुँची है तो उन्होंने बिना शर्त माफी माँग रहा है। माफी माँगने के बावजूद NBDSA ने इसे ‘इस्लामोफोबिया’ बताते हुए शो के वीडियो को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से हटाने का आदेश दिया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe